पुण्‍यतिथि विशेष: हिन्दी के प्रमुख साहित्यकार भगवती चरण वर्मा

हिन्दी जगत के प्रमुख साहित्यकार भगवती चरण वर्मा की आज पुण्‍यतिथि है। 30 अगस्‍त 1903 को उत्तर प्रदेश के उन्‍नाव में जन्‍मे भगवतीचरण वर्मा की मृत्‍यु 05 अक्‍टूबर 1981 के दिन हुई थी।
भगवती चरण वर्मा के रेडियो रूपक ‘महाकाल’, ‘कर्ण’ के अलावा ‘द्रोपदी’- जो 1956 ई. में ‘त्रिपथगा’ के नाम से एक संकलन के आकार में प्रकाशित हुई, उनकी विशिष्ट कृतियाँ हैं। यद्यपि उनकी प्रसिद्ध कविता ‘भैंसागाड़ी’ का आधुनिक हिन्दी कविता के इतिहास में अपना महत्त्व है।
उन्‍होंने लेखन तथा पत्रकारिता के क्षेत्र में भी प्रमुख रूप से कार्य किया। इसी बीच व फ़िल्म तथा आकाशवाणी से भी जुड़े। बाद में यह स्वतंत्र लेखन की वृत्ति अपनाकर लखनऊ में बस गये। इन्हें राज्यसभा की मानद सदस्यता प्राप्त करायी गई।
उनका पहला कविता संग्रह ‘मधुकण’ के नाम से 1932 ई. में प्रकाशित हुआ। तदनन्तर दो और काव्य संग्रह ‘प्रेम संगीत’ और ‘मानव’ निकले। इन्हें किसी ‘वाद’ विशेष के अंतर्गत मानना ग़लत है। रूमानी मस्ती, नियतिवाद, प्रगतिवाद, अन्तत: मानववाद इनकी विशिष्टता है।
भगवती चरण वर्मा मुख्यत: उपन्यासकार हों या कवि लेकिन नाम उनका उपन्यासकार के रूप में ही अधिक हुआ है, विशेषतया ‘चित्रलेखा’ के कारण। ‘तीन वर्ष’ नयी सभ्यता की चकाचौंध से पथभ्रष्ट युवक की मानसिक व्यथा की कहानी है। तीन वर्ष और टेढ़े-मेढ़े रास्ते राजनीतिक और सामाजिक पृष्ठभूमि में प्राय: यंत्रवत परिचालित पात्रों के माध्यम से लेखक यह दिखाने की चेष्टा करता है कि समाज की दृष्टि में ऊँची और उदात्त जान पड़ने वाली भावनाओं के पीछे जो प्रेरणाएँ हैं, वे और कुछ नहीं केवल अत्यन्त सामान्य स्वार्थपरता और लोभ की अधम मनोवृत्तियों की ही देन हैं। आख़िरी दाँव एक जुआरी के असफल प्रेम की कथा है। इनका बृहत्तम और सर्वाधिक सफल उपन्यास भूले बिसरे चित्र (1959) है, जिसमें अनुभूति और संवेदना की कलात्मक सत्यता के साथ उन्होंने तीन पीढ़ियों का, भारत के स्वातंत्र्य आन्दोलन के तीन युगों की पृष्ठभूमि में मार्मिक चित्रण किया है।
पुरस्कार
भगवतीचरण वर्मा को भूले बिसरे चित्र पर साहित्य अकादमी पुरस्कार और पद्मभूषण से सम्मानित किया गया।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *