अपने लोगों को सीबीआई से बचाना चाहते हैं चंद्रबाबू और ममता बनर्जी

भोपाल। केंद्रीय वित्तमंत्री अरुण जेटली ने सीबीआई के अपने राज्य में घुसने पर रोक लगाने के लिये पश्चिम बंगाल और आंध्र प्रदेश सरकार को आड़े हाथों लिया है। जेटली का कहना है कि अपने भ्रष्टाचार को छुपाने के लिए यह कदम उठाया गया है। उन्होंने नोटबन्दी को भी देशहित में उठाया गया सबसे नैतिक कदम बताया है। उन्होंने दावा किया कि 5 राज्यों के विधानसभा चुनावों पर नोटबंदी का कोई विपरीत असर नहीं पड़ेगा।
जेटली शनिवार को भोपाल में थे। वह बीजेपी का चुनावी घोषणा पत्र जारी करने आए थे। मीडिया से बात करते हुए उन्होंने कहा कि जिन राज्यों ने सीबीआई को अपने राज्य में न घुसने देने की बात कही है वे अपने लोगों को बचाना चाहते हैं और भ्रष्टाचार को छिपाना चाहते हैं, लेकिन इससे उन्हें कुछ हासिल नहीं होगा क्योंकि इससे घोटाले खत्म नहीं हो जाएंगे।
सीबीआई खुद नहीं करती किसी मामले की जांच
जेटली ने कहा कि हमारे देश में संघीय व्यवस्था है। सीबीआई का गठन ही गंभीर मामलों की जांच के लिए हुआ था। सीबीआई खुद किसी राज्य के मामले की जांच नहीं करती। जब राज्य उससे अनुरोध करते हैं तभी वह जांच अपने हाथ में लेती है। उसे रोकने का कदम जो राज्य उठा रहे हैं, उन्हें भय है। वे कुछ छिपाना चाहते हैं। उन्होंने सवाल किया कि क्या सीबीआई को रोकने से बंगाल का सारदा घोटाला खत्म हो जाएगा? जहां तक आंध्र प्रदेश की सरकार का सवाल है, तो उसने किसी को बचाने के लिए यह कदम उठाया है। वित्तमंत्री ने साफ कहा कि भ्रष्टाचार को छिपाने के लिए सीबीआई को रोका जा रहा है।
नायडू ने आंध्र प्रदेश में सीबीआई के प्रवेश पर लगाई रोक
बता दें कि आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू ने शुक्रवार को यह कहा था कि सीबीआई अब भरोसे के लायक नहीं बची है। बीजेपी के नेतृत्व बाली केंद्र सरकार सीबीआई और आयकर विभाग के सहारे मेरी सरकार गिराना चाहती है इसलिए उन्होंने अपने राज्य में सीबीआई के प्रवेश पर रोक लगाई है। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भी उनका समर्थन किया है।
जेटली ने नोटबंदी का भी खुलकर बचाव किया। उन्होंने कहा कि जब मोदी ने सत्ता संभाली थी तब देश में सिर्फ 3 करोड़ 80 लाख लोग टैक्स भरते थे। आज यह संख्या 6 करोड़ 86 लाख हो गई है। जेटली ने दावा किया कि नोटबंदी देशहित में उठाया गया एक नैतिक कदम था। नोटबंदी और जीएसटी लागू होने के बाद देश तेजी से विकास के रास्ते पर आगे बढ़ा है।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *