सीएम योगी ने किया प्रदेशव्यापी निशुल्क राशन वितरण अभियान का शुभारंभ

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लखनऊ में योजना भवन के पास राशन की दुकान से गरीबों के लिए दोगुना निशुल्‍क राशन वितरण प्रारंभ किया। इस अभियान के तहत करीब पन्द्रह करोड़ से अधिक राशनकार्ड धारकों को मुफ्त में राशन मिलेगा। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इसका शुभारंभ करने के साथ पीएम नरेन्द्र मोदी का आभार जताया। मंत्री अपने-अपने क्षेत्र में इस योजना की शुरुआत करेंगे।
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रविवार को राजधानी में प्रदेशव्यापी निशुल्क राशन वितरण अभियान का शुभारंभ करते हुए पूर्व की सरकारों पर करारा हमला बोला। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने दस लोगों को राशन प्रदान किया, इस दौरान वह काफी भावुक भी हो गए। उन्होंने कहा कि आज हम गरीबों को जो निशुल्क राशन दे रहे हैं, वह प्रदेश में पहले भी था। 2017 से पहले यही खाद्यान्‍न माफिया के पास चला जाता था और वह लोग इसको बेच देते थे जबकि गरीब टकटकी लगाए देखता था। उसके हक का खाद्यान्‍न दूसरे देश चला जाता था। उन्होंने कहा कि प्रदेश में पहले काफी खाद्यात्रन घोटाला हुआ। पिछली सरकार के कार्यकाल में सैकड़ों लोगों की भूख से मौत हुई, लेकिन सरकार माफिया के दबाव में रही। डबल इंजन की सरकार का डबल खाद्यान्‍न का लाभ भी सबको मिले इसीलिए इसको वितरण योजना को होली तक आगे बढ़ाने का निर्णय भी लिया गया है। योगी आदित्यनाथ ने कहा कि पूर्ववर्ती सरकारों में प्रदेश में खाद्यान्न घोटाले हुए। गरीबों के अनाज को हड़प कर माफिया उसे दूसरे देशों में भेज देते थे। प्रदेश में भूख से मौतें भी होती थीं। भाजपा सरकार ने राशन वितरण की पारदर्शी व्यवस्था लागू कर इन घोटालों घपलों पर अंकुश लगा दिया है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि हमने राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम के तहत मुफ्त खाद्यान्न वितरण कार्यक्रम शुरू किया है। इस योजना से उत्तर प्रदेश में 15 करोड़ लोगों को फायदा होगा। उत्तर प्रदेश सरकार ने भी तीन महीने की अवधि के लिए मुफ्त खाद्यान्न वितरित किया है। उन्होंने कहा कि 2021 में कोरोना वायरस संक्रमण की दूसरी लहर के बाद हमने इस योजना के तहत तहत लगभग सात महीने रामनवमी से दिवाली तक मुफ्त अनाज दिया। इसके बाद हमने इसको होली तक बढ़ाया है। लोग दिवाली से होली तक महीने में दो बार अनाज ले सकते हैं।
मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारा शास्त्र भी कहता भूखे को रोटी महापुण्य का काम और अगर सरकारी योजना से जोड़कर दे तो और भी महापुण्य ही है। पीएम मोदी ने देश में खाद्यान्‍न वितरण का बड़ा अभियान शुरू किया है। देश के करीब 80 करोड़ लोग इससे लाभान्वित हो रहे हैं। यूपी में लगभग 15 करोड़ को फायदा हो रहा है। प्रधानमंत्री के निर्देश पर प्रदेश में हमने भी इसको शुरू किया है। हमने राज्य में अप्रैल से जून तक निशुल्क खाद्यान्‍न वितरण कराय। इसके बाद 2021 में दूसरी वेब आयी तो इसको फिर शुरू किया। केन्द्र सरकार ने सात महीने तक लगातार खाद्यन्‍न वितरण किया। राज्य सरकार ने भी जून, जुलाई, अगस्त में किया।
मुख्यमंत्री ने कहा कि इसी बीच दाल और तेल के दाम बढ़ने शुरू हुए तो हमने कहा कि अगर बाजार में महंगाई होगी तो सरकार अपनी तरफ से छूट देगी। आज हम निशुल्क राशन वितरण में दाल, खाद्य तेल, नमक, चीनी भी उपलब्ध करा रहे है। यह सब पैक्ड है। उन्होंने कहा कि कोरोना वायरण संक्रमण की तीसरी लहर की आहट के बीच में केन्द्र और राज्य की तैयारी पूरी है। राज्य में हमने फ्री टेस्ट, उपचार, वैक्सीन और राशन की व्यवस्था कर ली है। इस दौरान सभी को निशुल्क राशन भी मिलेगा।
सरकारी प्रवक्ता का दावा है कि रविवार से शुरू अभियान देश का सबसे बड़ा राशन वितरण अभियान होगा। सरकार की योजना का सीधा लाभ अंत्योदय और पात्र घरेलू राशनकार्ड धारकों को मिलेगा। अभियान की निगरानी अफसरों के साथ ही सांसद और विधायक भी करेंगे। योजना में अंत्योदय राशन कार्डधारकों और पात्र परिवारों को दोगुणा राशन वितरित किया जा रहा है। अंत्योदय अन्न योजना के तहत लगभग 1,30,07,969 इकाइयां और पात्र घरेलू कार्डधारकों की 13,41,77,983 इकाइयां प्रदेश में हैं।
दरअसल, कोरोना महामारी के दौर में शुरू हुई प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना नवंबर में खत्म हो गई थी। इसे देखते हुए मुख्यमंत्री ने अयोध्या से तीन नवंबर को प्रदेश सरकार की ओर से होली तक मुफ्त राशन वितरण की घोषणा की थी। उसके बाद से पात्र कार्डधारकों को हर महीने 10 किलो राशन मुफ्त दिया जा रहा है। केंद्र ने भी प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना को मार्च, 2022 तक बढ़ा दिया है। प्रदेश सरकार कार्ड धारकों को महीने में दो बार गेहूं और चावल दे रही है। राशन दुकानों से दाल, खाद्य तेल और नमक भी निशुल्क दिया जा रहा है। इस अभियान में पार्टी संगठन भी जुटा है।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *