रक्षा मंत्री राजनाथ ने शंघाई सहयोग संगठन की बैठक में लिया हिस्‍सा

नई दिल्‍ली। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने बुधवार को दुशांबे में शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) की अहम बैठक में हिस्सा लिया। बैठक में क्षेत्रीय आतंकवाद और अफगानिस्तान के मौजूदा हालात समेत अन्य सुरक्षा चुनौतियों से निपटने पर चर्चा हुई।
राजनाथ सिंह आठ देशों के प्रभावशाली संगठन एससीओ के रक्षा मंत्रियों की बैठक में शामिल होने मंगलवार को तीन दिवसीय दौरे पर ताजिकिस्तान की राजधानी दुशांबे पहुंचे। इस सम्मेलन में शामिल होने से पहले राजनाथ सिंह ने बेलारूस के रक्षा मंत्री लेफ्टिनेंट जनरल विक्टर ख्रेनिन से द्विपक्षीय बातचीत की।
इसके अलावा राजनाथ सिंह रूस के रक्षा मंत्री जनरल सर्गेई शोगू से भी मिले। रूस में भारतीय राजदूत ने दोनों नेताओं की फोटो के साथ ट्वीट कर कहा कि दोनों नेताओं की बातचीत में भारत और रूस की गर्मजोशी से भरी दोस्ती और विश्वास की झलक थी। दोनों देशों ने रक्षा साझेदारी को और मजबूत करने की पुष्टि की। अधिकारियों ने कहा कि राजनाथ सिंह के अपने संबोधन में आतंकवाद सहित क्षेत्रीय सुरक्षा चुनौतियों जैसे मुद्दे उठाने और इनसे निपटने के ठोस तरीकों की पैरवी करने की उम्मीद है।
इससे पहले विदेश मंत्री एस. जयशंकर 14 जुलाई को एससीओ देशों के विदेश मंत्रियों की बैठक में शामिल होने दुशांबे पहुंचे थे। उन्होंने सम्मेलन से इतर अपने चीनी समकक्ष वांग यी के साथ द्विपक्षीय बैठक की थी जो एक घंटे चली थी।
ताजिकिस्तान इस साल एससीओ की अध्यक्षता कर रहा है और मंत्री एवं अधिकारी स्तर की कई सिलसिलेवार बैठकों का आयोजन कर रहा है। एससीओ को नाटो के जवाब के तौर पर देखा जाता है।
भारत और पाकिस्तान 2017 में एससीओ के स्थायी सदस्य बने थे। इस समूह की स्थापना 2001 में रूस, चीन, किर्गिस्तान, कजाकिस्तान, ताजिकिस्तान और उज्बेकिस्तान के राष्ट्रपतियों ने शंघाई में एक शिखर सम्मेलन में की थी।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *