हमास ने युद्धविराम की संभावना जताई, लेकिन इसराइल के तेवर तीखे

फ़लस्तीनी चरमपंथी गुट हमास के एक वरिष्ठ नेता ने कहा है कि उन्हें उम्मीद है कि इसराइल और ग़ज़ा के चरमपंथियों के बीच एक या दो दिन में युद्धविराम हो सकता है.
हालाँकि, इसराइल के प्रधानमंत्री बिन्यामिन नेतन्याहू ने कहा है कि “कार्यवाही तब तक जारी रहेगी” जब तक कि “इसराइली नागरिकों की शांति और सुरक्षा सुनिश्चित ना हो जाए”.
इस बीच दोनों पक्षों के बीच लगातार 11 वें दिन हमले जारी हैं. गुरुवार सुबह को इसराइल ने ग़ज़ा में हमास के ठिकानों पर 100 से ज़्यादा हमले किए .
फ़लस्तीनी चरमपंथियों ने भी जवाब में इसराइल पर रॉकेट बरसाए हैं.
इसराइल और फ़लस्तीनी चरमपंथियों के बीच संघर्ष पूर्वी यरुशलम को लेकर कई हफ़्ते तनाव के बाद तब भड़की जब अल-अक़्सा मस्जिद के पास यहूदियों और अरबों में झड़प हुई. दोनों ही इसे पवित्र स्थल मानते हैं.
हमास नेता ने क्या कहा
हमास की राजनीतिक शाखा के नेता मूसा अबू मार्ज़ूक ने लेबनान के अल-मयादीन टीवी पर कहा, “मुझे लगता है कि दोनों पक्षों के बीच संघर्ष विराम कराने के प्रयास कामयाब रहेंगे.”
उन्होंने कहा,”मुझे आशा है कि एक-दो दिन के भीतर संघर्ष विराम हो सकता है, और ये आपसी सहमति से होगा”.
हमास नेता का ये बयान ऐसे समय आया है जब दोनों पक्षों पर संघर्षविराम के लिए अंतरराष्ट्रीय दबाव बढ़ रहा है.
मिस्र के एक सुरक्षा सूत्र ने समाचार एजेंसी रॉयटर्स से कहा कि दोनों पक्ष मध्यस्थों की सहायता से युद्धविराम पर सैद्धांतिक तौर पर सहमत हो गए हैं मगर अभी बातचीत हो रही है.
बाइडन की नेतन्याहू से ‘अपेक्षा’
अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन ने इसराइल के प्रधानमंत्री बिन्यामिन नेतन्याहू से कहा है कि उन्हें अपेक्षा है कि ग़ज़ा में जारी लड़ाई में “ठोस कमी” आएगी.
उन्होंने अमेरिकी समय के हिसाब से बुधवार सुबह नेतन्याहू से फ़ोन पर बात की. इसराइल और फ़लस्तीनी चरमपंथियों के बीच संघर्ष शुरू होने के बाद दोनों नेताओं के बीच ये चौथी बातचीत थी.
अमेरिकी राष्ट्रपति कार्यालय व्हाइट हाउस की ओर से जारी एक बयान में कहा गया है कि जो बाइडन चाहते हैं कि युद्धविराम का रास्ता निकले.
व्हाइट हाउस ने कहा, “राष्ट्रपति ने प्रधानमंत्री से कहा कि वो संघर्ष विराम की ओर जाने के लिए लड़ाई में कमी देखना चाहते हैं.”
हालाँकि इसराइली मीडिया के अनुसार नेतन्याहू ने उन्हें जवाब में कहा कि वो तब तक कार्यवाही जारी रखने के लिए संकल्पबद्ध हैं जब तक कि इसराइली नागरिकों की शांति और सुरक्षा सुनिश्चित ना हो जाए.
नेतन्याहू ने इससे पहले दावा किया था कि इस बार उनकी कार्यवाही से हमास को ऐसे झटके मिले हैं, जिसकी उसे उम्मीद नहीं थी और वो वर्षों पीछे चले गए हैं.
अमेरिका, इसराइल का एक क़रीबी सहयोगी है और उसने अभी तक संघर्ष पर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की ओर से एक साझा बयान जारी होने का लगातार विरोध किया है.
बुधवार को भी उसने फ़्रांस का एक प्रस्ताव ये कहकर पास नहीं होने दिया कि इससे “लड़ाई कम करवाने के प्रयास कमज़ोर हो सकते हैं”. फ़्रांस ने ये प्रस्ताव मिस्र और जॉर्डन के साथ मिलकर रखा था.
संयुक्त राष्ट्र में फ़लस्तीनी प्रतिनिधि रियाद मंसूर ने सुरक्षा परिषद से एकजुट होकर कोई पक्ष नहीं लेने को “शर्मनाक” बताया है.
लड़ाई का 11वाँ दिन
गुरुवार को दोनों पक्षों के बीच लगातार 11 वें दिन हमले जारी हैं. इसराइल ने ग़ज़ा में हमास के ठिकानों पर 100 से ज़्यादा हमले किए हैं. वहीं फ़लस्तीनी चरमपंथियों ने भी जवाब में इसराइल पर रॉकेट बरसाए हैं. बुधवार को भी दोनों पक्षों में ऐसे ही लड़ाई छिड़ी रही.
बुधवार को लेबनान से भी इसराइल पर चार रॉकेट दागे गए जिसके बाद इसराइल ने भी लेबनान के कई इलाक़ों में हमले किए. हालाँकि अभी ये स्पष्ट नहीं है कि इससे दोनों देशों के तनाव बढ़ सकता है कि नहीं.
10 दिन से जारी हिंसा में ग़ज़ा में अब तक कम-से-कम 227 लोगों की जान जा चुकी है. गज़ा पर नियंत्रण करने वाले हमास के स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार मारे गए लोगों में लगभग 100 औरतें और बच्चे हैं.
इसराइल का कहना है कि गज़ा में मारे जाने वालों में कम-से-कम 150 चरमपंथी शामिल हैं. हमास ने अपने लोगों की मौत के बारे में कोई आँकड़ा नहीं दिया है.
इसराइल के अनुसार उनके यहाँ 12 लोगों की मौत हुई है जिनमें दो बच्चे शामिल हैं.
इसराइली सेना का कहना है कि गज़ा से चरमपंथियों ने उनके यहाँ लगभग 4,000 रॉकेट दागे हैं. उसने कहा कि इनमें 500 से ज़्यादा ग़ज़ा में ही गिर गए. साथ ही , इसराइल के भीतर आए रॉकेटों में से 90 फ़ीसदी रॉकेटों को उसके मिसाइल विरोधी सिस्टम आयरन डोम ने गिरा दिया.
इसराइली सेना का अनुमान है कि लड़ाई शुरू होने के समय ग़ज़ा के दो मुख्य गुटों, हमास और इस्लामिक जिहाद, के पास 12,000 रॉकेट या मोर्टार थे.
क्या है यरुशलम का विवाद?
1967 के मध्य पूर्व युद्ध के बाद इसराइल ने पूर्वी यरुशलम को नियंत्रण में ले लिया था और वो पूरे शहर को अपनी राजधानी मानता है.
हालांकि अंतर्राष्ट्रीय समुदाय इसका समर्थन नहीं करता. फ़लस्तीनी पूर्वी यरुशलम को भविष्य के एक आज़ाद मुल्क़ की राजधानी के तौर पर देखते हैं.
पिछले कुछ दिनों से इलाक़े में तनाव बढ़ा है. आरोप है कि ज़मीन के इस हिस्से पर हक़ जताने वाले यहूदी फलस्तीनियों को बेदख़ल करने की कोशिश कर रहे हैं जिसे लेकर विवाद है.
अक्तूबर 2016 में संयुक्त राष्ट्र की सांस्कृतिक शाखा यूनेस्को की कार्यकारी बोर्ड ने एक विवादित प्रस्ताव को पारित करते हुए कहा था कि यरुशलम में मौजूद ऐतिहासिक अल-अक्सा मस्जिद पर यहूदियों का कोई दावा नहीं है.
यूनेस्को की कार्यकारी समिति ने यह प्रस्ताव पास किया था.
इस प्रस्ताव में कहा गया था कि अल-अक्सा मस्जिद पर मुसलमानों का अधिकार है और यहूदियों से उसका कोई ऐतिहासिक संबंध नहीं है.
जबकि यहूदी उसे टेंपल माउंट कहते रहे हैं और यहूदियों के लिए यह एक महत्वपूर्ण धार्मिक स्थल माना जाता रहा है.
जंग इसराइल और फ़लस्तीनियों के बीच नहीं, हमास से
इस बीच इसराइल ने कहा है कि यह जंग इसराइल और फ़लस्तीनियों के बीच की नहीं है बल्कि हमास से है.
अमेरिका में इसराइल के राजदूत गिलैड अर्दान ने सीबीएस रेडियो को दिए इंटरव्यू में कहा, ”हमें समझने की ज़रूरत है कि यह युद्ध फ़लस्तीनियो से नहीं है. यह युद्ध केवल इसराइल और आतंकवादी संगठन हमास के बीच है.’’
‘हम यह टकराव नहीं चाहते हैं. यहाँ तक कि हमने तनाव कम करने की हर कोशिश की लेकिन हमास हिंसा भड़काने को लेकर प्रतिबद्ध है. और अभी हम आतंकवादी ठिकानों को ध्वस्त कर रहे हैं. ज़ाहिर है कि हम युद्धविराम की ओर देख रहे हैं. लेकिन हम बीमारी से मुक्ति की ओर देख रहे हैं न कि मरहम पट्टी तक रुकना चाहते हैं.’
-BBC

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *