भारत से व्यापार संतुलन के लिए चीन ने कई वस्‍तुओं में दिलचस्‍पी दिखाई

नई दिल्‍ली। भारत से अपना व्यापार संतुलन बनाने के लिए चीन की भारतीय हिना (मेहंदी) पाउडर, मिर्च, वैल्यू ऐडेड टी और मोरिंगा पाउडर में दिलचस्पी बढ़ी है और वह इनका इम्पोर्ट करना चाहता है। हाल ही में शंघाई में हुए इम्पोर्ट फेयर में चीन के कारोबारियों ने इन कृषि उत्पादों के बारे में जानकारी ली थी। 5-10 नवंबर तक शंघाई में हुए दूसरे चाइना इंटरनेशनल इम्पोर्ट एक्सपो में तमिलनाडु के एक हिना पाउडर एक्सपोर्टर ने 3 करोड़ रुपये से अधिक के ऑर्डर बुक किए हैं।
हर्बल उत्पादों के लिए भारी इन्क्वायरी
एक अधिकारी ने बताया, ‘हर्बल उपयोग के लिए कृषि उत्पादों विशेष तौर पर मोरिंगा पाउडर, मिर्च पाउडर और वैल्यू ऐडेड टी के लिए काफी इंक्वायरी मिली है।’
भारत ने इस वर्ष अप्रैल-सितंबर के दौरान इन प्रोडक्ट्स का लगभग 20 करोड़ डॉलर का एक्सपोर्ट किया है। चीन अपने बड़े ट्रेडिंग पार्टनर्स के साथ ट्रेड डेफिसिट को कम करना चाहता है और इसी के लिए इम्पोर्ट एक्सपो जैसी कोशिशें की जा रही हैं। मौजूदा वित्त वर्ष के पहले छह महीनों में चीन को भारत का एक्सपोर्ट 8.5 अरब डॉलर और इम्पोर्ट 36.3 अरब डॉलर का रहा। पिछले वित्त वर्ष में चीन के साथ भारत का ट्रेड डेफिसिट 53.6 अरब डॉलर का था।
ऑर्गेनिक सर्टिफिकेशन देना चाहता है चीन
अधिकारी ने कहा, ‘चीन हमें ऐसे कृषि उत्पादों के लिए ऑर्गेनिक सर्टिफिकेशन उपलब्ध कराना चाहता है क्योंकि चीन में ऑर्गेनिक प्रॉडक्ट्स की डिमांड बहुत अधिक है।’ इंपोर्ट एक्सपो में फार्मास्युटिकल्स, मेडिकल इक्विपमेंट एंड हेल्थकेयर प्रोडक्ट्स, ऑटोमोबाइल, ट्रेड इन सर्विसेज, फूड एंड एग्रीकल्चर प्रॉडक्ट्स जैसी मुख्य प्रॉडक्ट कैटेगरी थी।
स्कैनर और इंजीनियरिंग प्रोडक्ट्स जैसे एरिया में भारतीय कंपनियों के साथ जॉइंट वेंचर पर भी बातचीत की गई। फेडरेशन ऑफ इंडियन एक्सपोर्ट ऑर्गनाइजेशंस (FIEO) के डायरेक्टर जनरल अजय सहाय ने बताया, ‘कई कंपनियां भारत को अपना एक्सपोर्ट बेस बनाने के साथ ही भारतीय मार्केट में भी बिजनेस करना चाहती हैं। ऐसी कंपनियों के पास कम कॉरपोरेट टैक्स रेट का इंसेंटिव है।’
चीन को भारत से मैरीन उत्पादों का निर्यात तिगुना
चीन को भारत के एक्सपोर्ट में बढ़ोत्तरी में मरीन प्रोडक्ट्स, ऑर्गेनिक केमिकल्स, प्लास्टिक, पेट्रोलियम प्रोडक्ट्स, चावल और अंगूर का बड़ा योगदान है। चीन को भारत की ओर से मैरीन प्रोडक्ट्स का एक्सपोर्ट तिगुना हुआ है और 2019 के पहले नौ महीनों में यह लगभग 80 करोड़ डॉलर पर पहुंच गया। इसके मौजूदा कैलेंडर ईयर के अंत तक एक अरब डॉलर को पार करने की उम्मीद है।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »