केडी हास्पीटल में हुआ रिवीजन टोटल Hip Replacement

मल्टी स्पेशियेलिटी केडी हास्पीटल के हड्डी रोग विभाग के गोल्ड मेडलिस्ट डा. प्रतीक अग्रवाल ने किया टोटल Hip Replacement ऑपरेेेेशन

मथुरा। मल्टी स्पेशियेलिटी केडी हास्पीटल के हड्डी रोग विभाग के गोल्ड मेडलिस्ट डा. प्रतीक अग्रवाल ने जनपद में पहली बार रिवीजन टोटल Hip Replacement को अंजाम दिया है। इसी एक बार में दूसरे दांये पैर की पांच वर्ष में दो बार टूटी हड्डी ठीक करने में सफलता हासिल की है। पूर्व में टूटी इस हड्डी का गुल्ला जो कि जोड के अंदर की ओर घुस गया था। उसे निकाल कर लम्बी छड वाला कूल्हा डाल दिया गया है। इससे अब दोनों पैरों के दुरस्त होने के बाद कस्तूरीदेवी सामान्य तौर पर चल पाएंगी। मरीज के पुत्र नेत्रपाल ने बताया कि दिल्ली के एम्स और सफदरगंज हास्पीटल में इन्हीं दो आॅपरेशन के ढाई से पौने तीन लाख रुपये का खर्चा बताया था जो कि केडी हास्पीटल में मात्र सवा से लेकर मात्र डेढ लाख में दवा के खर्चे के साथ पूरा हो गया है।

मरीज कस्तूरी देवी के पुत्र नेत्रपाल ने बताया कि दिल्ली के एम्स और सफदरगंज हास्पीटल में इन्हीं दो आॅपरेशन का खर्चा बताया था ढाई से पौने तीन लाख रुपये, जो यहां मात्र सवा लाख में हुए
केडी हास्पीटल की ओपीडी में मौजूद मरीज छाता के चंदौरी निवासी कस्तूरी देवी के पुत्र नेत्रपाल ने बताया कि उनकी माताजी को चोट लगने के बाद वंृदावन के कारे बाबू चिकित्सालय में इलाज कराया था। इसके बाद चारपाई से गिरने के चलते कुछ माह पूर्व उन्हें दोबारा चोट लगी। जिससे बायंे कूल्हे की हड्डी टूट गई। पूर्व में प्रत्यारोपित कूल्हा भी गिरने से टूट गया था। इससे कस्तूरी देवी पूरी तरह से चलने फिरने में असमर्थ हो गईं थी। उन्हें हरियाणा के नूंह स्थित एक चिकित्सालय में बारह दिन तक इलाज कराया। चिकित्सालय ने बाद में टोटल हिप रिप्लेसमेंट कराने को एम्स को रेफर दिया। वहां भर्ती न हो पाने के कारण सफदरगंज चिकित्सालय को भेज दिया। वहां कई दिन भर्ती रखने के बाद एम्स से कृत्रिम कुल्हा न मिलने की बात कह कर निकाल दिया। केडी हास्पीटल में डा. प्रतीक अग्रवाल को दिखाने पर उन्होंने जांचों के बाद आॅपरेशन करना स्वीकार कर लिया। बीते दिवस डा. प्रतीक अग्रवाल के नेतृत्व वाली टीम ने आॅपरेशन को अंजाम दे दिया। टीम में डा. प्रतीक अग्रवाल, विभागाध्यक्ष डा. प्रफुल्ल हिरोडे, डा. हर्षित जैन, डा. यशस्वी बंसल, डा. हेमराज सैनी, एनथिएस्ट डा. निजावन डा. सुप्रिया और सहायक पवन कुमार मौजूद रहे।

पीडित ब्रजवासियों की सेवा कर मिलता है काफी सुकून-डा. प्रतीक अग्रवाल
एमएस में गोल्ड मेडलिस्ट डा. प्रतीक अग्रवाल ने बताया कि आॅपरेशन कई घंटे चला। आपरेशन के दौरान मरीज की लम्बी उम्र और एक पैर की दो बार टूटी हडडी का खास ध्यान रखना पडा। दूसरे पैर का जोड में घुसे गुल्ले को कृत्रिम गुल्ले से बदलना काफी जटिल प्रक्रिया रही। इस दौरान कई सावधानियां बरतनी पडीं। डा. प्रतीक अग्रवाल ने कहा कि केडी हास्पीटल में हड्डी से संबंधित हर रोग का इलाज करने को कई टीमें तत्पर हैं। ऐसे में ब्रजवासियों को सस्ते में प्रदान की जा रहीं सेवाओं का लाभ उठाना चाहिए। उन्हें हडडी रोगों से पीडित ब्रजवासियों की सेवा कर काफी सुकून मिलता है।

कुछ ही मिनट और घंटों में मिलती रैफरेंस चिकित्सा-डा. रामकिशोर अग्रवाल
आरके एजुकेशन हब के चैयरमेन डा. राम किशोर अग्रवाल, वाइस चैयरमेन पंकज अग्रवाल और एमडी मनोज अग्रवाल मल्टी स्पेशियेलिटी केडी हास्पीटल के कैम्पस में एक ही छत के नीचे हर रोगों के सुपर स्पेशियेलिस्ट चिकित्सक मौजूद हैं। इससे मरीज को जरुरी रैफरेंस तुरंत मिल जाता है। मरीज को किसी दूसरे चिकित्सालय रैफरेंस के लिए जाने की जरुरत नहीं पडती है। कुछ ही मिनट और घंटों में मरीज को रैफरेंस मिल जाता है। मरीज की चिकित्सा करने में चिकित्सकों को काफी सहूलियत मिल जाती है। इसी से ब्रजवासियों को केडी हास्पीटल की इन सुविधाओं का लाभ लेना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »