राज्यपाल ने CM ममता को तलब कर कानून व्यवस्था की जानकारी मांगी

कोलकाता। पश्चिम बंगाल में सीएम ममता बनर्जी और उनकी सरकार के मंत्रियों के नागरिकता संशोधन एक्ट के खिलाफ प्रदर्शन करने पर प्रदेश के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने नाराजगी जताई है। ममता बनर्जी और उनके मंत्रियों द्वारा नए नागरिकता कानून के खिलाफ निकाले गए जुलूस से अत्यंत नाराज पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने सोमवार को उनसे कहा कि वह असंवैधानिक और भड़काऊ गतिविधियों से दूर रहें। राज्यपाल ने सीएम ममता बनर्जी को राजभवन में बैठक के लिए बुलाया है और उनसे प्रदेश की कानून व्यवस्था के बारे में जानकारी मांगी है।
राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने सोमवार को इस बात पर आश्चर्य प्रकट किया कि मुख्य सचिव और पुलिस महानिदेशक संशोधित नागरिकता कानून के खिलाफ हिंसक प्रदर्शन से गुजर रहे राज्य की वर्तमान स्थिति के बारे में उन्हें बताने के लिए नहीं पहुंचे। राज्यपाल ने कहा कि उनकी अनुपस्थिति ‘बिल्कुल अस्वीकार्य’ है। इस बात पर आपत्ति जताते हुए राज्यपाल ने ममता बनर्जी को मंगलवार सुबह राजभवन में तलब किया है।
धनखड़ ने ट्वीट किया, ‘मैं बेहद दुखी हूं कि मुख्यमंत्री और मंत्री नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ रैली का नेतृत्व कर रहे हैं। यह असंवैधानिक है। मैं ऐसे समय में मुख्यमंत्री से असंवैधानिक एवं भड़काऊ गतिविधि से बचने और राज्य में स्थिति बेहतर करने पर ध्यान देने की अपील करता हूं।’
बुद्धजीवियों का जताया अभार
एक अन्य ट्वीट में धनखड़ ने उन बौद्धिक और सांस्कृतिक हस्तियों का आभार व्यक्त किया, जिन्होंने प्रदर्शनकारियों से हिंसा से बचने की अपील की है। ‘बुद्धिजीवियों, फिल्म निर्माताओं, अभिनेताओं और मंच के कलाकारों का आभार, जिन्होंने प्रदर्शनकारियों को हिंसा से दूर रहने का आग्रह किया। आशा है कि इस तरहअन्य लोग भी आगे आएंगे।’ उन्होंने कहा, ‘हम संवैधानिक रूप से कानून का पालन करने के लिए बाध्य हैं।’
हिंसा के कारण कानून व्यवस्था प्रभावित
पश्चिम बंगाल में नागरिकता संशोधन अधिनियम के विरोध में प्रदर्शनकारियों ने शुक्रवार को ट्रेन, रेलवे स्टेशन, रेलवे लाइन, टोल प्लाजा और बसों आदि को आग के हवाले कर दिया है। हिंसक प्रदर्शन की वजह से राज्य में ट्रेन और सड़क यातायात चरमरा गया, जिससे लोगों को काफी मुसीबतों का सामना करना पड़ा।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *