सुब्रत राय सहारा की गिरफ्तारी के आदेश पर सुप्रीम कोर्ट का स्‍टे

सहारा इंडिया के मालिक सुब्रत राय के खिलाफ गिरफ्तार वारंट जारी होने के महज तीन घंटे बाद ही सुप्रीम कोर्ट ने इस पर स्टे लगा दिया। अब अगले आदेश तक सुब्रत राय की गिरफ्तारी नहीं होगी। इंवेस्टर्स को रुपए नहीं लौटाने के मामले में सहारा इंडिया के मालिक सुब्रत राय के खिलाफ पटना हाईकोर्ट ने गिरफ्तार वारंट जारी किया था। जिस पर जस्टिस ए. एम खानविलकर की बेंच ने स्टे लगा दिया है। इससे पहले सहारा इंडिया के चेयरमैन सुब्रत राय के खिलाफ पटना हाई कोर्ट ने गिरफ्तारी का वारंट जारी किया था। शुक्रवार को पटना हाईकोर्ट में उनकी सशरीर पेशी होनी थी, लेकिन वह कोर्ट में नहीं पहुंचे। इस बात से नाराज होकर पटना हाई कोर्ट ने बिहार, दिल्ली और उत्तरप्रदेश के DGP को सुब्रत राय को गिरफ्तार कर कोर्ट में पेश करने का आदेश दिया। न्यायमूर्ति संदीप कुमार की एकल पीठ ने 27 अप्रैल को पिछली सुनवाई के दौरान उन्हें 11 मई को शारीरिक रूप से हाई कोर्ट के समक्ष पेश होने और यह बताने का निर्देश दिया था कि वह निवेशकों का पैसा कैसे लौटा सकते हैं। चूंकि वह 11 मई को पटना नहीं आ सके, इसलिए मामले को 12 मई के लिए स्थगित कर दिया गया।
पटना हाईकोर्ट ने 27 अप्रैल को सुनवाई के दौरान सहारा इंडिया के वकील उमेश प्रसाद सिंह से कहा था कि सहारा इंडिया बिहार के निवेशकों का पैसा कैसे लौटाएगी, इस पर विस्तृत रिपोर्ट पेश करें। जवाब में सिंह ने निवेशकों की राशि वापस करने के लिए कुछ वैकल्पिक तरीके बताए थे, लेकिन न्यायमूर्ति संदीप कुमार ने इसमें दिलचस्पी नहीं दिखाई।
उन्होंने वकील से द्दढ़ता से कहा कि अदालत सुब्रत रॉय के और बहाने बर्दाश्त नहीं करेगी। वर्तमान में सहारा इंडिया की कथित धोखाधड़ी से संबंधित 2000 से अधिक मामले पटना हाई कोर्ट में दायर किए गए हैं। हालांकि ठगे गए लोगों की वास्तविक संख्या लाखों में है। इनमें से कई की पहले ही मौत हो चुकी है।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *