क्या ट्रांसलेशन से बदल जाते हैं प्‍यार का इजहार करने के भाव ?

लव यानी प्यार, अपनी सॉफ्ट फीलिंग्स को दूसरे इंसान तक पहुंचाने के लिए उपयोग किया जाने वाला एक शब्द है। इसे तुर्की भाषा में ‘सेवगी’ और हंगेरियन भाषा में ‘सेरेमलेम’ कहा जाता है। लेकिन क्या इस शब्द का ट्रांसलेशन कर देने से और इसके उच्चारण का तरीका बदल जाने से इसका वही भाव सामने वाले तक पहुंचता है, जो हम पहुंचाना चाहते हैं…
शोध पर रहा इनका फोकस
इस विषय को ध्यान में रखकर चैपल हिल में स्थित यूनिवर्सिटी ऑफ नॉर्थ कैरोलिना और मैक्स प्लैंक इंस्टीट्यूट के शोधकर्ताओं एक स्टडी की। जिसमें दुनियाभर में प्यार जताने के लिए उपयोग किए होने वाले शब्दों को शामिल किया गया।
शब्दों पर भारी सोच का तरीका
इस शोध में सामने आया कि गुस्सा, डर और खुशी के बारे में सोचने का तरीका हमारी भाषा पर निर्भर करता है। इमोशंस से जुड़ी इस रिसर्च के जरिए सही रिजल्ट हासिल करने के उद्देश्य से दुनियाभर की करीब 2 हजार 500 भाषाओं पर स्टडी की गई। यह स्टडी द जर्नल साइंस में हाल ही प्रकाशित की गई है।
अंग्रेजी में इसका अनुवाद ही नहीं
भावनाओं को व्यक्त करने के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले शब्द खासतौर पर लव को जताने वाले शब्द काफी अनोखे और खास हैं। साथ ही ये उस खास क्षेत्र की संस्कृति में विशेष रूप से रचे-बसे हैं। जैसे जर्मन भाषा का एक बेहद खास शब्द है ‘सेहनेसट’ इस शब्द का अर्थ होता है, एक वैकल्पिक जीवन की तीव्र इच्छा लेकिन अंग्रेजी में इस शब्द के लिए कोई ट्रांसलेशन वर्ड नहीं है।
कई भावनात्मक स्थितियों को जिस तरह से भाषाओं में व्यक्त किया गया है, वे इंमोशन की डेप्थ के बेहद करीब हैं। भाषागत शोध के दौरान इससे जुड़े प्रश्नों के लिए रिसर्च टीम “colexified” शब्दों पर निर्भर रही। इसका मतलब यह है कि टीम ने अलग-अलग भाषाओं के उन शब्दों को ध्यान में रखकर शोध किया जिनका उपयोग कई तरह से किया जाता है और हर उपयोग एक अलग अर्थ लिए हुए होता है।
फनी भद्दा भी होता है
शब्दों पर रिसर्च के दौरान इस बात पर खास ध्यान रहा कि बदले हुए उपयोग के दौरान कैसे एक ही शब्द का अर्थ बदल जाता है और विशेषज्ञ उस अर्थ को बिल्कुल उसी भाव के साथ समझ लेते हैं, जो कि बोलने वाला व्यक्ति उन तक पहुंचाना चाहता है। जैस अंग्रेजी भाषा का शब्द फनी (Funny)कहीं ह्यूमर के सेंस में उपयोग किया जाता है तो कहीं ऑड (Odd) यानी बुरा या भद्दा के सेंस में। इसी तरह ह्यूमर (Humour)का उपयोग भी कई बार ऑड के सेंस में उपयोग होता है।
डराता भी है सरप्राइज
भावों को समझने के लिए शोधकर्ताओं ने एक ऐसा भाषाई नेटवर्क बनाया जो फीलिंग्स जताने के लिए यूज किए जाते हैं और अलग-अलग भाषाओं से आते हैं। उदाहरण के लिए ऑस्ट्रोनियन भाषाओं में अंग्रेजी भाषा का शब्द सरप्राइज, फीयर यानी डर के काफी नजदीक था। वहीं ताई-कडाई भाषाओं में सरप्राइज शब्द उम्मीद और चाहत के काफी करीब था। मतलब वैसा भाव व्यक्त करने वाला था।
भाव और भाषा की समानता
शोध के लीड ऑर्थर क्रिस्टेन लिंडक्विस्ट के अनुसार हर लैंग्वेज फैमिली में भावनाएं एक ही तरह से व्यक्त नहीं की गईं हैं, हमारे अध्ययन में सामने आया है कि जिन लैंग्वेज फैमिलीज के शब्द और भावनाएं आपस में एक-दूसरे से कुछ समानता लिए हुए थीं, उन भाषाओं के क्षेत्र भी भौगाोलिक रूप से नजदीक थे।
ऐसे पहुंची दूर तक
क्रिस्टेन आगे कहते हैं कि कई क्षेत्रों में उन शब्दों का इस्तेमाल, जो उस क्षेत्र की लैंग्वेज फैमिली से मेल नहीं खाता, वह व्यापार, भ्रमण और पलायन के जरिए भौगोलिक रूप से दूर स्थित क्षत्रों तक पहुंचा हो सकता है।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *