रोजगार परक पाठ्यक्रम बन रहे हैं विद्यार्थियों की पहली पसंद

मथुरा। संस्कृति विश्वविद्यालय में सभी विषयों में प्रवेश प्रक्रिया प्रारंभ हो चुकी है। पिछले कुछ दिनों के दौरान प्रवेश लेने वाले विद्यार्थियों और प्रवेश के लिए जानकारी लेने वाले अभिभावकों और विद्यार्थियों में बड़ी संख्या ऐसी है जिन्होंने रोजगारपरक पाठ्यक्रमों में प्रवेश लेने में अधिक रुचि दिखाई है। जहां व्यक्तिगत रूप से और ऑनलाइन विद्यार्थी विवि के एडमीशन सेल से संपर्क कर रहे हैं, वहां विवि उनको नि:शुल्क काउंसलिंग की सुविधा भी प्रदान कर रहा है।

संस्कृति स्कूल ऑफ मेडिकल एंड एलाइड साइंसेज की डीन डॉ. पल्लवी श्रीवास्तव

प्रवेश प्रक्रिया को कोऑर्डिनेट कर रहीं संस्कृति स्कूल ऑफ मेडिकल एंड एलाइड साइंसेज की डीन डॉ. पल्लवी श्रीवास्तव ने उक्त जानकारी देते हुए बताया कि वर्तमान दौर का विद्यार्थी बहुत सजग और समझदार है। अधिकांश विद्यार्थियों की बातचीत से यह स्पष्ट हुआ है कि विद्यार्थी अब अपने भविष्य के प्रति बहुत गंभीर है और अपनी रुचि और लक्ष्य को लेकर ही उच्च शिक्षा में आगे बढ़ना चाहता है। विवि के विशेषज्ञ जहां विद्यार्थी विषय के चयन में दुविधा महसूस कर रहे हैं वहां पूरा समय देकर उनकी इस दुविधा को दूर करने में हर तरह का ज्ञान उपलब्ध करा रहे हैं।

डॉ. पल्लवी बताती हैं कि इंजीनियरिंग की कोर ब्रांचेज में स्पेशलाइजेशन के लिए सपोर्टिव कोर्सेज को लेकर विद्यार्थियों द्वारा काफी सवाल पूछे जा रहे हैं। प्रवेश चाहने वाले विद्यार्थियों द्वारा ऐसे सवाल पूछे जाने पर ही यह स्पष्ट होता है कि अब वे वही शिक्षा हासिल करना चाहते हैं जो उनको रोजगार दिलाने में सहायक हो या फिर उनके उद्यमी बनने का सपना पूरा कर सके। डॉ. पल्लवी बताती हैं कि विवि के इंजीनियरिंग, बिजनेस मैनेजमेंट, लीगल स्टडी, एग्रीकल्चर, नर्सिंग, फैशन डिजाइनिंग, मेडिकल एंड अलाइड साइंसेज के स्कूलों में प्रवेश के इच्छुक विद्यार्थियों की संख्या बताती है कि रुचि किस ओर अधिक है। उधर संस्कृति आयुर्वेद एंड यूनाऩी मेडिकल कालेज, फार्मेसी के कोर्सेज में भी पढ़ने की इच्छा रखने वालों की बड़ी संख्या सामने आ रही है।

डॉ. पल्लवी ने बताया कि प्रवेश चाहने वाले बहुत सारे विद्यार्थी जो व्यक्तिगत रूप से विवि आ रहे हैं वे यहां का वातावरण, खेल सुविधाएं, खेल के मैदान, जिम, पुस्तकालय, अत्याधुनिक लैब देखकर काफी प्रभावित हो रहे हैं।

संस्कृति विवि द्वारा दी जा रही अंतर्राष्ट्रीय स्तर की उच्च शिक्षा के साथ-साथ यहां अन्य गतिविधियों के लिए भी उच्च मानकों वाली व्यवस्थाएं की गई हैं। उच्च शिक्षा के गिने-चुने अंतर्राष्ट्रीय केंद्र के रूप संस्कृति विवि को स्थापित करने की सोच के साथ ही विवि आगे बढ़ रहा है।
– Legend News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *