इशारे करती आंखें, मेकअप से सजे चेहरे और चटकीले लिबास

इशारे करती आंखों को देख गाड़ियां अक्सर यहां धीमी हो जाती हैं. काजल भरी आंखें, मेकअप से सजे चेहरे और चटकीले लिबास लपेटे सैकड़ों जिस्म रोज़ाना इन सड़कों पर किसी का इंतज़ार करते हैं.
मध्य प्रदेश में मंदसौर से नीमच की ओर बढ़ने वाले हाइवे पर ये नज़ारा आम है. जिस्मफ़रोशी के इस बाज़ार में रोज़ाना ना जाने कितनी ही लड़कियां चंद सौ रुपयों के लिए अपनी बोली लगाती हैं.
हिना भी इनमें से एक थीं, जिन्हें 15 साल की उम्र में वेश्यावृत्ति के दलदल में धकेल दिया गया. ऐसा करने वाले कोई और नहीं, बल्कि उनके अपने ही थे.
हिना ने बचपन से अपने आस-पास की लड़कियों को ये काम करते हुए देखा था मगर सोचा नहीं था कि ऐसा समय भी आएगा कि वो ख़ुद को उन्हीं लड़कियों के साथ सड़क के किनारे पर खड़ा पाएंगी.
हिना ने ख़ूब विरोध किया था. जब कहा कि पढ़ना चाहती हूं तो परंपरा की दुहाई दी गई. फिर भी नहीं मानी तो कहा गया कि तुम्हारी नानी और मां ने भी यही काम किया है. आख़िर में दो जून की रोटी का वास्ता दिया गया.
हिना की आंखों के सामने अपने छोटे-छोटे भाई-बहनों के चेहरे घूमने लगे और घुटने टेकते हुए समझौता कर लिया.
परंपरा
हिना बाछड़ा समुदाय से आती हैं. इस समुदाय की लड़कियों को परंपरा का हवाला देकर छोटी उम्र में ही देह व्यापार के दलदल में धकेल दिया जाता है.
गांव के एक बुज़ुर्ग बाबूलाल का कहना है, “बाछड़ा समुदाय में लड़कियों को वेश्यावृत्ति में भेजना हमारी परंपरा का हिस्सा है और ये सदियों से चला आ रहा है.”
वे एक किस्सा सुनाते हुए कहते हैं, “पहले हमारे लोग गांव में नहीं रहते थे. वे एक रात कहीं रुकते थे तो दूसरी रात उनका डेरा कुछ और होता था. एक बार कहीं चोरी हो गई और पुलिस ने हमारे लोगों को पकड़ लिया. तब थानेदार की निगाह हमारी एक लड़की पर पड़ी. लड़की बहुत सुंदर थी. उसने बोला कि एक रात मुझे इस लड़की के साथ रहने दो और उसके बाद गांव छोड़कर निकल जाओ.”
बाबूलाल ने कहा, “उस दिन लड़की ने बाप-दादा की जान बचाई. वो दिन था कि हमारे समाज के लोगों में ये बात बस गई कि लड़कियां जान बचाती हैं. हम लोगों के पुरखों ने चोरी-चकारी जैसा कुछ काम नहीं किया था लेकिन उनपर झूठा आरोप लगा दिया गया. बस वहीं से ये कहावत आ निकली कि लड़की जान बचाती है. समाज को लगने लगा कि लड़की किसी भी समस्या का समाधान निकाल लेती है और तब से इस परंपरा की शुरुआत हो गई.”
कुप्रथा की बेड़ियों को तोड़ा
इस समुदाय की लड़कियों को वेश्यावृत्ति से निकालने का काम करने वाले आकाश चौहान बताते हैं कि मध्य प्रदेश के नीमच-मंदसौर-रतलाम में बाछड़ा समुदाय के 72 गांव हैं, जहां 68 गांवों में खुलकर देह व्यापार होता है.
उनके मुताबिक, “क़रीब 35 हज़ार आबादी वाले समुदाय में लगभग सात हज़ार महिलाएं वेश्यावृत्ति के काम में लगी हैं, जिनमें से क़रीब दो हज़ार नाबालिग हैं. समुदाय में 10 से 12 साल की बच्चियों को अपने माता-पिता द्वारा जबरन देह व्यापार में डाल दिया जाता है. एक लड़की के पास एक दिन में 10 से 12 ग्राहक आते हैं. वो एक दिन के दो हज़ार रुपये कमा लेती है.”
हिना भी इन्हीं परिस्थितियों से गुज़र रही थीं. उनका दम घुट रहा था और इसी बीच उन्होंने एक बेटी को जन्म दिया. इसी के बाद हिना ने ठान लिया था कि वो अपनी बेटी को अब इस पेशे में नहीं आने देंगी.
वे बताती हैं, “गुस्सा आता था. ग़लत लगता था. तक़लीफ़ होती थी शरीर में. लेकिन मज़बूरी के कारण करना पड़ता था. नहीं करते तो खाते क्या. बहुत सारी ऐसी लड़कियां थीं जिन्हें बीमारी भी लग गई.”
“ये भी डर लगा रहता था कि कहीं गर्भवती न हो जाएं. इसके बावजूद कई लड़कियों के कम उम्र में बच्चे भी हो गए.”
हिना कहती हैं कि इसी दौरान उन्हें एक ग़ैर-सरकारी संस्था ‘जन साहस’ के बारे में पता चला. ये संस्था लड़कियों को वेश्यावृत्ति से निकलने में मदद करती है. इस संस्था के लोग बाछड़ा समुदाय की लड़कियों से मिलकर उन्हें समझाते हैं.
हिना इस संस्था के लोगों से मिलीं और बात की कि वो ये काम नहीं करना चाहतीं. संस्था ने इसमें उनकी मदद की और हिना को अपने यहां नौकरी भी दे दी.
अब दूसरों को बचा रही हैं हिना
अब हिना अपने समुदाय की दूसरी लड़कियों को कुप्रथा के इस दलदल से निकलने में मदद कर रही हैं. वो उनसे मिलती हैं और उन्हें शिक्षा से जोड़ने की कोशिश करती हैं.
हिना कहती हैं, “अगर मैं निकली हूं तो दूसरों को भी निकालूंगी. मैं चाहती हूं कि शुरू से ये जो परंपरा चली आ रही है वो बिल्कुल ख़त्म हो जाए.”
हिना अब अपने समुदाय की दूसरी लड़कियों को पढ़ाई के बहाने बाहर निकलने में मदद कर रही हैं.
वो बताती हैं, “हम इस काम में लगी लड़कियों के घर जाते हैं. हम सीधे ये नहीं बोलते कि ये काम छोड़ दो क्योंकि इससे उनके घर वाले हमारा विरोध करते हैं. ये काम मुश्किल होता है, बार-बार उनके घर जाते हैं. हम उन्हें फिर से पढ़ाई शुरू करने के लिए कहते हैं. कई लड़कियों को अलग ले जाकर बात भी करते हैं और पूछते हैं कि क्या वो ये काम छोड़ना चाहती हैं. वो छोड़ने की इच्छा जताती हैं तो उन्हें साथ देने का भरोसा देते हैं. उन्हें बताते हैं कि आप और भी काम कर सकती हैं.”
हिना की कोशिशों से समुदाय की कुछ लड़कियां इस कुचक्र से बाहर आ गई हैं लेकिन अब भी कई लड़कियां हैं जो इसमें फंसी हुई हैं.
इस कुप्रथा को खत्म करने की कोशिशों के तहत मध्य प्रदेश सरकार ने इनके पुर्नवास के लिए 1993 में जबाली योजना शुरू करने का ऐलान किया गया था. इस योजना के तहत समुदाय के लोगों को जागरूक किया जाना, उन्हें शिक्षा से जोड़ना, कोई काम करने के लिए ट्रेनिंग देना शामिल है.
लेकिन हिना का कहना है कि समुदाय की लड़कियों को कुछ रोज़गार मिल जाए तो वो इस सबसे बाहर निकल सकती हैं. वो कहती हैं, “कमाने के लिए कुछ है भी नहीं. इसीलिए तो मजबूरी में उन्हें वही काम करना पड़ता है. वो चाहती भी हैं कि निकल जाएं लेकिन निकल नहीं पाती हैं. दूसरा कोई रास्ता नहीं है न उनके पास.”
लेकिन हैरानी की बात है कि सरकारी ऐलान के 25 साल बीत जाने के बाद भी अबतक ये योजना ज़मीन पर लागू नहीं हो पाई है.
जब इसकी वजह जानने के लिए हम मंदसौर के बाल एवं महिला विकास मंत्रालय के अधिकारी राजेंद्र महाजन से मिले.
उन्होंने बताया कि इस योजना को किसी एनजीओ के ज़रिए लागू किया जाना है, लेकिन हमें अबतक कोई एनजीओ नहीं मिला है.
महाजन ने कहा, “जबाली योजना को एनजीओ के माध्यम से संचालित किया जाना है और इसके लिए अख़बार के ज़रिए आवेदन हम मंगाते हैं, लेकिन कोई एनजीओ इसमें आगे नहीं आया. जो आए वो सिलेक्ट नहीं हो पाए. इस साल भी आवेदन आए हैं, हम उसमें से अध्ययन करके प्रपोज़ल शासन को भेजेंगे. एनजीओ के जो आवेदन आए हैं, उनकी तुलना होगी. गाइडलाइन्स पात्रता देखी जाएगी.”
एनजीओ क्यों नहीं मिला
लेकिन क्या वजह है कि अबतक कोई एनजीओ इस योजना के लिए सिलेक्ट नहीं हो पाया?
इस सवाल के जवाब में महाजन कहते हैं कि विज्ञापन निकाले जाते हैं तो एनजीओ भी आगे आने चाहिए. इसमें शासन कुछ कर नहीं सकता.
उन्होंने बताया कि एनजीओ के लिए क्राइटीरिया ये है कि उसने इस फ़ील्ड में काम किया हो. उन्होंने कहा, “एनजीओ आवेदन तो दे देते हैं लेकिन एक्शन प्लान नहीं देते कि वो किस तरह काम करेंगे और पैसा किस तरह खर्च करेंगे. एनजीओ को फ़ंड का प्रपोज़ल भी देना पड़ता है. जितने पैसे का एनजीओ प्रपोज़ल देगा, उतना फ़ंड मिल जाएगा. एक बार एक एनजीओ सिलेक्ट हुआ था लेकिन फिर उसने फ़ंड का प्रपोज़ल नहीं दिया.”
महाजन का कहना है कि ये एक सामाजिक समस्या है, इसे डंडे की नोक पर ठीक नहीं किया जा सकता.
लेकिन हिना का कहना है कि इस कुप्रथा के न रुक पाने की एक वजह पुलिस और प्रशासन की नाकामी भी है.
उनका आरोप है कि नाबालिग लड़कियां हाइवे पर खुलेआम वेश्यावृत्ति के लिए बैठी रहती हैं लेकिन पुलिस और प्रशासन मूक दर्शक बना हुआ है.
हिना का आरोप है कि ‘पुलिस इन लड़कियों से हफ़्ता वसूल करती है और ठोस कार्यवाही नहीं करती. अगर कभी करती भी है तो पैसा लेकर छोड़ देती है.’
पुलिस का क्या है कहना
हम मंदसौर के एसपी मनोज कुमार सिंह से मिले और पूछा कि पुलिस इस कुप्रथा को रोकने के लिए क्या कर रही है.
उन्होंने कहा कि पुलिस वक्त-वक्त पर कार्यवाही करती है. “कुछ लड़कियों को यहां ट्रैफ़िक करके भी लाया जा रहा है. उनमें से कईयों को भी पुलिस ने छुड़वाया है.”
उनका कहना है कि “समुदाय के लोग ह्यूमन ट्रैफ़िकिंग में भी लड़कियां ख़रीदते थे. पिछले समय में हम लोगों ने लगभग 40 से 50 लड़कियों को रेस्क्यू किया है. हाल में ट्रैफ़िक करके लाई गई एक दो साल की बच्ची को बचाया है. पकड़े जाने वालों पर इमोरल ट्रैफ़िक (प्रिवेंशन) एक्ट की धारा लगती है. माइनर का रेप माना जाता है उसमें पॉस्को की धाराएं लगती हैं.”
“ये सभी धाराएं संज्ञेय हैं और ग़ैर-ज़मानती अपराध हैं. हम गिरफ़्तार करके इन्हें कोर्ट में पेश कर देते हैं. कोर्ट की प्रक्रिया के तहत ही उन्हें ज़मानत मिलती है.”
सिर्फ सामाजिक समस्या?
एसपी मनोज कुमार सिंह का कहना है, “पुलिस कोशिश करती रहती है, पुलिस बार-बार रेड मारती है लेकिन ये समाजिक समस्या है और समाज द्वारा ही इस समस्या को दूर किया जा सकता है.”
समुदाय के ही एक युवा आकाश चौहान ने इस देह व्यापार को रोकने के लिए हाईकोर्ट में एक जनहित याचिका दाख़िल की हुई है, जिसकी अंतिम सुनवाई बाक़ी है. उन्हें उम्मीद है एक अच्छा फ़ैसला आएगा.
इस बीच हिना अपनी छोटी कोशिशों से बड़े बदलाव लाने की कोशिशें कर रही हैं.
उनका कहना है कि मैं ज़्यादा से ज़्यादा लड़कियों को इस दलदल से निकालने की कोशिश कर रही हूं. उन्होंने कहा, “मुझे काम करना है और अपनी गुड़िया को पढ़ा-लिखाकर क़ाबिल बनाना है.”
-BBC

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *