हाथरस केस: राजा भैया ने पूछा, CBI जांच के निर्णय से पेट में दर्द क्‍यों?

हाथरस। हाथरस केस पर सियासी गूंज अभी थमने का नाम नहीं ले रही है। राहुल और प्रियंका गांधी के दौरे और दूसरे राजनेता के बयानों के बीच योगी सरकार ने इस मामले की सीबीआई जांच की अनुशंसा कर दी है। हालांकि, सरकार के इस फैसले पर बीएसपी चीफ मायावती ने सवाल उठाए हैं। अब इस केस में कुंडा के निर्दलीय विधायक रघुराज प्रताप सिंह उर्फ राजा भैया ने ट्वीट कर कुछ और ही इशारा किया है।
‘वक्त के साथ सच्चाई सामने आएगी…सत्यमेव जयते’
राजा भैया ने ट्वीट किया, ‘हम सभी सहमत कि मामले में स्थानीय प्रशासन ने असंवेदनशीलता बरती, पर आश्चर्य है कि CBI जांच के निर्णय से कई लोगों के पेट में दर्द शुरू हो गया है। समय के साथ सच्चाई सामने आएगी, सत्यमेव जयते।’
‘धमकीबाज’ DM पर चुप्पी को लेकर माया के सवाल
उधर बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी) की चीफ मायावती ने हाथरस मामले में डीएम के खिलाफ कार्यवाही न होने पर योगी सरकार को टारगेट किया है। मायावती ने ट्वीट किया, ‘हाथरस कांड के पीड़ित परिवार ने जिले के डीएम पर धमकाने समेत कई गंभीर आरोप लगाए हैं, फिर भी यूपी सरकार की रहस्मय चुप्पी दुःखद और अति-चिंताजनक। हालांकि सरकार सीबीआई जांच के लिए राजी हुई है, लेकिन उस डीएम के वहां रहते इस मामले की निष्पक्ष जांच कैसे हो सकती है? लोग आशंकित।’
राहुल-प्रियंका ने की थी मुलाकात
इससे पहले शनिवार को राहुल और प्रियंका समेत 5 कांग्रेस नेताओं ने पीड़िता के गांव जाकर परिवार से मुलाकात की थी। सरकार की तरफ से 5 लोगों के परिवार से मिलने की इजाजत दी गई थी। इससे पहले डीजीपी हितेश चंद्र अवस्थी और अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश अवस्थी ने भी परिवार से बात की थी।
आरोपी के पिता बोले, बीजेपी सांसद ने बेटे को फंसाया
हाथरस कांड में एक आरोपी रामू के पिता राकेश ने आरोप लगाया कि उनके बेटे को स्थानीय सांसद राजवीर दिलेर और उनकी बेटी मंजूर दिलेर ने फंसाया है। राकेश ने कहा कि केवल संदीप पर आरोप था। राजवीर दिलेर की बेटी मंजू दिलेर ने फेसबुक पर इस बारे में लिखा और 18 सितंबर को परिजनों से बात के आधार पर और नाम बताए। उसके बाद सांसद ने नाम बढ़वा दिए।
मामले की सीबीआई जांच के सिफारिश
अब हाथरस केस की जांच की जिम्मेदारी सीबीआई के हवाले कर दी गई है। हालांकि एसआईटी ने कहा कि उनकी जांच जारी रहेगी। बता दें कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने हाथरस केस की जांच सीबीआई से कराए जाने की सिफारिश की है।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *