राजीव एकेडमी के छात्रों ने जाने कम्पनियों में कामकाज के तरीके

मथुरा। वैश्विक महामारी कोरोना संक्रमण को देखते हुए इस दौर में बड़ी-बड़ी कम्पनियों में कामकाज के तौर-तरीके बदल गए हैं। मौजूदा समय में युवा पीढ़ी को किसी कम्पनी को ज्वाइन करने से पहले किन-किन बातों का ध्यान रखने की जरूरत है इस विषय पर अल्ट्राटेक सीमेंट कम्पनी के एक्स ज्वाइंट एक्जीक्यूटिव प्रेसीडेंट महेन्द्र कुमार मिश्र ने राजीव एकेडमी फॉर टेक्नोलॉजी एण्ड मैनेजमेंट के बी.बी.ए. अंतिम वर्ष के विद्यार्थियों को विस्तार से जानकारी दी।

राजीव एकेडमी फॉर टेक्नोलॉजी एण्ड मैनेजमेंट
राजीव एकेडमी फॉर टेक्नोलॉजी एण्ड मैनेजमेंट

वैश्विक महामारी के इस दौर में राजीव एकेडमी फॉर टेक्नोलॉजी एण्ड मैनेजमेंट द्वारा छात्र-छात्राओं को आनलाइन अध्ययन-अध्यापन कराने के साथ ही गेस्ट लेक्चर के माध्यम से उनके व्यावहारिक ज्ञान में भी इजाफा किया जा रहा है। मंगलवार को हाउ कोविड-19 इज री-राइटिंग द फ्यूचर ऑफ मैन्यूफैक्चरिंग इंडस्ट्री विषय पर आयोजित ऑनलाइन सेमिनार में अल्ट्राटेक सीमेंट कम्पनी के एक्स ज्वाइंट एक्जीक्यूटिव प्रेसीडेंट महेन्द्र कुमार मिश्र ने छात्र-छात्राओं को बताया कि आज कहीं किसी भी कारखाने या फैक्ट्री में ज्वाइनिंग से पूर्व चार बातों का ध्यान रखा जाना जरूरी है।

श्री मिश्र ने कहा कि आज के समय में आपकी जाब यदि कारखाने या बड़ी कम्पनी में लगती है तो सर्वप्रथम आपको स्वयं को फिट रखना होगा ताकि आप सुरक्षित रह सकें। उन्होंने कहा कि ऐसे समय में 4-एम मैथड सिद्धांत सबसे महत्वपूर्ण है। श्री मिश्र ने बताया कि इस समय किसी भी वर्कर के लिए फिट रहना, मास्क लगाना, सेनेटाइजेशन का महत्व जानता बेहद जरूरी है। इतना ही नहीं यदि कम्पनी की मशीन बटन, हैण्डिल या गियर से नियंत्रित होती है तो वहां भी सेनेटाइजेशन का ध्यान रखा जाना जरूरी होगा। श्री मिश्र ने छात्र-छात्राओं को बताया कि कम्पनी में प्रोडक्शन हेतु जो मैटेरियल आया है वह कैसा है उसी के हिसाब से यह तय होगा कि किस प्रकार से यूनिट में कार्य होना है।

इसमें यह ध्यान देने योग्य है कि फैक्ट्री में बहुत सारे वर्कर एक स्थान पर पास-पास एकत्रित न हों तथा हाथों में ग्लब्स, मुंह पर मास्क लगाने के साथ सोशल डिस्टेंसिंग का विशेष ध्यान रखें। श्री मिश्र ने बताया कि फैक्ट्री में कार्य प्रभावित न हो इसके लिए यदि एक शिफ्ट में अधिक वर्कर्स की भीड़ होती हो तो प्रोडक्शन हेतु डबल या ट्रिपल शिफ्ट में इन वर्कर्स की संख्या को विभक्त कर सोशल डिस्टेंस बनाई जा सकती है। संस्थान के निदेशक डॉ. अमर कुमार सक्सेना ने बताया कि राजीव एकेडमी में छात्र-छात्राओं को किताबी ज्ञान के साथ ही उन्हें व्यावहारिक जानकारी प्रदान करने के लिए लगातार सेमिनार आयोजित किए जा रहे हैं, जिसका लाभ युवा पीढ़ी को मिल रहा है।

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *