वित्त मंत्री अरुण जेटली ने जीएसटी की आलोचनाओं का फिर दिया जवाब, गिनाए फायदे

ऐसे समय में जब नोटबंदी और जीएसटी को लेकर सरकार आलोचनाओं का शिकार हो रही है वित्त मंत्री अरुण जेटली ने फिर इसके फायदे गिनाए हैं। अरुण जेटली ने कहा है कि नोटबंदी से जम्मू-कश्मीर में घुसपैठ और आतंकवादी गतिविधियों में काफी कमी आई है। पिछले 8-10 महीनों से जम्मू-कश्मीर में पत्थरबाज नहीं दिख रहे हैं।
उन्होंने यह बात उस समय कही जब यह सवाल उठाया गया कि स्वच्छ भारत, जीएसटी और नोटबंदी जैसी पहलों से जमीनी स्तर पर कोई बदलाव नहीं आया है। उन्होंने कहा कि नकदी कई तरह की चुनौतियां पैदा करती है। इससे भ्रष्टाचार और अन्य समस्याएं पैदा होती हैं। वित्त मंत्री ने शनिवार को बर्कले भारत सम्मेलन को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये संबोधित करते हुए कहा कि नोटबंदी के तत्काल बाद जम्मू-कश्मीर और छत्तीसगढ़ जैसे राज्यों में घुसपैठ और आतंकवादी गतिविधियों में भारी कमी आई।
जेटली ने कहा कि अभी भी आतंकवादी घटनाएं हो रही हैं, लेकिन उस समय आप देखते थे कि 5,000 -10,000 पत्थरबाजों को आतंकवादी संगठनों द्वारा पैसा दिया जाता था। जेटली ने सवाल पूछा कि पिछले 8-10 महीनों में ऐसा क्यों नहीं हो रहा? अरुण जेटली सोमवार को एक सप्ताह की यात्रा पर अमेरिका पहुंचेंगे। अपनी यात्रा के दौरान जेटली न्यू यॉर्क और बोस्टन में कॉर्पोरेट जगत के महत्वपूर्ण लोगों से मुलाकात करेंगे। जेटली को अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष और वर्ल्ड बैंक की वार्षिक बैठकों में भी शामिल होना है।
दरअसल, पिछले साल नवंबर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 1000 और 500 के नोटों को बंद करने की घोषणा की थी। सरकार ने उस समय कहा था कि इसका मकसद कालेधन, जाली नोट, आतंकवादी गतिविधियों और भ्रष्टाचार पर अंकुश लगाना है। सरकार ने जब नोटबंदी की वजह से डिजिटाइजेशन होने की बात कही तो विपक्ष ने फेल होने पर लक्ष्य ही बदलने का आरोप लगाया। जीडीपी में गिरावट के बाद कांग्रेस समेत विपक्षी दलों ने इसके लिए नोटबंदी को ही जिम्मेदार ठहराया था।
-एजेंसी