श्रीकृष्ण जन्मस्थान पर थर्मल स्क्रीनिंग के बाद श्रद्धालुओं ने क‍िए दर्शन

मथुरा/काशी/अयोध्या। अनलॉक1 में 75 दिन से बंद रहे धर्मस्थलों को आज सोमवार से खोलने की छूट दी गई है ज‍िसके बाद अयोध्या, काशी, मथुरा के मंदिरों में सैनिटाइजेशन, सुरक्षा घेरा बनाने समेत कई कदम उठाए गए। मथुरा में श्रीकृष्ण जन्मस्थान के अलावा अन्य मंदिर अभी नहीं खुले हैं। श्रीकृष्ण जन्मस्थान में श्रद्धालुओं ने दर्शन किये परंतु  बांके बिहारी मंदिर 30 जून तक बंद रहेगा।

श्रीकृष्ण जन्म स्थान के पट सुबह 7 बजे दर्शनार्थियों के लिए खोल दिए गए
श्रीकृष्ण जन्म स्थान के पट सुबह 7 बजे दर्शनार्थियों के लिए खोल दिए गए

ब्रज में अधिकांश मंदिरों के पट आम श्रद्धालुओं के लिए नहीं खुले हैं। हालांकि, श्रीकृष्ण जन्म स्थान के पट सुबह 7 बजे दर्शनार्थियों के लिए खोल दिए गए। कोरोना के चलते बाहरी श्रद्धालु तो यहां नजर नहीं आए, लेकिन कुछ स्थानीय भक्त अपने आराध्य के दर्शन करने जरूर पहुंचे। श्रद्धालु यहां सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए बनाए गए मार्क में चल रहे थे। मुख्य द्वार पर ही थर्मल स्क्रीनिंग की गई। श्रद्धालुओं को मास्क लगाकर आना अनिवार्य है।
वहीं, बांके बिहारी जी मन्दिर के पट श्रद्धालुओं के लिए नहीं खोले गए। बांके बिहारी मंदिर अभी 30 जून तक बन्द रहेगा। यहां लॉकडाउन के दौरान की स्थिति ही नजर आई। मुख्य द्वार पर निजी सुरक्षाकर्मी तैनात थे, लेकिन मुख्य द्वार बंद था। मंदिर के सहायक प्रबंधक उमेश सारस्वत ने बताया कि वर्तमान परिस्थितियों को देखते हुए गोस्वामी समाज की सहमति के बाद मंदिर को 30 जून तक श्रद्धालुओं के लिए बन्द रखने का निर्णय लिया है। कुछ श्रद्धालु निराश नजर आए तो कुछ लोगों ने इसे सही निर्णय बताया। यही स्थिति वृन्दावन के रंगनाथ मन्दिर, राधा रमण, इस्कॉन, प्रेम मंदिर के अलावा बरसाना, नंदगांव और गोवर्धन के मंदिरों की है। यहां भी मन्दिरों के पट आम श्रद्धालुओं के लिए नहीं खोले गए।

काशी: कल खुलेगा बाबा विश्वनाथ का दरबार, यहां ऑटोमैटिक सैनिटाइजर मशीन लगी

काशी में कल खुलेगा बाबा विश्वनाथ का दरबार
काशी में कल खुलेगा बाबा विश्वनाथ का दरबार

रोज की तरह सोमवार सुबह भी बाबा विश्वनाथ का विधि विधान से पूजन-अर्चन किया गया, लेकिन आम लोगों के लिए मंदिर के पट नहीं खुले। मंगलवार सुबह मंगला आरती के बाद आमजनों को प्रवेश दिया जाएगा। मंदिर के सीओ विशाल सिंह ने बताया कि एक बार में केवल 5 लोग ही मंदिर में जाएंगे। सबसे पहले बाहर थर्मल स्क्रीनिंग होगी। तापमान सही होने पर ही आगे जाने दिया जाएगा।

गर्भगृह में कोई भी श्रद्धालु नहीं जाएगा। साथ ही मंदिर के अंदर रेलिंग, घंटा कोई भी भक्त नही छुएगा। आरती की टिकटों को तिहाई करने की भी योजना है। मंदिर में जाने वाले को ऑटोमैटिक सैनिटाइजेशन मशीन से होकर गुजरना होगा। बिना मास्क के प्रवेश नहीं मिलेगा। भक्तों की आपस की दूरी 2 मीटर के लिए गोले बनाए गए हैं। मंदिर से कोई भी चढ़ा हुआ प्रसाद माला फूल नहीं मिलेगा। पुजारी किसी को टीका-चंदन भी नही लगाएंगे।

अयोध्या: दो माह बाद रामनगरी में लौटी रौनक, सरयू तट व मंदिरों में दिखे श्रद्धालु
करीब दो माह बाद आज रामनगरी अयोध्या में श्रद्धालु दर्शन के लिए राम जन्मभूमि और हनुमानगढ़ी पहुंचे। सरयू तट पर भी स्नान के लिए लोग पहुंचे। हालांकि, सुरक्षाकर्मियों ने वहां 5 से ज्यादा लोगों को एक जगह एकत्रित होने पर रोका। सोशल डिस्टेंसिंग के साथ मंदिरों में लोगों को जाने दिया गया। संतों ने कहा- धार्मिक माहौल धीरे धीरे अब और सुधरने की उम्मीद है। हनुमानगढ़ी के महंत राजू दास का कहना है कि सरकार ने जो गाइडलाइन दी है उसका मंदिरों में पालन किया जा रहा है। इस व्यवस्था से लोग सुरक्षित रहकर मंदिरों में दर्शन कर सकेंगे। प्रसाद की व्यवस्था की जा रही है, श्रद्धालु ठाकुर जी को चढ़ाकर सीधे लेकर आगे बढ़ जाएंगे। आज बहुत ही कम श्रद्धालु मंदिरों में आए। इसका प्रमुख कारण है कि अभी भी कोरोना का खौफ बरकरार है।

-Legend News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *