पीडीपी के पूर्व नेता अल्ताफ बुखारी ने बनाई नई पार्टी JKAP

श्रीनगर। पूर्व मंत्री और पीडीपी के पूर्व नेता सैयद अल्ताफ बुखारी के नेतृत्व में आज यानी कि रविवार को JKAP (Jammu and Kashmir Apni party) अस्तित्व में आ गई। 31 सदस्यों के साथ “जम्मू-कश्मीर अपनी पार्टी”  का एलान बुखारी के लाल चौक स्थित आवास पर किया। शनिवार को पार्टी से जुड़ने वाले पीडीपी, नेकां,कांग्रेस से आए नेताओं की अहम बैठक हुई, जिसमें नए दल की तैयारियों को अंतिम रूप दिया गया। इस बीच पीडीपी को एक तगड़ा झटका लगा है।

जम्मू-कश्मीर की पूर्व सीएम महबूबा मुफ्ती की पार्टी पीडीपी के पूर्व नेता सैयद अल्ताफ बुखारी ने रविवार को अपनी पार्टी का एलान कर दिया है। पार्टी बनाने के बाद बुखारी ने कहा कि यह एक बहुत ही खुशी की बात है कि हमने आखिरकार अपनी पार्टी बना ली है और इसे अपनी पार्टी के रूप में जाना जाएगा। उनके मुताबिक, हम पर बहुत सारी जिम्मेदारी है, क्योंकि उम्मीदें और चुनौतियां बहुत हैं। मैं जम्मू और कश्मीर के लोगों को विश्वास दिलाता हूं कि मेरी इच्छाशक्ति मजबूत है। बुखारी ने कहा कि यह सूबे के आम लोगों की पार्टी है, इसलिए इसका नाम अपनी पार्टी रखा गया है।

कई नेता अपनी पार्टी में शामिल

गुलाम हसन मीर, पूर्व मंत्री, और अध्यक्ष डेमोक्रेटिक पार्टी राष्ट्रवादी, पीडीपी-दिलावर मीर के पूर्व विधायक, नूर मोहम्मद शेख, अशरफ मीर और पूर्व कांग्रेस विधायक- फारूक़ सुरबी, इरफान नकीब और अन्य लोग सैयद अल्ताफ बुखारी की अपनी पार्टी में शामिल हो गए हैं।

गौरतलब है कि शनिवार को पार्टी के कोर ग्रुप की बैठक में पूर्व वित्त मंत्री सईद अल्ताफ बुखारी को सर्वसम्मति से इसका अध्यक्ष चुना गया है।

पीडीपी से एक और पूर्व विधायक मोहम्मद अशरफ मीर का इस्तीफा
इस बीच, पीडीपी के एक और पूर्व विधायक मोहम्मद अशरफ मीर ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया। उन्होंने अल्ताफ बुखारी की पार्टी में जाने का संकेत देते हुए कहा कि रविवार का इंतजार करिए, सब साफ हो जाएगा। यह वही, मोहम्मद अशरफ मीर हैं, 2014 के विधानसभा चुनावों में तत्कालीन मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला को सोनवार सीट पर हराया था। वहीं, प्रदेश कांग्रेस के श्रीनगर जिला प्रधान इरफान नकीब ने भी अपनी पार्टी का दामन थामने का एलान किया है।

पीडीपी से निष्कासित अल्ताफ बुखारी के निवास पर शनिवार शाम को अपनी पार्टी के कोर ग्रुप की बैठक हुई। इसमें पार्टी के संविधान और एजेंडे को विचार-विमर्श कर अंतिम रूप दिया गया। इसके बाद संगठन में विभिन्न पदाधिकारियों के चयन के मुद्दे पर चर्चा हुई तो सभी ने तय किया कि फिलहाल बुखारी ही कमान संभालें तो बेहतर है। उन्हें अपनी पार्टी का अध्यक्ष बनाने का प्रस्ताव पूर्व कृषि मंत्री गुलाम हसन मीर ने पेश किया। नेकां से औपचारिक इस्तीफा देने वाले पूर्व एमएलसी विजय बकाया ने प्रस्ताव का समर्थन किया।

बैठक में मौजूद करीब 30 अन्य नेताओं ने भी इसका समर्थन किया और बुखारी को अपनी पार्टी का अध्यक्ष चुन लिया गया। अपनी पार्टी में नेशनल कांफ्रेंस, पीडीपी, कांग्रेस व अन्य कई दलों के वरिष्ठ नेता और पूर्व विधायक शामिल हो रहे हैं। इनमें नेकां के विजय बकाया और रफी मीर, कांग्रेस के उस्मान मजीद, शोएब लोन, विक्रम मल्होत्र व मंजीत सिंह भी हैं। पीडीपी के जावेद हसन बेग, दिलावर मीर, नूर मोहम्मद, यावर मीर, जफर मन्हास, अब्दुल मजीद पडर और पूर्व कृषि मंत्री गुलाम हसन मीर भी शामिल हैं।
– एजेंसी

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *