हनीप्रीत अदालत में पेश: 6 दिन की रिमांड पर पुलिस के हवाले

पंचकूला। डेरा प्रमुख राम रहीम की सजा के बाद हिंसा भड़काने की आरोपी हनीप्रीत को बुधवार को यहां की अदालत में पेश किया गया। हनीप्रीत को कड़ी सुरक्षा व्यवस्था में कोर्ट लाया गया था। पेशी के वक्त हनीप्रीत भावुक हो गई। वह हाथ जोड़कर रो पड़ी। कोर्ट में हनीप्रीत ने खुद को निर्दोष बताया।
पुलिस ने हनीप्रीत को 14 दिन की रिमांड पर दिए जाने की मांग की, लेकिन छह दिन की ही रिमांड मिली। पुलिस अब पता लगाएगी कि पंचकूला दंगे में हनीप्रीत की क्या भूमिका रही। पुलिस ने कहा कि उसे हनीप्रीत का मोबाइल फोन चाहिए। पुलिस के मुताबिक हनीप्रीत ने हिंसा के दिन इस मोबाइल फोन का इस्तेमाल किया था।
इसके अलावा जब वह फरार चल रही थी, उस वक्त भी अपने मोबाइल के जरिए लोगों के संपर्क में थी। वहीं हनीप्रीत के वकील एस. के. गर्ग ने कहा कि उनके मुवक्किल पर किसी भी तरह से राजद्रोह का केस नहीं बनता है। वकील ने बताया कि कोर्ट में हनीप्रीत ने कहा कि वह बेकसूर है, उसने कोई भी गलत काम नहीं किया है।
बता दें कि काफी दिनों तक गायब होने के बाद हनीप्रीत मंगलवार को अचानक से लोगों के सामने आई थी।
एक चैनल को दिए इंटरव्यू में उसने खुद को निर्दोष बताया था। इसके बाद हरियाणा पुलिस ने उसे पंजाब में गिरफ्तार कर लिया था। सूत्रों के मुताबिक वह बठिंडा में एक डेरा समर्थक के घर पर छिपी हुई थी। पुलिस अब यह पता लगाने में जुट गई है कि गायब रहने के दौरान हनीप्रीत ने किस-किससे संपर्क किया।
बता दें कि राम रहीम को सजा सुनाए जाने के बाद हुई हिंसा में 30 से अधिक लोगों की जान चली गई थी। राम रहीम की गिरफ्तारी के बाद से हनीप्रीत फरार थी और पुलिस ने उनकी तलाश में कई जगह छापे भी मारे थे। आखिरकार 38 दिन तक पुलिस को छकाने के बाद मंगलवार को वह गिरफ्त में आई।
-एजेंसी