ग्लोबल हैंड वॉशिंग डे आज: हाथ धोने के लिए तय है खास अवधि

आज 15 अक्टूबर को दुनियाभर में ग्लोबल हैंड वॉशिंग डे मनाया जाता है। क्या आप जानते हैं कि हाथ धोने के लिए एक खास समय अवधि तय है और हाथ धोने का एक खास तरीका होता है। साथ ही सही तरीके से हैंड वॉशिंग कर आप कई तरह के इंफेक्शन्स और बीमारियों से बच सकते हैं। इन सारी बातों पर डालते हैं एक नजर-
ऐसे धोएं हाथ
अपने हाथों को पहले स्वच्छ व गुनगुने पानी से गीला करें। गीले हाथों पर साबुन या लिक्विड लगाएं। झाग बनाएं फिर दोनों हाथों को 20 सेकंड तक अच्छे से मलें। याद रहे कि इस प्रक्रिया में दोनों हाथों की हथेलियों के साथ-साथ हाथ के पिछले भाग, उंगलियों के बीच में और नाखूनों को भी रगड़ें। उसके बाद हाथ को पानी से अच्छी तरह से धोएं। नल को बंद करने के लिए तौलिये या अपनी कुहनी का इस्तेमाल करें। धोने के बाद हाथों को सूखे तौलिये या एयर ड्रायर से सुखाएं। ध्यान रखें अपना रुमाल या तौलिया ही यूज करें।
यह भी जानें
दुनिया के कई देशों में वर्ष 1846 के दौरान कई ऐसी बीमारियां पता चलीं जो सिर्फ गंदगी से फैल रही थीं, इसका स्रोत गंदे हाथों को माना गया। इसके बाद से मेडिकल साइंस में हाथ धोना जरूरी कर दिया गया।
कब धोएं हाथ
– खाना पकाने, खाना खाने और खाना परोसने के पहले और बाद
– शौच के बाद हाथ धोना बहुत जरूरी होता है
– नाक या मुंह पर हाथ लगाकर छींकने के बाद
– सभी तरह के केमिकल के इस्तेमाल के बाद
– अपनी या बच्चे की नाक साफ करने के बाद
– टॉइलट जाने या डायपर बदलने के बाद
– किसी से शारीरिक संबंध बनाने के बाद
– पालतू जानवर से खेलने के बाद
– बीमार व्यक्ति से मिलने के बाद
क्या हैं अन्य विकल्प
हाथ धोने के लिए अगर पानी की उपलब्धता न हो तो बाजार में कई ऐसे उत्पाद विकल्प के रूप में मौजूद हैं जिससे आप अपना हाथ साफ रख सकते हैं। इसमें हैंड सैनिटाइजर, वाईप्स और खास तरह के टिशू पेपर्स आदि।
लापरवाही से बचें
राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के बाल स्वास्थ्य के जीएम डॉक्टर अनिल वर्मा ने कहा कि हाथ धोने की महत्ता को नजरअंदाज न करें। हाथों की सफाई पर लगाए गए चंद सेकंड आपके और आपके बच्चे को डॉक्टर के पास लगने वाले कई चक्करों से बचा सकते हैं। अच्छी तरह से हाथ धोने से दिमागी बुखार, इन्फ्लूएंजा, हेपेटाइटिस ए और संक्रामक दस्त जैसी बीमारियों से मुक्ति मिल सकती है।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *