चंपत राय का राम भक्तों से आह्वान, भूमि पूजन में शामिल होने को व्‍यग्र न हों

अयोध्‍या। श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय ने श्रीराम भक्तों से फिर आह्वान किया है कि अयोध्या में मंदिर निर्माण के लिए पांच अगस्त को होने वाले भूमि पूजन कार्यक्रम में शामिल होने के लिए व्यग्र न हों।
सभी लोग अपने स्थान से दूरदर्शन पर समारोह का सजीव प्रसारण देखें और सायंकाल अपने घर पर दीपक जलाकर इस दिव्य और भव्य अवसर का स्वागत करें। लोगों से अपील करते हुए चंपत राय ने कहा कि लोगों के मन में जो खुशी है वह व्यवहार में प्रकट होनी चाहिए। पांच अगस्त को मंदिरों में भजन पूजन कीर्तन प्रसाद वितरण के साथ-साथ मंदिरों को सजाना चाहिए।
श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय ने बुधवार को बयान जारी कर कहा कि 1984 में प्रारंभ हुए श्रीराम जन्म भूमि मंदिर निर्माण आंदोलन में लाखों-करोड़ों श्रीराम भक्तों का प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष सहयोग प्राप्त हुआ है। उन सभी की यह स्वाभाविक इच्छा होगी कि वे इस भूमि पूजन के पवित्र व ऐतिहासिक अवसर पर प्रत्यक्ष उपस्थित रहें। श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र न्यास सभी राम भक्तों से निवेदन करता है कि अयोध्या पहुंचने के लिए व्यग्र न हों, सभी लोग अपने स्थान से दूरदर्शन पर समारोह का सजीव प्रसारण देखें और सायंकाल अपने घर पर दीपक जलाकर दिव्य भव्य अवसर का स्वागत करें। भविष्य में किसी उचित अवसर पर राम जन्मभूमि मंदिर निर्माण यज्ञ में सभी राम भक्तों को सम्मिलित होने का अवसर मिले, यह प्रयास अवश्य होगा।
तीन हजार स्थानों की मिट्टी व जल पहुंचा राम नगरी: श्रीराम मंदिर निर्माण की सरगर्मी तेज हो गयी है। नींव में देश के कोने-कोने की मिट्टी व जल का इस्तेमाल किया जाएगा। मंगलवार तक मध्य प्रदेश, बिहार व झारखंड सहित कई राज्यों के तकरीबन तीन हजार स्थानों की मिट्टी व जल भूमिपूजन के लिए श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के रामकचहरी मंदिर स्थित कार्यालय में पहुंच चुका है। कुछ लोग हजारों किलोमीटर वाहन चलाकर मिट्टी और जल जमा करने यहां पहुंचे तो कई लोगों ने स्पीड पोस्ट व कोरियर से पूजित मिट्टी एवं जल भेजा है। ट्रस्ट के कार्यालय प्रभारी प्रकाश कुमार गुप्त ने बताया कि गत कई दिनों से मिट्टी व जल आने का सिलसिला जारी है।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *