केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत सहित तीन लोगों के खिलाफ राजद्रोह की FIR दर्ज़

जयपुर। राजस्थान सरकार के मुख्य सचेतक महेश जोशी की शिक़ायत पर शुक्रवार को एसओजी ने दो FIR दर्ज की हैं जिनमें वायरल हुए ऑडियो टेप्स का ज़िक्र है.
जयपुर में मौजूद स्पेशल ऑपरेशंस ग्रुप (एसओजी) के आईजी अशोक कुमार राठौड़ ने प्रेस को बताया है कि ‘गजेंद्र सिंह सहित तीन लोगों के ख़िलाफ़ सेक्शन 124-A और 120-B के तहत मामला दर्ज किया गया है. जिन ऑडियो टेप्स के आधार पर यह शिक़ायत दर्ज की गई है, अब हमारी टीम उनकी सत्यता की जाँच करेगी.’
केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने कांग्रेस पार्टी के प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला द्वारा लगाये गए आरोपों का जवाब दिया है.
उन्होंने कहा है, “मैं किसी भी जाँच का सामना करने को तैयार हूँ. ऑडियो टेप में मेरी आवाज़ नहीं है.”
इससे पहले कांग्रेस नेता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने मीडिया के ज़रिये सामने आये कुछ ऑडियो टेप्स का हवाला देते हुए गजेंद्र सिंह शेखावत पर आरोप लगाया था कि वे कुछ बाग़ी विधायकों की मदद से राजस्थान की सरकार गिराने का प्रयास कर रहे हैं.
शुक्रवार सुबह हुई प्रेस कॉन्फ़्रेंस में सुरजेवाला ने कहा, “मीडिया के ज़रिये कुछ ऑडियो टेप सामने आये हैं. कथित तौर पर इनमें बाग़ी कांग्रेस नेताओं और एक वरिष्ठ बीजेपी नेता के बीच बातचीत सुनाई देती है. इससे साफ़ होता है कि पैसे का आदान-प्रदान हो रहा है.”
सुरजेवाला ने वायरल ऑडियो टेप के हवाले से बीजेपी नेता व केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत, बीजेपी नेता संजय जैन और कांग्रेस विधायक भंवर लाल शर्मा के ख़िलाफ़ FIR दर्ज कर उन्हें गिरफ़्तार करने की माँग की है.
उन्होंने कहा कि ‘बातचीत सुनकर स्पष्ट होता है कि तीनों मिलकर राजस्थान सरकार गिराने का प्रयास कर रहे थे.’
हालांकि सुरजेवाला ने कहा कि “ऑडियो टेप की सत्यता क्या है और ये टेप कितने पुराने हैं, स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप (एसओजी) इसकी जाँच करेगा.”
सुरजेवाला ने कहा, “इस बात की जाँच होनी चाहिए कि विधायकों को ख़रीदने के लिए काला धन कहाँ से आया.”
प्रेस कॉन्फ़्रेंस में सुरजेवाला ने कांग्रेस के भीतर हुई इस बग़ावत के नेतृत्वकर्ता सचिन पायलट से कहा कि “वे सामने आयें और सार्वजनिक रूप से यह स्पष्ट करें कि ख़रीद-फ़रोख्त के लिए विधायकों की लिस्ट बीजेपी को उन्होंने दी थी या नहीं.”
सुरजेवाला ने बताया कि बाग़ी विधायक भंवर लाल और विश्वेंद्र सिंह की जाँच पूरी होने तक, कांग्रेस पार्टी की प्राथमिक सदस्यता निलंबित कर दी गई है. दोनों नेताओं को कारण बताओ नोटिस भी जारी किया गया है.
प्रेस कॉन्फ़्रेंस में बैठे कांग्रेस नेता चेतन डूडी ने कहा कि उन्हें प्रलोभन देने की कोशिश की गई और उन्हें यह इसलिए बताना पड़ रहा है क्योंकि वायरल हुए ऑडियो टेप में उनका भी नाम सुनाई देता है.
राजस्थान हाई कोर्ट सचिन पायलट और अन्य बागी कांग्रेस विधायकों की याचिका पर शुक्रवार दोपहर एक बजे सुनवाई करेगा. बागी खेमे ने राजस्थान विधानसभा अध्यक्ष द्वारा जारी किये गए अयोग्यता नोटिसों को अदालत में चुनौती दी है.
-BBC

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *