सीएम योगी का आदेश: संक्रमण छुपाने वालों के खिलाफ सख्त कार्यवाही करें

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि कोरोना वायरस के संक्रमण को छुपाने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करें। ऐसे लोग आइसोलेट न किए गए तो कोरोना कैरियर साबित होंगे।
सीएम योगी ने साफ शब्दो में कहा कि ऐसे लोगों को आश्रय देने वालों और उनकी तलाशी न लेने वाले थानेदारों के खिलाफ भी कड़ी कार्यवाही की जाए। यदि कहीं पुलिस, स्वास्थ्यकर्मी तथा स्वच्छताकर्मियों के साथ किसी प्रकार की अभद्रता होती है तो दोषी के विरुद्ध आपदा प्रबंधन अधिनियम, राष्ट्रीय सुरक्षा अधिनियम तथा आई.पी.सी. की सुसंगत धाराओं के तहत कठोर कार्रवाई की जाए।

उपद्रवी तत्वों द्वारा तोड़-फोड़ किए जाने पर नुकसान की भरपाई के लिए उपद्रवी तत्वों से ही वसूली की जाए। ऐसा न करने पर उनकी संपत्ति जब्त कर ली जाए। उन्होंने कहा है कि हेल्थ टीम के साथ पुलिस भी जाए।

सीएम योगी ने लोकभवन में गुरुवार को टीम-11 की बैठक में ये निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि पुलिस, स्वास्थ्य और स्वच्छताकर्मियों पर हमला करने वाले किसी भी कीमत पर बख्शे नहीं जाएंगे। उपद्रवियों से ही नुकसान की वसूली हो और न देने पर उनकी संपत्ति जब्त की जाए। हेल्थ टीम के साथ पुलिस भी जरूर भेजी जाए।

20 अप्रैल से शुरू होने वाले काम के लिए जारी करें निर्देश
योगी आदित्यनाथ ने कहा कि 20 अप्रैल से केंद्र के निर्देश पर कुछ गतिविधियों की अनुमति दी जा रही है। इन कार्यों के दौरान जरूरी सावधानी बरतें। हर यूनिट में मानकों का पालन हो। थर्मल स्कैनर और सेनेटाइजर की व्यवस्था हो। केंद्र के नियमों का ठीक से अध्ययन कर अनुमन्य गतिविधियों पर स्पष्ट शासनादेश जारी किया जाए। इसमें सभी सावधानियों का साफ तौर पर उल्लेख हो।
अनुमति के बाद ही इमरजेंसी सेवाएं
सीएम ने कहा कि अस्पतालों में इमरजेंसी सेवाएं सक्षम स्तर से अनुमति के बाद ही शुरू होंगी। सभी अस्पतालों में एन-95 मास्क, पीपीई सहित संक्रमण से सुरक्षा के उपकरण उपलब्ध रहें। इनके बिना इमरजेंसी सेवाएं शुरू न की जाएं। जिला प्रशासन यह सुनिश्चित करेगा कि संसाधन और प्रशिक्षण के बाद ही सेवाएं शुरू होंगी। टेलीमेडिसिन के जरिए भी डॉक्टरी सलाह उपलब्ध करवाई जाए।
‘नोडल अफसर फोन जरूर उठाएं’
योगी ने दूसरे राज्यों के लिए बनाए गए नोडल अफसरों के फोन न उठाने की शिकायतों पर नाराजगी जाहिर की। उन्होंने मुख्य सचिव से इसकी नियमित मॉनिटरिंग करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि नोडल अफसर फोन जरूर उठाएं और हर शिकायत का समुचित समाधान करवाएं। अन्य कॉल सेंटर पर भी आने वाली शिकायतों के समाधान में तत्परता बरती जाए।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *