टॉप-10 देशों में कोरोना के 4 लाख मरीज, 20 हजार मौतें

अमेरिका, चीन, इटली, स्पेन, जर्मनी, ईरान, फ्रांस, स्विट्जरलैंड, ब्रिटेन और साउथ कोरिया कोरोना से प्रभावित टॉप 10 देशों में हैं लिहाजा दुनिया के 538,693 संक्रमित लोगों में 4 लाख लोग इन्हीं देशों में हैं। वहीं, मृतकों की बात करें तो 24 हजार में से 20 हजार लोगों की मौत इन्हीं देशों में हुई है।
कोरोना वायरस ने अपना असली रूप मार्च में दिखाना शुरू किया जिस महीने अकेले 4 लाख लोग इसकी चपेट में आ गए। चीन के वुहान शहर में सबसे पहले दस्तक देने वाले इस वायरस ने पूरी दुनिया का भ्रमण कर लिया है और जो-जो इसके रास्ते आया इसने हर किसी को अपने चपेटे में ले लिया। मरने वालों की संख्या 24 हजार का आंकड़ा पार कर गई है तो संक्रमित लोगों की संख्या 5,38,693 है। कई देशों ने लॉकडाउन को विकल्प के रूप में चुना है तो कुछ ज्यादा से ज्यादा टेस्टिंग करने पर ध्यान दे रहे हैं। गिरती अर्थव्यव्था को सुधारने के लिए बेलआउट पैकेज की भी घोषणा की गई है। इन सबके बीच 3 अरब आबादी बुरी तरह से प्रभावित है जो बंदी का सामना कर रही है। आइए विस्तार से जानतें हैं कौन से देश हैं सबसे ज्यादा हलकान और इससे निपटने के लिए कैसी चल रही है लड़ाई।
चीन, इटली को पछाड़ टॉप पर पहुंचा अमेरिका
इस संकट की घड़ी में कई देश बुरी तरह प्रभावित हुए हैं। इनमें विश्व का सबसे शक्तिशाली देश अमेरिका भी शामिल है जिसने चीन और इटली को पछाड़ दिया है। यहां संक्रमित लोगों की संख्या 85 हजार हो गई है और मरने वालों का आंकड़ा 1200 से ऊपर है।
वर्ल्ड लीडर्स को WHO ने लगाई फटकार
WHO चीफ ने कोरोना वायरस को रोकने में नाकाम रहने पर वर्ल्ड लीडर्स को फटकार लगाई है। उन्होंने कहा कि इस मामले में एक महीने या फिर दो महीने पहले ही प्रभावी रूप से काम किए जाने की जरूरत थी।
भारत बंद
पीएम नरेंद्र मोदी ने 21 दिन के लॉकडाउन की घोषणा की है ताकि कोरोना के प्रसार को रोका जा सके। उन्होंने देशवासियों से लॉकडाउन को सफल बनाने की मांग की है। इस बीच लॉकडॉउन के कारण कई लोग जगह जगह फंस गए हैं इनमें से अधिकांश दिहाड़ी मजदूर हैं जो परिवहन के साधन बंद हो जाने के बाद पैदल ही सैकड़ों मील दूर अपने घर निकल गए हैं।
कई ऐसे हैं जिनके पास खाने को कुछ नहीं। ऐसे ही लोगों के लिए देशभर में हजारों लोग मदद को आगे आए हैं और उनके खानेपीने का प्रबंध कर रहे हैं।
पाकिस्‍तान में डॉक्टरों को भी दुआओं का सहारा
पाकिस्तान में संक्रमित लोगों की संख्या 1209 है और 9 लोगों की मौत हो गई है। पाकिस्तान के पास कोरोना से निपटने के लिए जरूरी संसाधन नहीं है। अमेरिका, विश्व बैंक, एशियाई विकास बैंक से आर्थिक मदद पाने के बाद अब इमरान खान ने आईएमएफ का दरवाजा खटखटाया है जो समय समय पर इसकी मदद करता आया है। यहां डॉक्टर्स भी अपने शिफ्ट की शुरुआत से पहले दुआ का सहारा ले रहे हैं।
भारत में 22 मार्च को जनता कर्फ्यू का आयोजन किया गया जिसमें पूरे देश में शाम 5 बजे कोरोना से निपटने में जुटे मेडिकल कर्मियों, सैन्यकर्मियों, पुलिसकर्मियों के लिए लोगों ने तालियां बजाईं। अब ऐसा ही नजारा दुनिया के दूसरे हिस्से में देखने को मिल रहा है। स्पेन में मेडिकल कर्मियों की गाड़ियां गुजरीं तो लोग उनके लिए ताली बजाते नजर आए। लंदन से भी ऐसी तस्वीरें सामने आई हैं।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »