संकट की पूर्वसूचना है उत्तराखंड में हिंदुओं की भूमि पर अतिक्रमण

नई द‍िल्‍ली। उत्तराखंड में हिंदुओं की भूमि पर योजनाबद्ध रूप से अतिक्रमण किया जा रहा है। मुसलमान अनेक स्थानों पर हिंदुओं की और सरकार की भूमि अवैध रूप से हड़प रहे हैं। समय पर ही पुलिस-प्रशासन में परिवाद (शिकायत) प्रविष्ट कर इसे रोका जा सकता है।

उक्‍त च‍िंता व्‍यक्‍त करते हुए सर्वोच्च न्यायालय के अधिवक्ता उमेश शर्मा ने कहा कि उत्तराखंड में हिंदुओं की भूमि पर योजनाबद्ध अतिक्रमण हिन्दुओं के लिए संकट की पूर्व सूचना है। उत्तराखंड राज्य की सीमा नेपाल और चीन की सीमा से लगी हुई है, इसलिए राष्ट्रीय सुरक्षा की दृष्टि से भी यह अत्यंत संवेदनशील है।

अधिवक्ता उमेश शर्मा हिन्दू जनजागृति समिति द्वारा आयोजित ‘देवभूमि उत्तराखंड के इस्लामीकरण का षड्यंत्र!’ व‍िषय पर ‘ऑनलाइन’ विशेष संवाद में बोल रहे थे। इस कार्यक्रम का सीधा प्रसारण समिति की वेबसाईट www.hindujagruti.org, यू-ट्यूब और ट्विटर द्वारा 5,500 लोगों ने देखा ।

संवाद में बोलते हुए ‘विश्‍व हिन्दू परिषद’ के उत्तराखंड राज्य उपाध्यक्ष प्रदीप मिश्रा ने कहा कि उत्तराखंड में अल्प कालावधि में मुसलमानों की जनसंख्या में 40 प्रतिशत वृद्धि हुई है। हरिद्वार के पांच किलोमीटर क्षेत्र में मुसलमान नहीं रह सकते, ऐसा शासन का आदेश होते हुए भी उसका पालन नहीं किया जा रहा। देवभूमि उत्तराखंड के इस्लामीकरण का षड्यंत्र रचा जा रहा है जिसे रोकने के लिए हिन्दू समाज को कृतिशील होना होगा। हिन्दू समाज सहित सरकार को भी इस ओर ध्यान देना चाहिए। देवभूमि उत्तराखंड को कलंकित होने से बचाना होगा, विहिंप, बजरंग दल, दुर्गा वाहिनी के प्रतिनिधि इस हेतु प्रयासरत हैं। भारत में ‘मुसलमानों के लिए अलग कानून और हिन्दुओं के लिए अलग कानून’ यह हिंदुओं के लिए हानिकारक है। सभी के लिए समान कानून होना चाहिए।

हिन्दू जनजागृति समिति के नरेंद्र सुर्वे ने कहा कि उत्तराखंड में केवल हिंदुओं के मंदिर एवं भूमि पर ही नहीं, अपितु सरकार और रेलवे की भूमि पर भी मुसलमानों ने अवैध अत‍िक्रमण किया हुआ है। उत्तर प्रदेश में एक हजार हिन्दुओं का धर्मांतरण करते हुए पकडा गया ‘उमर गौतम’ मूलत: उत्तराखंड का ‘श्याम गौतम’ था। जिहादियों द्वारा किए धर्मांतरण के कारण वह कट्टर धर्मांध बन गया। ऐसे असंख्य हिन्दू मुसलमान बने होंगे इसलिए देवभूमि उत्तराखंड की रक्षा करना पूर्ण भारत के हिंदुओं का कर्तव्य है। यदि आज इसे रोका नहीं गया तो कश्मीर जैसी स्थिति उत्तराखंड में निर्माण होने में समय नहीं लगेगा। आज देश के इस्लामीकरण का प्रयास किया जा रहा है, इसके विरोध में हिन्दुओं का जागरूक होना आवश्यक है। देश की ‘सेक्युलर’ व्यवस्था के कारण आज अनेक समस्याएं निर्माण हुई हैं। भारत को इस्लामिक राष्ट्र बनने से बचाने के लिए भारत को ‘हिन्दू राष्ट्र’ घोषित किया जाना चाहिए।
– Legend News

– एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *