Sikh genocide पर शर्मनाक बयान: सैम पित्रोदा के खिलाफ प्रदर्शन, मामला दर्ज

नई दिल्‍ली। Sikh genocide को लेकर शर्मनाक बयान देने पर सैम पित्रोदा के खिलाफ विरोध प्रदर्शन जारी हैं वहीं भाजपा नेता तेजिंदर सिंह बग्गा ने मामला दर्ज कराया है। तेजिंदर सिंह बग्गा ने शिकायत में उनका कहना है कि कांग्रेस नेता के बयान ने हमारे सिख भाइयों और बहनों की भावनाओं का अपमान और उन्हें आहत किया है।

1984 में हुए Sikh genocide पर बयान देना कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और ओवरसीज कांग्रेस के अध्यक्ष सैम पित्रोदा को भारी पड़ गया है। जहां भाजपा ने उनके बयान की निंदा की है। वहीं अब उनके खिलाफ मामला दर्ज हो गया है। पित्रोदा के खिलाफ पार्लियामेंट स्ट्रीट पुलिस स्टेशन में भाजपा के तेजिंदर सिंह बग्गा ने मामला दर्ज करवाया है। इसके अलावा कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के घर से बाहर भाजपा ने पित्रोदा के बयान को लेकर विरोध प्रदर्शन किया।

गुरुवार को पित्रोदा ने 1984 दंगे के मुद्दे पर कहा था- अब क्या है 84 का? आपने (मोदी) क्या किया है पांच साल में, उसकी बात करिए। 84 में हुआ तो हुआ, आपने क्या किया? आपको रोजगार पैदा करने के लिए वोट दिया गया था, 200 स्मार्ट सिटी बनाने के लिए वोट मिले थेष आपने वो भी नहीं किया। उनके इस बयान ने भाजपा को कांग्रेस पर हमला करने का एक नया हथियार दे दिया।

अपने बयान पर हुए राजनीतिक घमासान को लेकर उन्होंने भाजपा पर आरोप लगाया कि उनके साक्षात्कार में से ‘तीन शब्द’ निकाल कर गलत तरीके से पेश कर दिए गए। शुक्रवार की सुबह उन्होंने एक के बाद एक ट्वीट कर अपने बयान का बचाव किया। कहा कि मैं अपने सिख भाइयों-बहनों का दर्द समझता हूं। मैं समझता हूं कि 1984 में उन्हें काफी दर्द झेलना पड़ा।

उन्होंने कहा कि भाजपा मेरे तीन शब्द को गलत तरीके से पेश कर वास्तविकता से दूर भाग रही है और हमें बांटकर अपनी नाकामियां छिपा रही है। दुखद है कि उनके पास बताने को कुछ भी सकारात्मक नहीं है। उन्होंने कहा कि राजीव गांधी और राहुल गांधी ने कभी भी किसी जाति-पंथ के आधार पर लोगों को बांटकर टारगेट नहीं किया है। ऐसा करना भाजपा के नेताओं की आदत रही है, क्योंकि वह अपनी परफॉर्मेंस पर, देश को आगे ले जाने के लिए अपने विजन पर बात ही नहीं कर सकते।

वहीं शुक्रवार को हरियाणा के रोहतक में एक रैली को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सैम पित्रोदा को आड़े हाथ लिया। उन्होंने कहा, ‘सैम पित्रोदा गांधी परिवार के सबसे बड़े राजदार हैं। कांग्रेस के लिए जीवन का कोई मूल्य नहीं है। 1984 के कत्लेआम पर कांग्रेस कह रही है कि हुआ तो हुआ। इस दंगे में कांग्रेस के नेताओं पर दंगे में शामिल होने और साजिश रचने का आरोप लगा। आज कह रही है जो हुआ सो हुआ। पित्रोदा राहुल के गुरु हैं। दिल्ली में 2800 सिखों की हत्या हुई। कल बोले गए तीन शब्द कांग्रेस का चरित्र हैं, कांग्रेस की मानसिकता है, कांग्रेस के इरादे हैं। वो शब्द थे- हुआ सो हुआ।’

-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »