हिंसक प्रदर्शन और अफवाहों में शामिल लोगों पर सरकार सख्‍त: सपा सांसद के खिलाफ केस दर्ज, 20 जिलों में इंटरनेट सर्विस सस्पेंड, 3000 लोग हिरासत में

लखनऊ। नागरिकता कानून के खिलाफ हिंसक प्रदर्शन और सोशल मीडिया के जरिए अफवाह फैलाने वाले उपद्रवियों के खिलाफ योगी सरकार सख्त एक्शन के मूड में है। अफवाह पर रोक के लिए सूबे के 20 जिलों में मोबाइल इंटरनेट सर्विस सस्पेंड कर दी गई है। संभल में समाजवादी पार्टी के सांसद शफीकुर्रहमान बर्क के खिलाफ केस दर्ज किया गया है। प्रदेशभर में करीब 3,000 लोग हिरासत में लिए गए हैं। सिर्फ राजधानी लखनऊ में हिंसा के बाद 102 लोग हिरासत में लिए गए जबकि 31 लोगों को गिरफ्तार किया गया। सीएम योगी आदित्यनाथ ने दो टूक कहा है कि हिंसा फैलाने वालों की पहचान कर ली गई है और उनकी संपत्ति जब्त कर नुकसान की भरपाई की जाएगी।
राजधानी लखनऊ में गुरुवार को हुई हिंसा में एक व्यक्ति की मौत हो गई थी। साथ ही 16 पुलिसकर्मी समेत 30 लोग घायल हुए थे। इस मामले में पुलिस ने 7 एफआईआर दर्ज की है। 31 लोगों को गिरफ्तार किया। इसके अलावा 112 लोग हिरासत में लिए गए। उधर, कानपुर में एहतियातन 100 लोग हिरासत में लिए गए हैं।
संभल में सैंकड़ों के खिलाफ मुकदमा
संभल में उपद्रवियों ने गुरुवार को रोडवेज की दो बसों को आग के हवाले कर दिया था। इसके अलावा पुलिस की गाड़ियों को भी निशाना बनाया गया था। इस मामले में पुलिस ने एसपी सांसद शफीकुर्रहमान बर्क, एसपी जिलाध्यक्ष फिरोज खान, पार्षद पति हाजी मोहम्मद शकील और मुशील खान समेत 17 को नामजद करते हुए सैकड़ों लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया है। यहां रोडवेज की तरफ से भी भीड़ के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया।
मेरठ में पार्षद के खिलाफ केस
हिंसा भड़काने के मामले में मेरठ में भी कई लोगों के खिलाफ कार्यवाही की गई है। यहां मेरठ में खैरनगर के पार्षद समेत 9 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। तीन लोगों को गिरफ्तार किया गया है। शामली में भी पुलिस ने कार्यवाही की है। शांतिभंग के मामले में पुलिस ने 9 लोगों को हिरासत में लिया है और 9 लोग गिरफ्तार भी हुए हैं।
‘उपद्रवियों की संपत्ति नीलाम करके नुकसान की भरपाई’
सीएम योगी आदित्यनाथ ने अधिकारियों को उपद्रवियों पर सख्त कार्यवाही करने के लिए कहा है और इस बात के भी निर्देश दिए हैं कि आम लोगों को कोई असुविधा ना हो। उन्होंने कहा कि किसी उपद्रवी को बख्शा नहीं जाएगा और सरकार उपद्रव करने वाले लोगों की पहचान कर उनकी संपत्ति नीलाम करेगी और इस पैसे से नुकसान की भरपाई होगी। अधिकारियों को स्पष्ट निर्देश दिए गए हैं कि आमजन को किसी भी तरह की दिक्कत ना हो।
गोरखपुर में 34 एसपी नेता और कार्यकर्ता गिरफ्तार
गोरखपुर में एसपी के करीब 34 नेता और कार्यकर्ता गिरफ्तार किए गए। यहां भी पुलिस से एसपी कार्यकर्ताओं की तीखी झड़प हुई थी। बस्ती में प्रदर्शन कर रहे एसपी नेताओं और पुलिस के बीच नोकझोंक हुई। पुलिस ने प्रदर्शन पर अड़े एसपी जिलाध्यक्ष महेन्द्र नाथ यादव समेत दर्जनों कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार कर लिया। वहीं, देवरिया में करीब 400 प्रदर्शनकारी हिरासत में लिए गए।
मुजफ्फरनगर और वाराणसी में भी कार्यवाही
मुजफ्फरनगर में प्रदर्शन के चलते शहर में इंटरनेट सेवा बंद कर दी गई है। एसपी सिटी ने करीब 150 सपाइयों को गिरफ्तार कर डीएवी डिग्री कॉलेज में बंद किया। वाराणसी में भी तीखी नोंकझोंक हुई। पुलिस ने लाठीचार्ज करने के साथ 69 लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेजा है।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *