बेरोजगारी के कांग्रेसी आंकड़ों को नीति आयोग के चेयरमैन ने फर्जी बताया

नई दिल्‍ली। गुरुवार को बेरोजगारी के आंकड़े पर आधारित मीडिया रिपोर्ट पर मचे विवाद के बीच नीति आयोग के वाइस चेयरमैन राजीव कुमार ने कहा, ‘डेटा कलेक्शन का तरीका अब अलग है। दो डेटा सेटों में तुलना करना सही नहीं है। यह डेटा प्रमाणित नहीं है। इस रिपोर्ट को फाइनल के तौर पर मानना सही नहीं है।’
दरअसल, नेशनल सैंपल सर्वे ऑफिस (NSSO) के कथित आंकड़ों पर आधारित मीडिया रिपोर्ट के सामने आने के बाद कांग्रेस और बीजेपी में सियासी घमासान मच गया है।
इस एक रिपोर्ट में दावा किया गया है कि 2017-18 में बेरोजगारी की दर 6.1 फीसदी रही, जो पिछले 45 वर्षों में सबसे ज्यादा है।
कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने इसी रिपोर्ट को शेयर करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमला बोला।
वहीं नीति आयोग के वाइस चेयरमैन राजीव कुमार ने लीक्ड रिपोर्ट पर कहा है कि सरकार ने डेटा (जॉब्स पर) रिलीज ही नहीं किया है और यह अभी प्रक्रिया में है। जब डेटा तैयार हो जाएगा तो हम इसे जारी करेंगे।
राहुल गांधी ने कहा, राष्ट्रीय त्रासदी
इससे पहले राहुल गांधी ने दावा किया कि हर साल दो करोड़ नौकरियां देने का वादा करने वाले प्रधानमंत्री का रिपोर्ट कार्ड ‘राष्ट्रीय त्रासदी’ के रूप में सामने आया है।
राहुल ने ट्वीट कर कहा, ‘नौकरी नहीं है। फ्यूरर (हिटलर) ने हर साल दो करोड़ नौकरियों का वादा किया था। 5 साल बाद रोजगार सृजन पर लीक हुई रिपोर्ट से राष्ट्रीय त्रासदी सामने आई है।’
उन्होंने दावा किया, ‘बेरोजगारी की दर 45 वर्षों के सबसे उच्चतम स्तर पर है। अकेले 2017-18 में 6.5 करोड़ युवा बेरोजगार थे।’
राहुल ने आगे कहा कि नरेंद्र मोदी के जाने का समय आ गया है। कांग्रेस अध्यक्ष ने इससे संबंधित खबर भी शेयर की है। रिपोर्ट में दिए गए आंकड़ों के मुताबिक 2017-18 में बेरोजगारी की दर 6.1 फीसदी रही। कांग्रेस के प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने जॉब्स पर NSSO रिपोर्ट को रोकने का सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि यही वजह है कि राष्ट्रीय सांख्यिकी आयोग के मेंबर्स ने इस्तीफा दे दिया।
BJP का पलटवार, कांग्रेस अध्यक्ष को मामूली समझ
रोजगार सृजन पर सरकार पर निशाना साध रहे कांग्रेस अध्यक्ष पर कुछ देर में ही बीजेपी ने पलटवार किया। गुरुवार को बीजेपी ने आरोप लगाया कि कांग्रेस अध्यक्ष को मुद्दों की मामूली समझ है और जिसके पास कोई काम नहीं है, वही ऐसी फर्जी खबरें फैला सकता है। बीजेपी ने ट्वीट किया कि गांधी को इतालवी तानाशाह मुसोलिनी से विरासत में निकट दृष्टिदोष मिला है। बीजेपी ने कहा, ‘स्पष्ट है कि उन्हें विरासत में मुसोलिनी का निकट दृष्टिदोष मिला है और उन्हें मुद्दों की मामूली समझ है। EPFO का वास्तविक आंकड़ा रोजगार में बहुत अधिक वृद्धि दर्शा रहा है और यह महज पिछले 15 महीनों में पैदा हुए रोजगार हैं।’
सत्तारूढ़ पार्टी के ट्विटर हैंडल से ट्वीट किया गया, ‘केवल जिस व्यक्ति के पास कभी कोई काम नहीं हो और पूरी तरह बेरोजगार हो, वही ऐसी फर्जी खबरें फैला सकता है।’ राहुल ने अपने ट्वीट में लिखा था, ‘टाइम फॉर NoMo2Go’। गांधी ने हैशटैग ‘हाउ इज द जॉब्स’ के साथ एक खबर टैग की है, जिसमें NSSO 2017-18 की रिपोर्ट का हवाला दिया गया है।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *