KD मेडिकल कॉलेज के डॉक्टरों ने भी की सांकेतिक strike

मथुरा। कोलकाता के नील रतन सरकार मेडिकल कॉलेज एण्ड हॉस्पिटल में डॉक्टरों पर हुए हमले के खिलाफ आज KD मेडिकल कॉलेज-हॉस्पिटल एण्ड रिसर्च सेण्टर के डॉक्टरों ने पश्चिम बंगाल सरकार को आगाह किया कि चिकित्सकों के सेवाभाव को कमजोरी न समझा जाए। डॉक्टरों ने संयुक्त रूप से कहा कि कभी भी कोई चिकित्सक कातिल नहीं हो सकता, लिहाजा पश्चिम बंगाल सरकार वोट बैंक की राजनीति न करते हुए डॉक्टरों की पूर्ण सुरक्षा के प्रबंध करना चाहिए।

सोमवार को KD मेडिकल कॉलेज-हॉस्पिटल एण्ड रिसर्च सेण्टर के डॉक्टरों ने एकजुटता का परिचय देते हुए पश्चिम बंगाल सरकार को आगाह किया कि यदि डॉक्टरों को न्याय नहीं मिला तो वे सभी तरह की चिकित्सा सेवाएं ठप कर देंगे। दरअसल, कोलकाता के एनआरएस मेडिकल कॉलेज अस्पताल में एक मरीज के परिजनों द्वारा कथित रूप से दो जूनियर डॉक्टरों की पिटाई के बाद देशभर के डॉक्टरों में पश्चिम बंगाल सरकार के खिलाफ जबर्दस्त आक्रोश है। डॉक्टरों पर आए दिन हो रहे हमलों को लेकर इंडियन मेडिकल एसोसिएशन ने भी केन्द्र और राज्य सरकारों से देश भर के चिकित्सकीय कॉलेजों एवं अस्पतालों में पर्याप्त सुरक्षा की मांग की है।

कोलकाता के strike डॉक्टरों के समर्थन में KD मेडिकल कॉलेज के चिकित्सकों ने सोमवार को काली पट्टी बांधकर विरोध प्रदर्शन किया। इस अवसर पर डॉ. श्याम बिहारी शर्मा, डॉ. सम्राट रे, डॉ. रिचा सिंह, डॉ. अरविन्द कुमार शुक्ला, डॉ. एस. के. बंसल, डॉ. वरुण सिसोदिया, डॉ. अम्बरीश, डॉ. आशुतोष सिंह आदि ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री को इस संवेदनशील मामले को प्रतिष्ठा का मुद्दा न बनाते हुए सौहार्द्रपूर्ण वातावरण बनाने का अनुरोध किया। डॉक्टरों ने कहा कि यदि चिकित्सकों के साथ ऐसे ही दुर्व्यवहार होते रहे तो एक दिन ऐसा भी आएगा जब अभिभावक अपने बच्चों को डॉक्टर बनाना पसंद नहीं करेंगे।

डॉक्टरों ने एक स्वर से कहा कि यदि चिकित्सक ही सुरक्षित नहीं होगा तो वह भला पूर्ण मनोयोग से मरीज की चिकित्सीय सेवा कैसे कर पाएगा। KD मेडिकल कॉलेज के चिकित्सकों ने कहा कि आएदिन डॉक्टरों पर हिंसक वारदातें हो रही हैं। समाज को भी सोचना चाहिए कि डॉक्टर भगवान नहीं होता, वह मरीज के साथ सिर्फ अपने कर्तव्य का पालन करता है। डॉक्टरों ने पश्चिम बंगाल ही नहीं देश के सभी चिकित्सकीय कॉलेजों एवं अस्पतालों में पर्याप्त सुरक्षा की मांग की है।

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *