GRP दरोगा ने सर्विस रिवॉल्वर से गोली मार की आत्महत्या

लखनऊ। आज एक दुखद घटनाक्रम में GRP के दरोगा मोहित दुबे ने उरई जिले में आत्‍महत्‍या कर ली। सोमवार देर रात जीआरपी के दरोगा ने बैरक में सर्विस पिस्टल से गोली मारकर आत्महत्या कर ली। इस घटना से समूचे विभाग में हड़कंप मच गया। उन्हें उपचार के लिए पहले कानपुर फिर लखनऊ ले जाया गया। जहां दरोगा मोहित दुबे ने दम तोड़ दिया।

जीआरपी के पुलिस अधीक्षक ने घटना की वजह पारिवारिक बताई है। जानकारी के अनुसार GRP के स्थानीय थाने में तैनात औरैया निवासी उप निरीक्षक मोहित दुबे (28) ने देर रात बैरक के अंदर सर्विस रिवाल्वर से अपने को गोली मार ली।

थानाध्यक्ष बृजमोहन सैनी फौरन मोहित को जिला अस्पताल की इमर्जेंसी में ले आए। डॉक्टरों ने बताया कि उसने शराब भी पी रखी थी। जानकारी के अनुसार दरोगा मोहित दुबे की शादी अौरैया में ही तय हुई थी। पुलिस इस मामले की छानबीन में जुटी हुई है।

रेलवे पुलिस के स्थानीय थाने में तैनात औरैया निवासी उप निरीक्षक मोहित दुबे (28) ने देर रात बैरक के अंदर सर्विस रिवाल्वर से अपने को गोली मार ली। उसने इतनी सफाई से गोली मारी कि बगल में सो रहे सिपाही को भी पता नहीं चला। इसी बीच पुष्पक एक्सप्रेस के कालपी पहुंचने पर ट्रेन की चेकिंग के लिए जीआर पी थानाध्यक्ष बृजमोहन सैनी मुस्तैद हुए तो उन्होने कहा कि मोहित को भी बुलवा लो। उनके आदेश पर सिपाही पवन शिवहरे मोहित को लेने जैसे ही बैरक में पहुंचा वहां खून से लथपथ पड़े दरोगा को देख कर उसके होश उड़ गए।

थानाध्यक्ष बृजमोहन सैनी फौरन मोहित को जिला अस्पताल की इमर्जेंसी में ले आए। बाद में झांसी से GRP के पुलिस अधीक्षक प्रताप नारायण मिश्रा ने जिला अस्पताल पहुंच कर उसके बयान दर्ज किए। मोहित ने बताया कि वह पारिवारिक कारणों से परेशान था जिसके चलते यह कदम उठा बैठाया। उसे देखने वाले डाक्टर ने बताया कि उसने शराब भी पी रखी थी। जनपद के पुलिस अधीक्षक डॉ अरविंद चतुर्वेदी भी शहर कोतवाली के प्रभारी निरीक्षक रुद्र कुमार सिंह के साथ अस्पताल में घायल दरोगा को देखने पहुंचे।

हालत गंभीर होने के कारण उसे जिला अस्पताल से रेफर कर दिया गया था जिसके बाद पहले उसे कानपुर ले जाया गया,बाद में लखनऊ लै जाया गया, लेकिन उन्हें बचाया नहीं जा सका।

-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »