चीन ने अचानक ताइवान की ओर भेजे दो विमानवाही पोत, शी पर उठे सवाल

पेइचिंग। कोरोना के मुद्दे पर चीन चौतरफा घिर गया है। अमेरिका सहित दुनिया के कई देशों ने उस पर इस महामारी के बारे में जानकारी छिपाने का आरोप लगाया है। अब देश के भीतर भी शीर्ष नेतृत्व पर सवाल उठने लगे हैं। इससे जनता का ध्यान भटकाने के लिए चीन का शीर्ष नेतृत्व अब राष्ट्रवाद को हवा देने में लगा है।
वह भारत के साथ सीमा पर लगातार तनाव बढ़ा रहा है और साथ ही उसने ताइवान की तरफ दो विमानवाही पोतों को रवाना कर दिया गया है। चीन के इस कदम से ताइवान पर हमले की आशंका बढ़ गई है। इससे अमेरिका और चीन के रिश्तों में तनाव और बढ़ सकता है।
अमेरिका के साथ बढ़ता तनाव
चीन के प्रधानमंत्री ली केकियांग ने हाल में कहा था कि उनका देश ताइवान को अपने साथ मिलाना चाहता है। विमानवाही पोत लियाओनिंग और शेडोंग अभी येलो सी की बोहाई खाड़ी में मिशन की तैयारी में लगे हैं। इन्हें ताइवान के करीब प्रटास आइलैंड्स पर भेजा जा रहा है। वहां ये दोनों जंगी जहाज युद्धाभ्यास में शामिल होंगे।
इससे पहले अमेरिका ने चीन की 33 कंपनियों पर प्रतिबंध लगा दिया था। इन कंपनियों पर अल्पसंख्यक वीगर समुदाय की जासूसी करने के मदद करने और चीन की सेना के साथ संबध रखने का आरोप था। कोरोना वायरस को लेकर भी अमेरिका और चीन में तनाव बढ़ता जा रहा है। अमेरिका का कहना है कि यह खतरनाक वायरस चीन में वुहान की लैब से निकला है लेकिन चीन इसका खंडन करता आया है। अमेरिका में इस महामारी ने सबसे ज्यादा कहर ढ़ाया है। वहां 17 लाख से अधिक लोग इससे संक्रमित हुए हैं जिनमें से करीब एक लाख लोगों की मौत हो गई है।
ताइवान के करीब बढ़ी सैन्य गतिविधियां
ताइवान का कहना है कि कोरोना वायरस के प्रकोप फैलने के बाद से चीनी सेना की दादागिरी बढ़ गई है। चीन के लड़ाकू विमान और जंगी जहाज लगातार ताइवान के आसपास युद्धाभ्यास कर रहे हैं। चीन इसे नियमित अभ्यास बताता है। ताइवान की आजादी की समर्थक साई इंग-वेन ने हाल में दूसरी बार राष्ट्रपति पद की शपथ ली। अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने उन्हें दोबारा निर्वाचित होने पर बधाई दी थी। इस बात से चीन चिढ़ गया है।
चीन का कहना है कि ताइवान उसके लिए सबसे संवेदनशील और अहम मुद्दा है। वह ताइवान को हर हाल में चीन में मिलाना चाहता है। ली केकियांग ने चीनी संसद की सालाना बैठक में कहा कि देश ताइवान की आजादी की किसी भी मुहिम का विरोध करेगा।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *