कुछ छूट के साथ 17 मई तक के लिए देशभर में बढ़ाया गया लॉकडाउन

नई दिल्‍ली। देश में लॉकडाउन 4 मई से 17 मई तक बढ़ा दिया गया है। यह 3 मई को खत्म हो रहा था। सरकार ने बताया कि 14 दिन तक रेड जोन में कोई राहत नहीं दी जाएगी लेकिन ऑरेंज और ग्रीन जोन में थोड़ी रियायत दी जाएगी। ग्रीन जोन में सभी बड़ी आर्थिक गतिविधियों की छूट दे दी गई है।
बसें चल सकेंगी, लेकिन बसों की क्षमता 50% से ज्यादा नहीं होगी। डीपो में भी 50% से ज्यादा कर्मचारी काम नहीं करेंगे। ऑरेंज जोन में बसों के परिचालन की छूट नहीं होगी, लेकिन कैब की अनुमति होगी। कैब में ड्राइवर के साथ एक ही पैसेंजर हो सकता है। ऑरेंज जोन में इंडस्ट्रियल ऐक्टिविटीज शुरू होगी और कॉम्प्लेक्स भी खुलेंगे। रेड जोन में नई की दुकानें, सैलून आदि बंद रहेंगे। विस्तृत जानकारी गृह मंत्रालय की तरफ से दी जाएगी।
देश में कुल 739 जिले हैं, जिनमें से 307 अब भी कोरोना से अछूते हैं यानी 40 प्रतिशत से भी ज्यादा। ये 307 जिले ग्रीन जोन्स हैं। 3 मई के बाद इन जिलों में फैक्ट्रियों, दुकानों, छोटे-मोटे उद्योगों समेत ट्रांसपोर्ट और अन्य सेवाओं को भी शर्तों के साथ पूरी तरह खोलने की अनुमति दे दी गई है।
इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को हाईलेवल मीटिंग बुलाई थी। यह करीब ढाई घंटे चली। बैठक में गृह मंत्री अमित शाह, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण, चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ विपिन रावत, रेल मंत्री पीयूष गोयल समेत सेक्रेट्री लेवल के कई अन्य अफसर मौजूद रहे।
देश में कोरोना संक्रमितों की संख्या 35 हजार 89 हो गई है। शुक्रवार को आंध्रप्रदेश में 60, राजस्थान में 58, पश्चिम बंगाल में 37, बिहार में 25, कर्नाटक में 11, हरियाणा में 8, बिहार में 7 और ओडिशा में 5 मरीजों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई। ये आंकड़े covid19india.org और राज्य सरकारों से मिली जानकारी के अनुसार हैं।
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक देश में 35 हजार 43 संक्रमित हैं। इनमें से 25 हजार 7 का इलाज चल रहा है, 8888 ठीक हुए हैं और 1148 की मौत हुई।
सरकार की प्रेस कॉन्फ्रेंस की अहम बातें
मंत्रालयों की साझा प्रेस कॉन्फ्रेंस में शुक्रवार को बताया गया कि 15 दिन में पीपीई किट जैसे उत्पादों की जांच करने वाली 9 लैब बनाई गई हैं। पहले कोयंबटूर में सिर्फ एक लैब थी।
21 लाख पीपीई किट प्राप्त हो चुकी हैं। 25 मार्च तक देश में हर दिन सिर्फ 3312 पीपीई किट का उत्पादन था, लेकिन अब हर दिन 1 लाख 86 हजार किट बनाई जा रही हैं।
एन-95 मास्क की मांग 2.72 करोड़ है। कुल ऑर्डर 2.49 करोड़ किया गया है। इनमें घरेलू ऑर्डर 1.49 करोड़ है। हर दिन 2.30 लाख मास्क बनाए जा रहे हैं।
कोरोना संक्रमण की जांच में इस्तेमाल होने वाली 35 लाख आरटी-पीसीआर टेस्टिंग किट की जरूरत है। आईसीएमआर ने 21 लाख किट का आर्डर दिया है। घरेलू आर्डर 2 लाख है और अभी तक 13.75 लाख किट मिल चुकी हैं।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *