शानदार तिमाही नतीजों के बावजूद HUL ने चिंता जताई

दुनिया की दिग्गज कंज्यूमर कंपनी हिंदुस्तान यूनिलीवर HULकी भारतीय सहयोगी ने शेयर बाजार के अनुमान के हिसाब से शानदार तिमाही नतीजे पेश किए हैं। हिंदुस्तान यूनिलीवर के नतीजे में देश की इकनोमिक रिकवरी का असर देखने को मिला है, लेकिन कंपनी ने महंगाई संबंधी चुनौतियों को लेकर चिंता जताई है।
HUL का नेट इनकम
हिंदुस्तान युनिलीवर की सितंबर तिमाही में नेट इनकम नौ फीसदी बढ़कर 2190 करोड़ रुपये पर पहुंच गई है। ब्लूमबर्ग द्वारा किए गए एक सर्वे में यह अनुमान जताया गया था कि HUL का नेट इनकम 2200 करोड़ रुपये पर पहुंच सकता है। HUL ने शेयर बाजार को दी गई जानकारी में यह कहा है।
इकनोमी में रिकवरी
हिंदुस्तान यूनिलीवर का रेवेन्यु एडवांस 1 साल पहले 11 फीसदी की तुलना में इस साल 12 फीसदी बढ़कर 12,520 करोड़ रुपये पर पहुंच गया है। भारत में कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए किए गए लॉकडाउन के खत्म होने के बाद अब जब अर्थव्यवस्था खुल रही है तो देश की इकोनॉमी में रिकवरी दर्ज की जा रही है।
कच्चे माल के भाव में तेजी
भारत में कच्चे माल के भाव में काफी तेजी आ रही है। डव शॉप और लिप्टन टी बनाने वाली कंपनी कच्चे माल के बढ़ते भाव से परेशान है। कंपनी के प्रबंधन ने संकेत दिए हैं कि कच्चे माल के भाव में तेजी आने वाले समय में जारी रह सकती है, इससे निवेशकों में चिंता है।
कई सालों में पहली बार ऐसी महंगाई
हिंदुस्तान युनिलीवर के कारोबार पर कच्चे माल के बढ़ते भाव का असर देखा जा रहा है। कंपनी कीमत बढ़ाने से बच रही है क्योंकि इससे कंज्यूमर सेंटीमेंट बिगड़ने का खतरा पैदा हो गया है। सितंबर तिमाही में देश में कारोबारी गतिविधियों में सुधार आया है, लेकिन कंपनी कच्चे माल के बढ़ते भाव से परेशान है। हिंदुस्तान युनिलीवर ने कहा है कि पिछले कई सालों से इस तरह की महंगाई नहीं देखी गई थी।
निवेशकों को निराशा
मंगलवार के कारोबार में हिंदुस्तान युनिलीवर के शेयर में चार फीसदी की कमजोरी देखी गई। यह मई की शुरुआत के बाद से सबसे बड़ी कमजोरी है। S&P Bse सेंसेक्स इस साल 30 फीसदी चढ़ चुका है जबकि HUL के शेयरों ने निवेशकों को निराश ही किया है।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *