करनाल में किसानों का उपद्रव, पुलिस ने किया लाठीचार्ज और आंसूगैस का प्रयोग

करनाल। हरियाणा के करनाल अंतर्गत गांव कैमला में होने वाली मुख्यमंत्री मनोहर लाल की किसान महापंचायत से पहले किसानों ने जमकर बवाल मचाया। पुलिस के तमाम नाके तोड़कर किसान खेतों के रास्ते गांव कैमला पहुंचे और वहां कार्यक्रम स्थल पर तोड़फोड़ की। इस दौरान पुलिस की सुरक्षा व्यवस्था भी धरी रह गई। आलम यह रहा कि कार्यक्रम स्थल पर किसानों की भीड़ को देख आयोजक भाजपाई भी तितर-बितर हो गए।

इन हालातों के मद्देनजर मुख्यमंत्री की किसान महापंचायत को भी रद्द करना पड़ा और मुख्यमंत्री का हेलीकॉप्टर कैमला गांव में नहीं उतरा। कैमला गांव में रविवार को किसानों की महापंचायत आयोजन था। जिसमें हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल को किसानों से सीधा संवाद करना था, इसकी तैयारियां पिछले कई दिनों चल रही थीं।

किसान भी इस दौरान सीएम की इस महापंचायत का विरोध करने की लगातार चेतावनी दे रहे थे। जिसके चलते शनिवार को प्रशासनिक और पुलिस अफसरों की किसान नेताओं के साथ एक बैठक भी हुई, जिसमें अफसरों ने किसानों को चेतावनी दी थी कि उन्हें शांतिपूर्वक धरने का अधिकार है लेकिन यदि कैमला में महापंचायत के दौरान किसानों ने कोई गड़बड़ी की तो सख्ती से निपटा जाएगा। इस चेतावनी के बावजूद रविवार को हजारों की संख्या में किसानों का जत्था कैमला की ओर रवाना हो गया।

दूसरे नाके पर हुआ फोर्स के साथ टकराव

कैमला में जिस जगह सीएम की महापंचायत होनी थी, उस क्षेत्र को पुलिस फोर्स ने सात जगहों पर नाकाबंदी कर घेरा था लेकिन घरौंडा के आउटर इलाके से हजारों की संख्या में किसान कैमला की ओर बढ़ने लगे किसानों ने पहला नाका तो तोड़ दिया मगर दूसरे नाके पर फोर्स के साथ किसानों का टकराव हो गया जिसके चलते जमकर बवाल हुआ।

ढाई घंटे तक छोड़े गए आंसू गैस के गोले

दूसरे नाके पर बवाल के दौरान किसानों का रेला आगे बढ़ता देख पुलिस फोर्स ने आंसू गैस के गोले छोड़ने शुरू कर दिए। ढाई घंटे तक यहां बवाल चलता रहा। जिसके बाद किसान खेतों की ओर दौड़ने लगे और पुलिस फोर्स उनका पीछा कर उन्हें खदेड़ती रही। स्थिति बहुत ज्यादा तनावग्रस्त हो गई। इस दौरान पुलिस को लाठीचार्ज भी करना पड़ा।

अचानक कैमला पहुंचे किसान, अफसरों की अटकी सांस
दूसरी ओर किसानों का काफिला अचानक कैमला में उस जगह पहुंच गया, जहां सीएम का कार्यक्रम होने वाला था। किसानों ने अचानक वहां पहुंचकर उत्पात मचाना शुरू कर दिया और वहां खूब हंगामा किया। जिसे देख आयोजकों ने भी वहां से भागना उचित समझा। मुख्यमंत्री की सुरक्षा में तैनात टीम ने हालातों की समीक्षा करने के बाद सीएम के इस कार्यक्रम को रद्द करने की सलाह दी। जिसके बाद सीएम मौके पर नहीं आए और कार्यक्रम रद्द कर दिया गया।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *