भारत लाया जा रहा है गैंगस्टर रवि पुजारी, द. अफ्रीका में क‍िया था गिरफ्तार

नई दिल्‍ली। गैंगस्टर रवि पुजारी को दक्षिण अफ्रीका में करीब 25 दिन पहले गिरफ्तार कर लेने के बाद अब भारतीय अध‍िकारी उसे भारत ला रहे हैं । 15 वर्षों से फरार गैंगस्टर रवि पुजारी को पुलिस अधिकारियों की एक टीम भारत ला रही है। इस टीम में कर्नाटक के एक वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी भी शामिल हैं।

एक शीर्ष अधिकारी ने बताया कि पुजारी उगाही और हत्या के कई मामलों में वांछित और 15 साल से फरार था। उसे सेनेगल निर्वासित कर दिया गया था, जहां से पिछले साल जमानत मिलने के बाद वह फरार हो गया था।

पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि हम सेनेगल से उसके साथ आ रहे हैं। अभी पेरिस में हैं। हम एयर फ्रांस की उड़ान से आ रहे हैं और आधी रात तक वहां (भारत) पहुंच जाएंगे। बता दें कि यह अधिकारी टीम का हिस्सा हैं। सूत्रों के अनुसार गैंगस्टर पुजारी को सोमवार सुबह तक यहां लाया जा सकता है।

बता दें कि अंडरवर्ल्ड डॉन रवि पुजारी की तालाश कर रही अहमदाबाद पुलिस ने पांच महीने पहले दक्षिण अफ्रिकी सरकार को पत्र तक लिखा था। दरअसल, पुजारी पर गुजरात के कई व्यापारियों और राजनेताओं ने करोड़ों रुपए की रंगदारी के लिए धमकाने का आरोप लगाया था, जिसके चलते अहमदाबाद पुलिस उसे गुजरात लाना चाहती थी।

कर्नाटक के मुख्यमंत्री ने किया था गिरफ्तारी का दावा
कर्नाटक के मुख्यमंत्री एचडी कुमार स्वामी ने बीती 31 जनवरी (शुक्रवार) को अंडरवर्ल्ड डॉन रवि पुजारी की सेनेगल में गिरफ्तारी के संबंध में दावा किया था। साथ ही उन्होंने कहा था कि इस गिरफ्तारी के पीछे कर्नाटक सरकार का अहम योगदान होने की बात कही थी।

उन्होंने कहा था कि पुजारी राज्य में कई अपराधों में शामिल रहा। ऐसे में कर्नाटक के अफसर उसे पकड़ने के लिए केंद्र सरकार के साथ लगातार प्रयास कर रहे थे। वे सेनेगल में भारतीय दूतावास के अफसरों के संपर्क में भी थे।

ऐसे पकड़ा गया पुजारी
अंडरवर्ल्ड डॉन रवि पुजारी को जनवरी में अफ्रीकी देश सेनेगल की राजधानी डकार के एक होटल से गिरफ्तार किया गया था। भारतीय एजेंसियों के इनपुट के आधार पर यह गिरफ्तारी हुई थी। उस पर भारतीय एजेंसियां लगातार नजर रखे हुए थीं।

अब उसे प्रत्यर्पित कर भारत लाया जा रहा है। सेनेगल से पहले गैंगस्टर पुजारी की लोकेशन बुरकीना फासो में मिली थी। उसी समय से एजेंसियां उसकी गतिविधियों पर निगरानी रखे थीं। पुजारी के खिलाफ देश में कई मामले दर्ज हैं।

– एजेंसी

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *