‘हाउडी मोदी’: कूटनीतिक दांवपेच से भरा हुआ था प्रधानमंत्री मोदी का भाषण

अपने भाषण समाप्ति के बाद पीएम मोदी ने ट्रंप को कुछ ऐसा करने के लिए प्रेरित किया
अपने भाषण समाप्ति के बाद पीएम मोदी ने ट्रंप को कुछ ऐसा करने के लिए प्रेरित किया

ह्यूस्टन। अमेरिका के ह्यूस्टन में ‘हाउडी मोदी’ इवेंट में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का भाषण कई कूटनीतिक दांवपेच से भरा हुआ था।
मोदी ने खासतौर पर जिस तरह और जिस अंदाज में कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने का जिक्र किया, उसे एक बड़े मास्टर स्ट्रोक के तौर पर देखा जा रहा है।
मोदी ने अचानक भाषण रोककर डोनल्ड ट्रंप और अमेरिकी सांसदों के सामने ही भारतीय संसद के लिए खड़े होकर तालियां बजवा दीं।
इसके साथ ही पाकिस्तान पर एक दूसरा ‘ट्रंप कार्ड’ अमेरिका पर हुए सबसे बड़े आतंकी हमले 26/11 और मुंबई अटैक को जोड़कर चला और बिना नाम लिए पाकिस्तान की तरफ इशारा भी कर दिया।
वैश्विक मंचों पर कश्मीर को लगातार मुद्दा बनाने की कोशिश कर रहे पाकिस्तान के लिए मोदी के इस कूटनीतिक स्ट्रोक का तोड़ निकालना अब मुश्किल होगा।
370 पर भारतीय सांसदों के लिए तालियां बजवाना बड़ी कूटनीति?
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आर्टिकल 370 को एक बाधा बताते हुए कहा कि उनकी सरकार ने 70 साल पुरानी इस बाधा को विदा कर दिया है।
उन्होंने कहा, ‘हमारी संसद के दोनों सदनों में घंटों तक इसकी चर्चा हुई। भारत में हमारी पार्टी के पास उच्च सदन में बहुमत नहीं है। इसके बाद भी इससे जुड़े फैसले दो तिहाई बहुमत से पारित हुए।’ उन्होंने वहां मौजूद 50 हजार भारतीय समुदाय के लोगों से कहा, ‘मैं आप सबसे आग्रह करता हूं कि हिंदुस्तान के सभी सांसदों के लिए स्टैंडिंग ओवेशन हो जाए।’ इसके बाद उनके इस आग्रह के बाद लोग खड़े हो गए और देर तक स्टेडियम तालियों की गड़गड़ाहट से गूंजता रहा।’
अपने भाषण समाप्ति के बाद पीएम मोदी ने ट्रंप को कुछ ऐसा करने के लिए प्रेरित किया जिससे सुरक्षा एजेंसियों के पसीने छूट गए।
दरअसल, पीएम मोदी के भाषण के दौरान अमेरिकी राष्‍ट्रपति ट्रंप स्‍टेज के नीचे बैठकर उन्‍हें बेहद ध्‍यानपूर्वक सुन रहे थे। भाषण की समाप्ति के बाद प्रधानमंत्री मोदी अमेरिकी राष्‍ट्रपति से मिलने के लिए स्‍टेज से नीचे आए।
पीएम मोदी ने ट्रंप को हाथ के इशारों से एनआरजी मैदान का एक चक्‍कर लगाने और लोगों का अभिवादन स्‍वीकार करने का सुझाव दिया जिसे ट्रंप ने तत्‍काल मान लिया।
दौड़ पड़े सीक्रेट सर्विस-एसपीजी के जवान

पीएम मोदी और डोनल्‍ड ट्रंप को एकसाथ आते देख खुद को सेल्‍फी लेने से नहीं रोक सका एक प्रवासी भारतीय बच्‍चा
पीएम मोदी और डोनल्‍ड ट्रंप को एकसाथ आते देख खुद को सेल्‍फी लेने से नहीं रोक सका एक प्रवासी भारतीय बच्‍चा

इसके बाद दोनों नेता मैदान के अंदर लोगों से मिलने के लिए चल दिए। पीएम मोदी और ट्रंप के इस अचानक लिए गए फैसले से सुरक्षा एजेंसियों के कान खड़े हो गए। दोनों नेताओं को 50 हजार लोगों की भीड़ के बीच जाता देख तत्‍काल अमेरिकी राष्‍ट्रपति की सुरक्षा व्‍यवस्‍था देखने वाली सीक्रेट सर्विस के जवान और पीएम मोदी की सुरक्षा के लिए जिम्‍मेदार एसपीजी के जवान दौड़ पड़े।
एसपीजी और सीक्रेट सर्विस के जवानों ने पीएम मोदी और ट्रंप के चारों तरफ एक कड़ा सुरक्षा घेरा बना लिया। इस दौरान दोनों ही सुरक्षा एजेंसियों के कई जवानों के चेहरे पर बेचैनी साफ नजर आई। पीएम मोदी और राष्‍ट्रपति ट्रंप को अपने बीच पाकर जनता भी उत्‍साहित हो गई और खड़े होकर उनका स्‍वागत किया। पीएम मोदी और ट्रंप ने भी हाथ हिलाकर भारतीय अमेरिकी लोगों का अभिवादन स्‍वीकार किया। मैदान का चक्‍कर लगाने के दौरान सीक्रेट सर्विस और एसपीजी के जवान कई बार दौड़ते नजर आए।
कश्मीर पर ट्रंप की मध्यस्थता की पेशकश को भारत नकार चुका है
बता दें कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने पर भारत बिल्कुल साफ कर चुका है कि यह उसका आंतरिक मुद्दा है। पिछले दिनों अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप ने जब कुछ मौकों पर कश्मीर में मध्यस्थता की पेशकश की थी तो भारत ने कड़े शब्दों में जाहिर कर दिया था कि इस द्विपक्षीय मुद्दे में तीसरे देश के दखल की गुंजाइश नहीं है। इस दौरान भारत-अमेरिका के रिश्तों में तल्खी भी आ गई थी, जिसके बाद ट्रंप को अपने बयानों में नरमी लानी पड़ी थी।
मोदी के दांव से पाक हुआ चित
रविवार को हाउडी मोदी के इस मेगा इवेंट में पीएम मोदी ने अमेरिकी राष्ट्रपति के सामने ही 370 हटाने पर भारतीय सांसदों के लिए तालियां बजवाकर अमेरिका ही नहीं, बल्कि वैश्विक समुदाय को भी साफ कर दिया कि यह फैसला देश की सर्वोच्च संस्था ने लिया है।
मोदी यह कूटनीतिक दांव पाकिस्तान के पीएम इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा (UNGA) में कश्मीर मुद्दा उठाने से ठीक पहले चला है।
पाकिस्तान पर मोदी का दूसरा कूटनीतिक अटैक
पीएम मोदी ने इसके साथ ही बिना नाम लिए आतंकवाद के मुद्दे पर पाकिस्तान को धो डाला। पीएम ने कहा कि 9/11 हो या मुंबई में 26/11 हो, उसके साजिशकर्ता कहां पाए जाते हैं? उन्होंने कहा कि इन लोगों ने भारत के प्रति नफरत को ही अपनी राजनीति का केंद्र बना दिया है। ये वो लोग हैं, जो अशांति चाहते हैं। प्रधानमंत्री मोदी जब पाकिस्तान का नाम लिए बगैर उसे वैश्विक आतंकवाद का गढ़ बताते हुए हमला कर रहे थे, उस वक्त दर्शकों में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप भी मौजूद थे जो उनके भाषण के बीच में कई बार तालियां बजाते हुए दिखे।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *