अपराधियों और माफिया की अवैध कमाई के साक्ष्‍य ईडी को भेजे जाएंगे: डीजीपी यूपी

लखनऊ। बाहुबली मुख्तार अंसारी और उसके करीबियों व गुर्गों पर जल्द ही प्रवर्तन निदेशालय ED का भी शिकंजा कसेगा। गैंगस्टर एक्ट के तहत मुख्तार और उनके करीबियों की जब्त करोड़ों की संपत्तियों के मामले में यूपी पुलिस की तरफ से जांच के लिए ED को सिफारिश भेजी जाएगी। डीजीपी हितेश चंद्र अवस्थी का कहना है कि ऐसे अपराधी और माफिया, जिनकी करोड़ों की संपत्तियां जब्त हुई हैं उनके खिलाफ अवैध कमाई के पर्याप्त साक्ष्य मिलने पर ईडी को जांच के लिए सिफारिश की जाएगी।
जानकारी के मुताबिक जिन माफियाओं और अपराधियों के खिलाफ ईडी को सिफारिश भेजी जाएगी उनमें मुख्तार अंसारी और उसके गुर्गे, आजमगढ़ का अपराधी ध्रुव सिंह उर्फ कुंटू सिंह, आगरा व मथुरा का तेल माफिया मनोज गोयल, वेस्ट यूपी का कुख्यात सुंदर भाटी और उसके गैंग के करीबी लोग हैं। जल्द ही इन सबके खिलाफ ईडी जांच की सिफारिश की जाएगी।
मुख्तार गैंग पर सबसे ज्यादा फोकस
यूपी पुलिस ने अभी तक काली कमाई से जुटाई गई सबसे ज्यादा संपत्तियां माफिया मुख्तार अंसारी और उसके करीबियों की जब्त की हैं। अभी तक की पुलिस की कार्यवाही में मुख्तार और उसके करीबी गुर्गों की करीब सत्तर करोड़ की संपत्तियां जब्त की जा चुकी हैं। इसके साथ ही अवैध धंधों से होने वाली करीब पचास करोड़ की काली कमाई पर भी रोक लगा दी गई है। इससे मुख्तार गैंग को बड़ी आर्थिक चोट पहुंची है। हालांकि इतने बड़े स्तर पर कार्यवाही होने के बाद भी मुख्तार और उसके गैंग के खिलाफ न ही ईडी ने कोई कार्यवाही की न ही आयकर विभाग ने शिकंजा कसा।
मुख्तार के करीबी की दो करोड़ 31 लाख की संपत्तियां की थी जब्त
हाल ही में लखनऊ कमिश्नरेट पुलिस ने मुख्तार के करीबी जुगनू वालिया की करीब दो करोड़ 31 लाख की संपत्तियां जब्त की थी। मऊ, जौनपुर और वाराणसी पुलिस भी मुख्तार के करीबी पारसनाथ सोनकर, रविंद्र निषाद समेत अन्य की 20 करोड़ से ज्यादा की संपत्तियां जब्त कर चुकी है। मऊ में मुख्तार के करीबी उमेश कुमार सिंह की साढ़े छह करोड़ की संपत्तियां जब्त की गई हैं।
कुख्यात कुंटू सिंह की करीब 10 करोड़ की संपत्तियां जब्त
इसके साथ ही आजमगढ़ पुलिस ने वहां के कुख्यात ध्रुव सिंह उर्फ कुंटू सिंह की करीब 10 करोड़ की संपत्तियां गैंगस्टर एक्ट के तहत जब्त की हैं। आगरा व मथुरा के तेल माफिया मनोज गोयल की भी करीब सवा करोड़ की संपत्तियां जब्त की जा चुकी हैं। मैनपुरी के शराब माफिया दलबीर सिंह लोधी की भी एक करोड़ की संपत्तियां जब्त की गई हैं। वहीं नोएडा में कमिश्नरेट पुलिस ने गैंगस्टर एक्ट के तहत माफिया सुंदर भाटी और उसके करीबियों की करीब 10 करोड़ की संपत्तियां जब्त की हैं।
300 करोड़ से ज्यादा की संपत्तियां सीज
यूपी में बीजेपी के सत्ता संभालने के बाद माफियाओं और अपराधियों के खिलाफ गैंगस्टर एक्ट के तहत उनकी संपत्तियों के जब्तीकरण की कार्यवाही काफी तेजी से चल रही है। बीते तीन साल के दौरान यूपी पुलिस माफियाओं और अपराधियों की करीब 300 करोड़ की संपत्तियों को जब्त कर चुकी है लेकिन इसके बाद भी इन माफियाओं पर ईडी और आयकर की नजर टेढ़ी नहीं हो रही है। यूपी में ईडी और आयकर ने इन तीन सालों के दौरान एक भी माफिया की संपत्तियों की जांच करने या उनके खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग के तहत केस दर्ज करने की कोशिश नहीं की है।
विकास दुबे गैंग के खिलाफ भेजी सिफारिश
कानपुर के बिकरू में सीओ समेत आठ पुलिसकर्मियों की हत्या के जवाब में मारे गए विकास दुबे के खिलाफ हाल ही में यूपी सरकार ने ईडी जांच की सिफारिश की थी। दरअसल, हत्याकांड की पड़ताल के दौरान विकास और उसके फाइनेंसर व करीबियों की कई संपत्तियों व काली कमाई के बारे में जानकारियां सामने आई थीं। जिसके बाद ईडी ने आईजी रेंज कानपुर से मिलकर विकास दुबे और उसके गैंग के लोगों व उनकी संपत्तियों का ब्योरा जुटाया था। ईडी जल्द ही इस मामले में केस दर्ज कर सकता है।
संपत्तियों की जांच के लिए ईडी को सिफारिश भेजेंगे
यूपी के डीजीपी हितेश चंद्र अवस्थी ने कहा कि माफिया और अपराधियों के खिलाफ गैंगस्टर ऐक्ट के तहत संपत्ति जब्त करने की कार्यवाही चल रही है। कई संपत्तियां जब्त की गई हैं। उनके खिलाफ कुछ औपचारिकताओं को पूरा करने के बाद उनकी संपत्तियों की जांच के लिए ईडी को सिफारिश भेजी जाएगी।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *