अक्षय तृतीया पर लगातार दूसरे साल लॉकडाउन की भेंट चढ़ा सोने का व्‍यापार

नई दिल्‍ली। सोना कारोबारियों के लिए लगातार दूसरा अक्षय तृतीया का त्योहार निराश कर गया। देश के अधिकतर राज्यों में इस समय लॉकडाउन है। इस वजह से जेवर की दुकानें बंद हैं। अनुमान लगाया गया है कि आज देश भर में सोने-चांदी की दुकानें बंद रहने से करीब 10 हजार करोड़ रुपये का कारोबार नहीं हुआ।
अक्षय तृतीया ही नहीं, ईद की बिक्री भी ठंडी
कंफेडरेशन ऑफ़ आल इंडिया ट्रेडर्स (CAIT) के राष्ट्रीय महामंत्री प्रवीन खंडेलवाल ने बताया कि आज ही अक्षय तृतीया के साथ ईद भी होने के कारण सोना-चांदी के व्यापारियों को अतिरिक्त नुकसान उठाना पड़ा है। आमतौर पर पर ईद पर भी अच्छा कारोबार होता है। उन्होंने बताया कि देश के अधिकतर राज्यों में इस समय लॉकडाउन है। कोरोना की बंदिशों के कारण तथा जिन राज्यों में भी बाजार खुले थे, वहां कोरोना के भय के कारण ग्राहक आए ही नहीं इसलिए आज देश भर के सोना-चांदी एवं ज्वेलरी के व्यापारी बेहद निराश और मायूस रहे। खंडेलवाल का दावा है कि देश भर में लगभग 4 लाख सोने एवं ज्वेलरी व्यापारी हैं।
धनतेरस के बाद अक्षय तृतीया पर बिकता है ज्यादा सोना
देश के ज्वेलरी व्यापार के शीर्ष संगठन आल इण्डिया ज्वैलर्स एंड गोल्डस्मिथ फ़ेडरेशन (AIJGF) के राष्ट्रीय संयोजक पंकज अरोरा ने बताया कि देश के अधिकांश हिस्से में लॉकडाउन के चलते सोने एवं ज्वेलरी व्यापारियों की दुकाने और मार्किट पूरे तौर पर बंद रहीं। उनके मुताबिक धनतेरस के बाद अक्षय तृतीया दूसरा ऐसा त्योहार है, जबकि सबसे ज्यादा सोने की खरीद होती है किन्तु कोरोना की वजह से लगातार दूसरे वर्ष अक्षय तृतीया पर सोने की खरीद न के बराबर हुई।
दो साल पहले हुआ था 10 हजार करोड़ का कारोबार
अरोरा ने बताया कि वर्ष 2019 में देश में सिर्फ अक्षय तृतीया पर ही सोने एवं ज्वेलरी का व्यापार लगभग 10 हजार करोड़ रुपये हुआ था। उस वक्त सोने का भाव लगभग 35 हजार रुपये प्रति 10 ग्राम था। पिछले साल, मतलब वर्ष 2020 में अक्षय तृतीया पर के अवसर पर लॉकडाउन लगा हुआ था। तब भी उस दौरान देश भर में लगभग 980 करोड़ रुपये का सोने का व्यापार हुआ था। उस समय सोने का भाव लगभग 52 हजार रुपये प्रति 10 ग्राम था। आज जब देश में सोने का भाव लगभग 49 हजार रुपये प्रति 10 ग्राम है, तब लगभग 20 टन सोने का भी व्यापार नहीं हो पाया।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *