भारत में पतली होने लगी कोरोना की हालत, रिकवरी रेट हुआ 55.77 प्रतिशत

नई दिल्‍ली। भारत में कोरोना वायरस की हालत पतली होती दिख रही है। दुनिया के बाकी देशों के मुकाबले, भारत में कोरोना की न सिर्फ रफ्तार धीमी रही है। बल्कि बीमारी से उबरने वालों की संख्‍या भी ज्‍यादा है।
देश का रिकवरी रेट इस वक्‍त 55.77 प्रतिशत है जो कि अमेरिका, ब्राजील, रूस जैसे देशों से कहीं बेहतर है। आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक देश में कोरोना के 4.25 लाख मामलों में से 2.37 लाख से ज्‍यादा रिकवर हो चुके हैं। इसके अलावा, आबादी के लिहाज से भी कोरोना को काबू करने में भारत ने अच्‍छा प्रदर्शन किया है।
प्रति लाख आबादी पर सबसे कम इन्‍फेक्‍शन वाले देशों में भारत
स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय ने वर्ल्‍ड हेल्‍थ ऑर्गनाइजेशन की एक रिपोर्ट का हवाला दिया है। इसके मुताबिक भारत अपने उच्‍च जनसंख्‍या घनत्‍व के बावजूद प्रति लाख आबादी पर सबसे कम कोरोना केसेज देशों की सूची में शामिल है। भारत में प्रति एक लाख आबादी पर 30.04 मामले हैं जबकि ग्‍लोबल एवरेज इसके तीन गुने से भी ज्‍यादा, 114.67 है।
क्‍या होता है रिकवरी रेट?
किसी देश में कोरोना का रिकवरी रेट ठीक हो चुके मरीजों के मुकाबले वहां कुल मरीजों की संख्‍या का अनुपात है। मान लीजिए किसी देश में 100 मामले सामने आए हैं जिनमें से 40 रिकवर हो चुके हैं तो उस देश का रिकवरी रेट 40 पर्सेंट होगा। रिकवरी रेट से किसी देश में कोरोना के हालात की भयावहता का अंदाजा मिलता है। जैसे- इटली, स्‍पेन और अमेरिका में एक वक्‍त रिकवरी रेट बेहद कम था और बड़ी संख्‍या में लोगों की मौत हो रही थी। साथ ही नए मामले भी सामने आते जा रहे थे। भारत में ऐसा नहीं है। यहां अगर नए केसेज सामने आ रहे हैं तो रोज उससे ज्‍यादा मरीज ठीक हो रहे हैं।
दिल्‍ली का रिकवरी रेट भी 55% के पार
देश की राजधानी जो अभी तक कोरोना केसेज के बोझ तली दबी थी, वहां से अच्‍छी खबर आई है। पहली बार दिल्‍ली में ठीक हो चुके कोरोना मरीज, एक्टिव मरीजों से ज्‍यादा हो गए हैं। पिछले चार दिन में दिल्‍ली के रिकवरी रेट में 18 पर्सेंट का उछाल देखने को मिला है। पिछले चार महीने में जितने मरीज ठीक नहीं हुए, लगभग उतने मरीज चार दिनों में रिकवर होकर अपने घर पहुंच गए हैं। फिलहाल दिल्‍ली का रिकवरी रेट 55.25 पर्सेंट है।
जर्मनी का रिकवरी रेट सबसे अच्‍छा
पूरी दुनिया में कोरोना से सबसे ज्‍यादा प्रभावित देशों को देखें तो जर्मनी का रिकवरी रेट सबसे बेहतर है। वहां के 92 पर्सेंट से ज्‍यादा मरीज रिकवर हो चुके हैं। उसके बाद ईरान का नंबर है जहां के करीब 80 फीसदी मरीज अब ठीक हैं। इटली में 75% कोविड-19 मरीज रिकवर हो चुके हैं जबकि उसके बाद सीधे रूस का नंबर है जिसका रिकवरी रेट भारत के आसपास ही है। कोरोना से सबसे ज्‍यादा प्रभावित अमेरिका का रिकवरी रेट 40% के आसपास है।
कोरोना केसेज के मामले में भारत चौथे नंबर पर
पूरी दुनिया में अबतक 90 लाख से ज्‍यादा कोविड-19 मरीज मिले हैं। जिनमें से 48 लाख से ज्‍यादा रिकवर हो चुके हैं। करीब 37 लाख केसेज अब भी ऐक्टिव हैं। अमेरिका में सबसे ज्‍यादा 23.5 लाख केस हैं जबकि ब्राजील में 10 लाख से ज्‍यादा मामले हैं। रूस के 5.92 लाख मामले हैं और उसके बाद भारत का नंबर है जहां 4.25 केसेज आए हैं। ऐक्टिव केसेज में भी देशों का यही क्रम बरकरार है। हैरानी की बात ये है कि हमारा पड़ोसी देश पाकिस्‍तान इस लिस्‍ट में ठीक भारत के नीचे हैं। वहां पर अब तक 1.81 लाख केसेज आए हैं जिनमें से 1.06 लाख से ज्‍यादा ऐक्टिव हैं। यानी पाकिस्‍तान का रिकवरी रेट 39% के आसपास है।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *