माल्‍या की तरह मौज कर रहा होता राणा, सरकार ने जाल बिछाकर फंसाया

नई दिल्‍ली। विजय माल्या की तरह आज यस बैंक के फाउंडर राणा कपूर भी लंदन में ‘मौज’ ले रहे होते, लेकिन सरकार और आरबीआई ने बेहद चालाकी से राणा को उन्हीं के जाल में फंसा लिया।
दरअसल, यस बैंक को दोबारा अपनी मुट्ठी में लेने की चाहत में वह ईडी के शिकंजे में जा पहुंचे।
पिछले करीब 8 महीनों में कम से कम तीन ऐसे मौके आए, जब लगा कि यस बैंक में निवेश का सौदा फाइनल होने ही वाला है, तभी संभावित निवेशकों ने कदम पीछे खींच लिए। कुछ समय के लिए तो रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) और सरकार भी समझ नहीं आया कि चल क्या रहा है।
बाद में राणा कपूर ने अपने सूत्रों के जरिए सरकार और रिजर्व बैंक को यह इशारा किया कि वह बैंक में वापसी के लिए उत्सुक हैं। इससे सरकार और RBI को शक हुआ कि बैंक की हालत बदलने के लिए तैयार किए जा रहे प्लान को राणा ही फेल कर रहे हैं। इस मामले से जुड़े एक उच्च पदस्थ सूत्र ने बताया कि एक केस में तो RBI ने एक निवेशक से पैसा भी जमा कराने को कह दिया था।
सूत्र ने बताया कि ‘हर बार जब सौदा लगभग तय हो जाता था लेकिन राणा के लोग निवेशक से मिलते और उन्हें इससे दूर रहने के लिए कहते थे।’
यूं बुलाए गए लंदन से वापस
राणा कपूर कई महीनों से लंदन में रह रहे थे। बताया जाता है कि कपूर को लंदन से भारत लाने के लिए रिजर्व बैंक ने राणा को इस तरह के संदेश दिए कि यस बैंक में निवेश के सभी प्रयास विफल होने की वजह से उनकी बैंक में वापसी हो सकती है, जिसकी उन्होंने 2004 में स्थापना की थी।
दोबारा यस बैंक के कर्ताधर्ता बनने का सपना लेकर जैसे ही राणा भारत लौटे, कई जांच एजेंसियों ने उन्हें सर्विलांस पर रखना शुरू कर दिया ताकि वह देश छोड़कर जा ना सकें। सूत्रों ने बताया कि कई बार तो ऐसा भी हुआ कि जब वह रडार से बाहर हो गए तो चिंता बढ़ गई।
लग गई थी भनक
राणा नीरव मोदी की तरह मुंबई के वर्ली में समुद्र किनारे आलिशान अपार्टमेंट में रह रहे थे। यह मुंबई ही नहीं, देश के सबसे महंगे घरों में से एक है। यहां पहुंचने पर ईडी अधिकारियों को बिल्डिंग गार्ड्स से पता चला कि कपूर भारत छोड़ने का प्लान बना रहे हैं। संभवत: उन्हें अहसास हो गया था कि RBI और सरकार के प्लान में उनके लिए कोई जगह नहीं है।
एक्शन की टाइमिंग
यस बैंक के बोर्ड की मीटिंग 14 मार्च के लिए प्रस्तावित थी, जिसमें तिमाही नतीजों पर चर्चा होती। इस बात को लेकर चिंता बढ़ रही थी कि यस बैंक संकट बढ़ सकता है। सितंबर में बैंक ने 16 हजार करोड़ रुपये बैड लोन की घोषणा की थी। बड़े जमाकर्ता अपना पैसा बैंक से निकाल रहे थे। सरकार में भी इस बात को लेकर चर्चा हुई कि क्या कपूर को गिरफ्तार कर लिया जाए या फोकस अभी स्टेट बैंक के नेतृत्व में नए निवेशक लाने पर रहे।
अंत में सरकार ने ऋण स्थगन (मॉरटॉरीअम) की तरह प्रतिबंध लगाते हुए पुनर्गठन प्लान की घोषणा कर दी। इसके साथ ही राणा कपूर के खिलाफ एक्शन को हरी झंडी दे दी। मॉरटॉरीअम की घोषणा आमतौर पर वीकेंड में होती है जब बाजार बंद होता है और आर्थिक गतिविधियां कम हो रही होती हैं और यह 14 मार्च से पहले आखिरी वीकेंड था।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *