हिन्दी पखवाड़े का समापन, डॉ. कृष्णगोपाल क‍िये सम्मानित

होशंगाबाद। शासकीय नर्मदा महाविद्यालय होशंगाबाद में आज हिन्दी पखवाड़े के समापन अवसर पर कविता पाठ का आयोजन किया गया ।जिसमें मुख्य कवि के रूप में वरिष्ठ साहित्यकार डॉक्टर विनोद निगम रहे‌।

इस अवसर पर प्राचार्य डॉ. ओ. एन. चौबे ने स्वागत उद्बोधन में कहा कि कविता ऐसी सरल अभिव्यक्ति है जो अपने अनुभवों विचारों को मूर्त रूप देती है तथा दुनिया के कोलाहल से दूर हमें मन की शांति प्रदान करती है । कार्यक्रम के संयोजक डॉ. के. जी. मिश्र ने कविता को स्वानुभूति बताया और माखनलाल चतुर्वेदी की कविता पुष्प की अभिलाषा “चाह नहीं मैं सुरबाला के गहनों में गूंथा जाऊं” पंक्तियों को पढ़कर बताया कि साहित्यकार समाज के ह्रदय को उसकी मानसिक स्थिति को परिवर्तित करने की सामर्थ्य रखता है | साहित्य के शब्दो में वो ताकत है जिससे प्रेरित होकर युवा अपने घर को छोड़कर देश भक्ति से ओतप्रोत होकर प्राणों के बलिदान हेतु तैयार हो जाता है |

भवानी प्रसाद मिश्र की कविताएं समाज की दिशा निर्धारण करती हैं । मुख्य अतिथि डॉ. विनोद निगम ने “कविता अच्छा लगता है, चिड़ियों ने आना छोड़ दिया” और होशंगाबाद तथा मां नर्मदा पर रचित कविताएं सुनाकर यह संदेश दिया कि कविता की रचना के लिए सच में सरल होना, विनम्र होना आवश्यक है | सहज अभिव्यक्ति ही कविता है जिसमें भारी भरकम शब्दों की गुंजाइश नहीं होती। श्रीमती आशा ठाकुर ,डॉ अंजना यादव ,छात्र देवांश बैरागी ,छात्रा सोनल पांडे ,दीपेश नामदेव, सागर सरेआम आदि ने देश भक्ति, सांस्कृतिक ,वीर रस पर स्वरचित और सस्वर कविता पाठ का गायन किया।

इतिहास विभाग की वरिष्ठ प्राध्यापक डॉ हंसा व्यास ने अपना माँ तुम स्वर नहीं सरगम हो, ईश्वर की रचना नहीं ईश्वर हो कविता पाठ करते हुए डॉ. के.जी. मिश्र का अपनी माताजी की स्मृति में शॉल श्रीफल और स्वयं की लिखी किताब भेंट देकर सम्मान किया। कार्यक्रम का आभार डॉ अंजना यादव तथा संचालन डॉ. एच.एस द्विवेदी ने किया।

कार्यक्रम में डॉ. बी सी जोशी ,डॉ संजय चौधरी, डॉ आर एस बोहरे, डॉ सुधीर दिक्षित, डॉ एन आर अडलक ,डॉ बी एल राय, सुश्री प्रीति कौशिक, डॉ अर्पणा श्रीवास्तव तथा आकाश अहिरवार बलराम अहिरवार भवानी अहिरवार , विजेंद्र बकोरिया,विनीता अशवारे, वैशाली प्रधान सहित अत्यधिक संख्या में छात्र उपस्थित रहे। कार्यक्रम कॉन्फ्रेंस हॉल में संपन्न हुआ।

– Legend News

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *