हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने लगवाया कोरोना का पहला टीका

चंडीगढ़। हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने आज कोरोना की एक संभावित वैक्सीन ‘कोवैक्सीन’ लगवा ली है. समाचार एजेंसी एएनआई के अनुसार विज ने अंबाला (हरियाणा) के एक अस्पताल में यह टीका लगवाया.
विज ने स्वयं ही भारत में विकसित किये जा रहे इस टीके के लिए ‘सबसे पहला वॉलंटियर’ बनने की पेशकश की थी.
67 वर्षीय भाजपा नेता ने ख़ुद इसकी जानकारी देते हुए बताया था कि शुक्रवार को वे अंबाला के सिविल अस्पताल में टीका लगवाएँगे.
उन्होंने ट्विटर पर लिखा, ”मुझे पीजीआई रोहतक और स्वास्थ्य विभाग के विशेषज्ञ चिकित्सकों की टीम की निगरानी में भारत बायोटेक द्वारा बनाई गई कोरोना वैक्सीन कोवैक्सीन का ट्रायल डोज़ दिया जाएगा.”
अंबाला कैंट से विधायक अनिल विज ने बुधवार को कहा था कि हरियाणा में कोवैक्सीन के तीसरे चरण का ट्रायल 20 नवंबर से शुरू होगा.
क्या है कोवैक्सीन?
कोवैक्सीन टीके को भारत में ही बनाने की कोशिश की जा रही है. इसे भारत बायोटेक नाम की कंपनी इंडियन काउंसिल ऑफ़ मेडिकल रिसर्च (आईसीएमआर) के सहयोग से बना रही है.
कंपनी ने पिछले सप्ताह कहा था कि उसने पहले और दूसरे चरण के ट्रायल का विश्लेषण पूरा कर लिया है और अब वो तीसरे चरण का ट्रायल शुरू कर रही है.
कंपनी ने इस सप्ताह बताया कि तीसरे चरण के ट्रायल में देश के 25 केंद्रों पर 26,000 स्वयंसेवियों पर इसका ट्रायल किया जाएगा.
भारत में ये कोविड-19 वैक्सीन का अब तक का सबसे बड़ा क्लीनिकल ट्रायल है.
अनिल विज ने इससे पूर्व बताया था कि इंसानों पर कोवैक्सीन का परीक्षण रोहतक के पीजीआई अस्पताल में जुलाई में ही शुरू किया गया था.
अगले साल आ सकता है टीका
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने उम्मीद जताई है कि 2021 के शुरुआती 2-3 महीनों में वैक्सीन मिलनी शुरू हो जाएगी.
उन्होंने साथ ही कहा कि ‘अगस्त-सितंबर तक हम 30 करोड़ लोगों को वैक्सीन देने की स्थिति में होंगे.’
-BBC

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *