अंतिम संस्कार और मृत्‍युभोज हो जाने के बाद घर पहुंचा किसान

हासन। कर्नाटक के हासन में एक किसान अपनी पारिवारिक समस्याओं से तंग आकर घर से बाहर कुछ वक्त बिताने के लिए निकला। जून के मध्य में शिवन्ना नाम के किसान ने घर छोड़ दिया था। 15 दिन बाद जब उसका दिमाग शांत हुआ और वह घर वापस जाने की तैयारी कर रहा था, तभी उसे रिश्तेदारों से जानकारी मिली कि गांव में तो उसका अंतिम संस्कार किया जा चुका है। यही नहीं मृत्युभोज का भी आयोजन हो चुका था।
यह घटना हासन तालुका के शंखा गांव में हुई। 45 साल के शिवन्ना ने परिवारिक विवाद की वजह से परेशान होने के बाद 16 जून को घर छोड़ दिया था। इसके बाद वह बेंगलुरु में एक रिश्तेदार के घर रहने पहुंचा। हालांकि शिवन्ना के परिवार को उसके बारे में कोई जानकारी नहीं थी।
16 जून को शिवन्ना जब घर नहीं लौटा तो परिजनों ने उसकी तलाश शुरू की। 18 जून को उसकी पत्नी दीपा ने पुलिस थाने में लापता होने की शिकायत दर्ज कराई। पुलिस को उसी दिन हासन बस टर्मिनस के पास से एक सड़ी-गली लाश मिली थी। शव बुरी तरह खराब हो चुका था और इसकी पहचान नहीं की जा सकती थी। पुलिस ने दीपा को शिनाख्त के लिए मौके पर बुलाया। दीपा ने बताया कि यह उनके पता का शव नहीं है। शव के शरीर पर मौजूद कपड़े शिवन्ना के कपड़ों से मेल नहीं खा रहे थे। लेकिन पुलिस ने दवाब डालते हुए कहा कि चूंकि शव को पहचाना नहीं जा सकता है इसलिए परिवार शिनाख्त नहीं कर पा रहा है।
इसके बाद मृतक के शव को शिवन्ना के परिजनों को सौंप दिया गया और उन्होंने उसी दिन शव दफना दिया। शिवन्ना के पिता तिरुमलैया ने अंतिम संस्कार के तहत ग्यारहवें दिन के कार्यक्रम के लिए निमंत्रण पत्र छपवाए। 28 जून के इस आयोजन के लिए रिश्तेदारों में कार्ड बांटे गए। इस कार्यक्रम के एक दिन बाद परिजनों को पता चला कि शिवन्ना बेंगलुरु में एक रिश्तेदार के यहां रह रहा है। वे रविवार को रिश्तेदार के घर पहुंच गए। शिवन्ना ने परिवार वालों को बताया कि वह केवल यहां समय गुजार रहा था।
अचानक हुए इस वाकये से पहले तो परिजन हैरान रह गए लेकिन बाद में उन्होंने खुशी जताई। गांव में शिवन्ना के पहुंचने पर जोरदार स्वागत किया गया। इसके बाद पुलिस को भी मामले की जानकारी मिली। पुलिस ने गांव पहुंचकर गलती से दफनाए गए शव को बाहर निकलवाया। शव की शिनाख्त के लिए पुलिस आगे की जांच कर रही है।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *