हरिओम आनंद आत्महत्या केस: 25 द‍िन बाद सुभारती के चेयरमैन व 9 लोगों पर केस दर्ज़

मेरठ। उत्तर प्रदेश के मेरठ में आनंद अस्पताल के मालिक हरिओम आनंद की आत्महत्या के लगभग एक महीने बाद नौचंदी थाने में मुकदमा दर्ज हो गया। तमाम जद्दोजहद के बाद एसएसपी को सौंपे गए मानसी आनंद के शिकायती पत्र पर ही मुकदमा दर्ज किया गया। सुभारती ट्रस्ट के चेयरमैन डॉ. अतुल कृष्ण और आनंद अस्पताल के शेयरधारकों जीएस सेठी, ललित भारद्वाज, राहुल दास समेत नौ लोगों को आरोपी बनाया गया है। इस तरह 25 दिन की जांच के बाद सौंपी गई एसपी सिटी की जांच रिपोर्ट बेमतलब साबित हुई।

शहर के चर्चित हरिओम आनंद आत्महत्या प्रकरण (Hariom Anand Suicide case) में एक माह बाद रविवार को पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर ही लिया। मानसी आनंद की तहरीर पर नौचंदी थाने में सुभारती ग्रुप के ट्रस्टी अतुल भटनागर, उनकी पत्नी मुक्ति भटनागर एवं शेयर होल्डर तथा फाइनेंसरों समेत नौ लोगों को नामजद किया गया है। मुकदमे में सभी को IPC की धारा 306 (आत्महत्या के लिए मजबूर करना) का आरोपित बनाया गया है। मुकदमा दर्ज करने के बाद भी एफआइआर को दिनभर छिपाने की कवायद भी चलती रही।

मानसी के तहरीर पर मुकदमा

पुलिस के इस कदम के बाद अब सवाल यह उठने लगा है कि उन्हें जब मानसी आनंद की तहरीर पर ही मुकदमा दर्ज करना था तब एक माह का लंबा समय क्यों लगाया गया? हालांकि अफसर दावा कर रहे है कि मुकदमे में एसपी सिटी की जांच रिपोर्ट को भी शामिल किया जाएगा। नौचंदी थाने में मुकदमा दर्ज होने के बाद आरोपित पक्ष में भी हलचल मच गई है। मुकदमा दर्ज करने के बाद कप्तान ने एसआइटी का गठन भी कर दिया है, जिसके प्रभारी एसपी क्राइम रामअर्ज को बनाया गया है। उनके अधीन दो इंस्पेक्टर और साइबर एक्सपर्ट से लेकर चार्टर्ड एकाउंटेंट तक से राय लेने की अनुमति प्रदान की गई है, ताकि आत्महत्या के सभी पहलुओं पर गौर किया जा सकें।

हरिओम आनंद ने 27 जून को सल्फास खाकर जान दी थी। इसके बाद उनकी बेटी मानसी आनंद ने एसएसपी को शिकायती पत्र सौंपा था। जिसमें सुभारती ट्रस्ट के चेयरमैन डॉ. अतुल कृष्ण, उनकी पत्नी डॉ. मुक्ति भटनागर पर धोखाधड़ी करने का आरोप लगाया था। आनंद अस्पताल के अस्पताल के शेयर धारक जीएस सेठी, ललित भारद्वाज, राहुल दास के अलावा आकाश खन्ना, समय सिंह सैनी, मुमताज कामरान व एक अन्य पर उत्पीड़न का आरोप लगाया था। जिस पर पुलिस ने तब मुकदमा दर्ज करने से मना कर दिया था। अंतत: रविवार को तय किया गया कि मानसी आनंद के शिकायती पत्र पर ही मुकदमा दर्ज किया जाए।

– एजेंसी

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *