हिमाचल की आदिवासी महिलाओं ने शराब पर लगाया पूर्ण प्रतिबंध

मनाली। हिमाचल की स्पीति घाटी के खुरिक गांव की आदिवासी महिलाओं ने गांव में शराब की बिक्री, खरीद और उपयोग पर प्रतिबंध लगा दिया है। ग्रामीणों ने सरकारी स्कूल को बंद होने से बचाने के लिए भी पहल की है। ग्रामीणों ने फैसला लिया है कि हर एक परिवार का एक बच्चा सरकारी स्कूल में पढ़ने जाएगा।
12,000 फीट की ऊंचाई पर खुरिक गांव में लगभग 50 परिवार हैं। महिला मंडल (महिला समूह) ने प्रस्ताव पारित किया कि गांव में कोई भी शराब का उत्पादन, बिक्री या खरीद नहीं करेगा। शराब के साथ पकड़े जाने पर 1,000 रुपये के जुर्माने का प्रावधान भी किया गया है। सभी निवासियों ने निर्णय पर सहमति व्यक्त की है। पंचायत ने भी महिला मंडल का समर्थन किया है। निवासियों ने लोगों तक यह फैसला पहुंचाने के लिए ग्रामीणों ने गांव में जागरूकता के नारे लगाए।
महिलाओं के फैसले से सब खुश
खुर्ला महिला मंडल की अध्यक्ष कमला देवी ने कहा कि ‘जब डोरजे डोल्मा हमारे अध्यक्ष थे, तब गांव में शराब उत्पादन और बिक्री पर प्रतिबंध लगाने का निर्णय सर्वसम्मति से लिया गया था। शराब हमारी आने वाली पीढ़ियों की दुश्मन है और इस पर नियंत्रण समय की जरूरत है। हमें खुशी है कि सभी निवासियों ने फैसले का सम्मान किया। अन्य गांव भी हमारा अनुसरण करना चाहते हैं। यद्यपि हम दूरस्थ क्षेत्रों में रहते हैं लेकिन हम बेहतर जीवन, अच्छे समाज और बेहतर वातावरण के लिए प्रयास कर रहे हैं।’
गांव में पी जाती है घर की बनी शराब
लाहौल-स्पीति जैसे ठंडे इलाके में घर की बनी शराब बड़े स्तर पर प्रयोग की जाती है। खासकर सर्दियों के महीनों में ग्रामीण खूब शराब पीते हैं। यहां रहने वाले लोग अन्य बड़े ब्रांड की शराब के विपरीत घर के बनी शराब पीना पसंद करते हैं। शराब का सेवन करने वाले युवक कई क्षेत्रों में चिंता का विषय बन गए हैं। सूत्रों के अनुसार खुरिक की महिलाओं ने अपने युवाओं को शराब के आदी होने से रोकने के लिए यह निर्णय लिया।
हर एक घर से कम से कम एक बच्चा जाएगा स्कूल
शराब पर बैन लगाने के अलावा गांववालों ने फैसला लिया है कि गांव के सरकारी स्कूल में हर एक घर से कम से कम एक बच्चा स्कूल भेजा जाएगा ताकि स्कूल बंद न हो। एक ग्रामीण ने कहा कि महिला मंडल का फैसला बहुत प्रशंसनी है। गांववाले भी इस फैसले को गंभीरता से ले रहे हैं।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *