ज्ञानवापी पर कांग्रेसी नेता खड़गे भी बोले, ऐसे मामले देश के लिए अच्‍छे नहीं

कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने ज्ञानवापी मुद्दे पर बयान दिया है। कांग्रेस नेता ने देश में इस वक्त सबसे चर्चित विवाद ‘ज्ञानवापी’ पर बोलते हुए कहा कि इस तरह के नए मामलों का सामने आना देश के लिए अच्छा नहीं है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि कुछ लोगों को विभाजित करने की कोशिश की जा रही है।
कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने मंगलवार को कहा, ज्ञानवापी का मामला कोर्ट में चल रहा है। अभी उस पर कुछ भी कहना सही नहीं है। ये जो नए-नए मुद्दे निकल रहे हैं, यह देश के लिए अच्छा नहीं है। यह हमारे देश के लोकतांत्रिक व्यवस्था को बिगाड़ने के लिए है। उन्होंने कहा कि 1947 में सभी मस्जिदों, मंदिरों, धार्मिक पूजा के अन्य स्थानों की स्थिति को बनाए रखने के लिए इसके संबंध में एक कानून भी बनाया गया ‘पूजा स्थल अधिनियम 1991’ लेकिन कुछ लोग लोगों को बांटने की कोशिश कर रहे हैं।
तिहास में नाम दर्ज कराने के लिए RSS ने क्या किया?
कर्नाटक में दसवीं कक्षा के छात्रों के लिए जारी संशोधित कन्नड़ पाठ्यपुस्तक में हेडगेवार के एक भाषण को शामिल करने के फैसले पर कांग्रेस नेता ने कहा, इतिहास में नाम दर्ज कराने के लिए RSS ने क्या किया? क्या उन्होंने आजादी के लिए लड़ाई लड़ी? अर्थव्यवस्था के लिए काम? यह सब नेहरू और गांधी थे। वे जेल नहीं गए और न ही उन्हें फांसी दी गई।
कांग्रेस को कमजोर करने की कोशिश कर रही है BJP
कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व वित्त मंत्री के खिलाफ CBI की कार्रवाई को लेकर मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा, बीजेपी अपने सदस्यों द्वारा कांग्रेस को कमजोर करने की कोशिश कर रही है। चिदंबरम एक अच्छे वकील और अर्थशास्त्री हैं। कांग्रेस में मुखर लोगों को निशाना बनाया जा रहा है। वे राज्य में निरंकुशता लाना चाहते हैं।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *