हिमाचल के ऊना में खुलेगा गायों के लिए देश का पहला सेंटर ऑफ एक्सीलेंस

गायों के लिए देश का पहला सेंटर ऑफ एक्सीलेंस हिमाचल प्रदेश के ऊना में खुलेगा। इस सेंटर में सारे काम रोबोट करेगा। रोबोट गोबर उठाने, दूध निकालने से लेकर गायों की बीमारी के बारे भी जानकारी देगा। डेनमार्क की मदद से ऊना के बसाल में खुलने वाला यह सेंटर रोबोट से लैस होगा। केंद्र सरकार की 44 करोड़ की वित्तीय मदद से चलने वाले सेंटर के लिए समझौता ज्ञापन (एमओयू) शीघ्र साइन होगा।

इस केंद्र के लिए प्रदेश सरकार ने 10 हेक्टेयर जमीन का चयन कर लिया है। देश के पहले सेंटर ऑफ एक्सीलेंस में रोबोट काम करेंगे। इन रोबोट की मदद से ही गायों का दूध निकाला जाएगा। दूध में कितना प्रोटीन-फैट है और गायों की किस तरह की पौष्टिक खुराक दी जाए, यह सारा आंकलन रोबोट स्वयं करके देगा। खराब दूध को अलग कंटेनर में एकत्र किया जा सकेगा। गाय किस बीमारी से ग्रसित होने वाली है, यह रोबोट एक दिन पहले ही बता सकेंगे। सेंटर की सफाई भी रोबोट ही करेंगे।

डेनमार्क पहले चरण में सेंटर ऑफ एक्सीलेंस के लिए 200 उन्नत नस्ल की गायें देने के लिए राजी हो गया है। एमओयू साइन होने के बाद केंद्र का काम आरंभ कर दिया जाएगा।
उल्लेखनीय है कि देश में आधुनिक तकनीक से डेयरी फार्म खोलने के लिए यह सेंटर मददगार होगा और साथ ही दुग्ध उत्पादन बढ़ाने में भी मदद मिलेगी।

देश के पहले सेंटर ऑफ एक्सीलेंस के लिए केंद्र सरकार शीघ्र ही डेनमार्क से एमओयू साइन करने वाली है। इस सेंटर में अधिकांश रोबोट ही काम करेंगे। डेनमार्क  200 गायें देगा। यह सेंटर देश में दुग्ध उत्पादन से जुड़े लोगों के लिए मील का पत्थर साबित होगा।

– डॉ. अजमेर सिंह डोगरा, पशुपालन निदेशक, हिमाचल प्रदेश

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *