किसी भी उम्र के व्यक्ति को परेशान कर सकती है पीठ पर दानों की समस्या

पीठ पर दाने होने की समस्या किसी भी उम्र के व्यक्ति को परेशान कर सकती है। महिलाओं और पुरुषों दोनों में ही यह समस्या होना बहुत सामान्य है। हालांकि टीनऐज में ज्यादातर बच्चों की पीठ पर दाने, शरीर में होने वाले हॉर्मोनल बदलाव के कारण होते हैं लेकिन कुछ बच्चों में इसकी वजह अनुवांशिक या त्वचा का बहुत अधिक तैलीय होना भी हो सकती है।
पीठ पर होने वाले दानों के प्रकार
-हर व्यक्ति की पीठ और कंधों पर होने वाले दाने अलग-अलग प्रकार के हो सकते हैं। इनमें कुछ लोगों को ऐक्ने की समस्या अधिक होती है तो कुछ लोगों की पीठ पर पस या मवाद वाले दाने होते हैं, जो पकने के बाद फूटते भी हैं। ये फुंसियां नहीं होती हैं लेकिन फुंसी जैसे ही दाने होते हैं और इनमें दर्द नहीं होता है।
अलग-अलग प्रकार के दाने
-जबकि कुछ लोगों की पीठ पर ऐसे दाने होते हैं जो शुरुआत में ऐक्ने की तरह होते हैं, फिर धीरे-धीरे बड़े होते रहते हैं और इस दौरान इनका रंग सुर्ख लाल होता है। इनमें बहुत अधिक दर्द होता है। ये दानें पकने पर फूटते नहीं है बल्कि खुद ही धीरे-धीरे सूखने लगते हैं और त्वचा पर निशान छोड़ते हैं।
दाने निकलने के कारण
-आमतौर पर पीठ पर दाने निकलने का कारण शरीर में हॉर्मोनल असंतुलन या बदलाव होता है लेकिन कुछ मामलों में यह पेट से जुड़ी समस्या के कारण भी होता है।
-जिन लोगों को कब्ज की समस्या रहती है, पेट ठीक से साफ नहीं होता है, पाचन ठीक से नहीं होता है या पेट में कोई दूसरी अंदरूनी दिक्कत होती है, उन लोगों को भी पीठ पर दाने निकलने की समस्या हो सकती है।
-टीनेजर गर्ल्स और कई बड़ी उम्र की महिलाओं में पीरियड्स के दौरान इस तरह पीठ पर दाने या ऐक्ने होने की समस्या होती है। यदि ये दाने पीरियड्स बंद होने पर खुद ही ठीक हो जाते हैं, तो इन्हें लेकर किसी तरह की चिंता करने की जरूरत नहीं है। यदि ऐसा नहीं होती है तब आप उपचार पर विचार कर सकती हैं।
मेंटल हेल्थ पर बुरा असर
-पीठ पर होने वाले ये दानें शारीरिक स्वास्थ्य और खूबसूरती को तो खराब करते ही हैं, साथ ही मानसिक तौर पर भी बहुत अधिक दबाव और तनाव का कारण बनते हैं। खासतौर पर बड़े होते बच्चे इन दानों के चलते खुद को हीन या किसी गंभीर रोग से ग्रसित समझने लगते हैं।
-इसलिए जरूरी है कि ऐसी समस्या होने पर आप अपने बच्चे का मनोबल बढ़ाएं और उसे सही मार्गदर्शन दें। पीठ पर दाने होना आपके और हमारे लिए छोटी-सी बात हो सकती है, लेकिन टीनेजर बच्चों के लिए यह एक बहुत बड़ी समस्या होती है।
बैक्टीरिया भी होता है दानों का कारण
-लंबे समय तक दवाइयों का सेवन करने या किसी दवाई के साइड इफेक्ट के कारण भी पीठ पर दाने निकलने की समस्या हो सकती है। इसके साथ ही जिन लोगों की त्वचा बहुत अधिक संवेदनशील होती है और तैलीय होती है, उनकी त्वचा पर एक खास तरह का बैक्टीरिया एक्टिव हो जाता है।
-यह बैक्टीरिया आपकी पीठ की त्वचा पर एक जगह से दूसरी जगह मूव करते हुए अलग-अलग स्थान पर दाने बनने का कारण होता है। यदि लंबे समय तक इन दानों पर ध्यान ना दिया जाए तो ये दाने पीठ से बढ़कर कमर और पेट तक भी आ सकते हैं।
पीठ के दानों का घरेलू उपचार
-पीठ पर निकलने वाले इन दानों से मुक्ति पाने का घरेलू उपचार बहुत ही आसान है। यह आपको आपकी समस्या से पूरी तरह मुक्ति दिलाने में प्रभावी है। इसके लिए आप गर्मियों में नारियल तेल और सर्दियों में सरसों तेल का उपयोग कर सकते हैं।
-सबसे पहले आप एक बड़ा चम्मच सरसों या नारियल तेल लें। अब इस तेल में आधा चम्मच अजवाइन और 4 से 5 कली बारीक कटा लहसुन डालकर तेल को धीमी आंच पर 5 मिनट तक पकाएं। यदि आप लहसुन का उपयोग नहीं करना चाहते हैं तो मेथी दाना का उपयोग कर सकते हैं।
-जब तेल अच्छी तरह पक जाए तो इसे ठंडा होने दें। फिर इस तेल को छानकर एक शीशी में भर लें और दिन में दो बार इस तेल से पीठ की मालिश करें।
मालिश के लिए अपनाएं यह तरीका
-सुबह नहाने से पहले और रात को सोने से पहले इस तेल से पीठ पर अच्छी तरह मसाज करने से ना केवल दाने निकलने की समस्या दूर हो जाएगी बल्कि त्वचा के दाग-धब्बे भी साफ हो जाएंगे।
-इस उपाय से मात्र 4 से 5 दिन में आपको फर्क दिखने लगेगा। यदि किसी भी कारण से सप्ताहभर के अंदर आपको राहत ना मिले तो आप तुरंत स्किन स्पेशलिस्ट को दिखाएं। क्योंकि यह किसी गंभीर समस्या का संकेत भी हो सकते हैं।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *