टाटा ग्रुप और मिस्त्री परिवार में फिर शुरू हुआ टकराव

मुंबई। टाटा ग्रुप और मिस्त्री परिवार में एक बार फिर ठन गई है। मिस्त्री परिवार के शापोरजी पल्लोनजी (एसपी) समूह ने शुक्रवार को कहा कि उसकी शेयर गिरवी रखकर धन जुटाने की योजना को टाटा समूह रोकने का प्रयास कर रहा है। यह अल्पांश शेयरधारकों के अधिकारों का हनन और बदले की भावना से की जाने वाली कार्यवाही है। टाटा समूह ने मिस्त्री समूह को शेयरों को गिरवी रखने के प्रयास को रोकने के लिए उच्चतम न्यायालय में अपील दायर की है। शापोरजी पल्लोनजी समूह के पास टाटा संस की 18.37 प्रतिशत हिस्सेदारी है।
टाटा संस ने मिस्त्री समूह को अपने टाटा संस के शेयरों से पूंजी जुटाने के प्रयास को रोकने के लिए 5 सितंबर को उच्चतम न्यायालय में अपील दायर की है। इस याचिका के जरिए टाटा का प्रयास एसपी समूह को प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष तरीके से शेयर गिरवी रखने से रोकना है। एसपी समूह विभिन्न कोषों से 11,000 करोड़ रुपये जुटाने की योजना बना रहा है। उसने कनाडा के एक चर्चित निवेशक से टाटा संस में अपनी 18.37 प्रतिशत हिस्सेदारी में से एक हिस्से के लिए पहले चरण में 3,750 करोड़ रुपये का करार किया है।
क्या है पूरा मामला
देश के सबसे बड़े कारोबारी घराने में शामिल एसपी समूह की हिस्सेदारी का मूल्य एक लाख करोड़ रुपये से अधिक है। कनाडा के निवेशक के साथ एसपी समूह द्वारा पक्का करार किए जाने के एक दिन बाद टाटा संस ने यह कदम उठाया है। एसपी समूह के एक प्रवक्ता ने कहा कि टाटा संस की इस विद्वेषपूर्ण कार्रवाई का मकसद हमारी धन जुटाने की योजना में अड़चन पैदा करना है। इससे एसपी समूह की विभिन्न इकाइयों के 60,000 कर्मचारियों के साथ एक लाख प्रवासी मजदूर का भविष्य प्रभावित होगा। प्रवक्ता ने कहा कि इससे समूह को काफी नुकसान होगा। समूह उच्चतम न्यायालय के समक्ष टाटा के इस दावे को कड़ी चुनौती देगा।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *