क्यूबा ने निजी कारोबारियों के लिए खोली अपनी अर्थव्यवस्था

क्यूबा की सरकार ने घोषणा की है कि वो निजी व्यवसायों को अधिकांश क्षेत्रों में काम करने की अनुमति देगी.
इसे क्यूबा की सरकार-नियंत्रित अर्थव्यवस्था में एक बड़ा सुधार कहा जा रहा है.
क्यूबा की श्रम मंत्री मार्टा एलीना फ़ेइतो ने कहा कि अब अधिकृत उद्योगों की सूची 127 से बढ़कर 2,000 से अधिक हो गई है.
उन्होंने कहा कि सरकार केवल कुछ क्षेत्रों से संबंधित उद्योगों का संचालन करेगी, बाक़ी क्षेत्रों में निजी व्यवसायों को बढ़ावा दिया जाएगा.
क्यूबा की कम्युनिस्ट सरकार के अनुसार, कोरोना महामारी से उनके देश की अर्थव्यवस्था को कड़ी चोट लगी है. साथ ही ट्रंप प्रशासन के क्यूबा पर लगाए गए प्रतिबंधों ने स्थिति को और बिगाड़ दिया.
पिछले साल क्यूबा की अर्थव्यवस्था में क़रीब 11 प्रतिशत की गिरावट आई, जो बीते तीन दशक में क्यूबा की सबसे ख़राब स्थिति बताई गई. स्थानीय मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, क्यूबा में फ़िलहाल बुनियादी वस्तुओं की कमी का सामना करना पड़ रहा है.
क्यूबा की श्रम मंत्री फ़ेइतो ने कहा कि सिर्फ़ 124 उद्योगों को निजी भागीदारी से अलग रखा गया है. हालांकि, उन्होंने इसका उल्लेख नहीं किया कि वो कौन से उद्योग होंगे जिन्हें निजी भागीदारी से अलग रखा जाएगा.
समाचार एजेंसी एएफ़पी ने फ़ेइतो के हवाले से लिखा है कि ‘निजी व्यवसायों का विकास जारी रहे, यही इस सुधार का उद्देश्य है.’ उन्होंने एजेंसी से बातचीत में यह दावा भी किया कि इससे निजी क्षेत्र की ‘उत्पादक शक्तियों को मुक्त करने में मदद’ मिलेगी.
विशेषज्ञों का कहना है कि सरकार के इस क़दम से क्यूबा में होने वाली लगभग सभी आर्थिक गतिविधियों में निजी भागीदारी का रास्ता खुल जाएगा.
दरअसल, क्यूबा की जटिल और पेचीदा अर्थव्यवस्था में हुए इस बदलाव पर लिखा गया है कि ‘इससे उन लोगों को बहुत मदद मिलने वाली है जो छोटे व्यवसायों से आगे बढ़ने की आशा रखते हैं और क्यूबा में मध्यम आकार के उपक्रम बनाकर काम करना चाहते हैं.’
क्यूबा में हज़ारों छोटे फ़ार्म हैं जिनमें खेती होती है. खेती को क्यूबा में एक मुख्य व्यवसाय कहा जा सकता है. इसके अलावा क्यूबा के ग़ैर-सरकारी क्षेत्र में मुख्य रूप से कारीगर, टैक्सी चालक और छोटे व्यापारी हैं जो छोटे-मोटे काम धंधों में लगे हैं. क्यूबा में क़रीब छह लाख लोग निजी क्षेत्र में काम करते हैं जो क्यूबा की कुल वर्कफ़ोर्स (श्रमिकों) की आबादी का 13 प्रतिशत है.
हालांकि, क्यूबा में सबसे अधिक निजी व्यवसाय पर्यटन उद्योग से संबंधित हैं, जिनकी परेशानियाँ कोरोना महामारी और प्रतिबंधों की वजह से बढ़ गई हैं.
सुधारों की धीमी रफ़्तार को देखते हुए ये कहा जा सकता है कि ज़मीन पर इनका असर दिखाई देने में अभी वक़्त लगेगा.
क़रीब 60 वर्षों तक अमेरिका और क्यूबा के बीच शत्रुता रहने के बाद, जब वर्ष 2015 में तत्कालीन अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा और क्यूबा के नेता राउल कास्त्रो ने मुलाक़ात की, तो दोनों देशों के बीच संबंध सामान्य हुए थे. उस मुलाक़ात में यह तय हुआ था कि क्यूबा अमेरिकी नागरिकों को अपने यहाँ आने देगा और स्थानीय निजी व्यवसायों को सशक्त बनाने की इजाज़त दी जाएगी लेकिन बराक ओबामा ने अपने कार्यकाल में क्यूबा के साथ जो प्रयास किए थे, उन्हें उनके उत्तराधिकारी, पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने पलट दिया. उनके समर्थकों ने यह दलील दी कि कास्त्रो के कम्युनिस्ट शासन के तुष्टीकरण के लिए ओबामा ने यह निर्णय लिया था.
बहरहाल, नए अमेरिकी राष्ट्रपति बाइडन जो ओबामा के कार्यकाल में उनके उप-राष्ट्रपति थे, वे यह संकेत दे चुके हैं कि वो अमेरिका और क्यूबा के संबंधों को सुधारना चाहते हैं. लेकिन पर्यवेक्षकों का कहना है कि यह स्पष्ट नहीं कि उनकी प्राथमिकता सूची में क्यूबा कितना ऊपर स्थान रखता है.
-BBC

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *