कमलम बना ड्रैगनफ्रूट, क्या हैं इसके फायदे और कहां से आया

गुजरात के मुख्यमंत्री व‍िजय रूपानी ने ड्रैगन फ्रूट का नाम बदलकर ‘कमलम’ कर दिया , क्योंक‍ि यह दिखने में कमल की तरह है। संस्कृत में कमलम का मतलब है कमल। सोशल मीडिया पर भी इसकी चर्चा है। तो चल‍िए जानते हैं इसके बारे में –

19वीं शताब्दी में एशिया पहुंचा
यह एक रंग-बिरंगा फ्रूट है और दिखने में काफी आकर्षक है। सेंट्रल अमेरिका में इसे पिटाया कहते हैं। एशिया में इसे स्ट्रॉबेरी पियर के नाम से भी जाता है, लेकिन सबसे चर्चित नाम है ड्रैगन फ्रूट। यह मेक्सिको और साउथ-सेंट्रल अमेरिका में उगाया जाता था। 19वीं शताब्दी में फ्रांस के लोग इसे साउथ एशिया लेकर आए। यही से यह भारत पहुंचा।

डायटीशियन के अनुसार ड्रैगन फ्रूट कई तरह से फायदेमंद होता है। इसमें फायबर होने के कारण यह पेट की दिक्कतों से बचाता है और एंटीऑक्सीडेंट्स रोगों से लड़ने की क्षमता को बढ़ाते हैं। जानिए, इसके 4 बड़े फायदे

1. कंट्रोल करता है ब्लड शुगर
ड्रैगनफ्रूट पर हुई एक रिसर्च कहती है, यह फल पेन्क्रियाज की उन कोशिकाओं को हटाता है जो इंसुलिन नहीं बनातीं और काम करना बंद कर देती हैं। हालांकि, इसके लिए कितना ड्रैगन फ्रूट लेना चाहिए, रिसर्च में इसकी जानकारी नहीं दी गई है। एक्सपर्ट कहते हैं, फायबर होने के कारण यह ब्लड शुगर कंट्रोल करने में आपकी मदद कर सकता है।

2. दूर होगी थकान, पूरी करेगा आयरन की कमी
यह शरीर में आयरन की कमी पूरी करता है। एक्सपर्ट कहते हैं, शरीर के हर हिस्से में ऑक्सीजन पहुंचने के लिए आयरन बहुत जरूरी है। कई मामलों में थकान की बड़ी वजह आयरन की कमी भी होती है, इसलिए इसे खाना फायदेमंद है। इसमें विटामिन-सी है जो चमकदार स्किन के लिए जरूरी है।

3. रोगों से लड़ने की क्षमता बढ़ाता है
ड्रैगन फ्रूट एंटीऑक्सीडेंट्स से भरपूर होता है। यह शरीर में कैंसर की वजह बनने वाले फ्री-रेडिकल्स को घटाता है और रोगों से लड़ने की क्षमता बढ़ाता है। इसमें फ्लेवेनॉयड्स पाया जाता है जो आपको हेल्दी रखता है।

4. पेट के रोगों से दूर रखता है, वजन कंट्रोल करता है
फायबर की मात्रा अधिक होने के कारण यह आपकी भूख शांत करता है और वजन घटाने में मदद करता है। इसमें फैट बिल्कुल नहीं है। फायबर के कारण ही यह पेट से जुड़ी दिक्कतों जैसे कब्ज आदि से भी बचाता है। इसमें प्रीबायोटिक्स होते हैं जो आंतों में शरीर को फायदा पहुंचाने वाले बैक्टीरिया की संख्या को बढ़ाते हैं।

कैसे खाएं और कितना खाएं

इसे खाने के कोई साइडइफेक्ट नहीं है। एक रिसर्च कहती है कि कुछ लोगों को इससे एलर्जी हो सकती है। ऐसा होने पर उल्टी और जीभ में सूजन जैसे लक्षण दिख सकते हैं। लेकिन ऐसे मामले बेहद दुर्लभ हैं।

इसे खाने के लिए ऊपर का सख्त हिस्सा हटाएं और अंदर का बीज वाला हिस्सा खाएं। इसे अनानास और आम की तरह फ्रूट सेलेड के रूप में खा सकते हैं। या इसका जूस भी पी सकते हैं।

– एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *